Covid-19 Update

1,99,197
मामले (हिमाचल)
1,91,732
मरीज ठीक हुए
3,394
मौत
29,633,105
मामले (भारत)
177,414,471
मामले (दुनिया)
×

कोरोना से जंग लड़ रहे कर्मचारियों की मौत पर 50 लाख देगी Jai Ram सरकार

कोरोना से जंग लड़ रहे कर्मचारियों की मौत पर 50 लाख देगी Jai Ram सरकार

- Advertisement -

शिमला। कोरोना इमरजेंसी के चलते हिमाचल (Himachal) को करीब चार सौ करोड़ की चपत लगी है। हिमाचल को चार सौ करोड़ वित्तीय घाटा हुआ है। अप्रैल में साढ़े चार सौ करोड़ से ज्यादा सरकार का अपना राजस्व आने की संभावना थी, लेकिन यह 40 से 45 करोड़ ही आया है। यह जानकारी सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने मीडिया से बातचीत करते हुए दी। उन्होंने कहा कि सरकार ने निर्णय लिया, अगर किसी डॉक्टर, पैरा मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मचारी और पुलिस कर्मी की कोरोना के चलते मृत्यु हो जाती है तो परिवार वालों को 50 लाख देने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें: राहतः Hamirpur कोरोना पॉजिटिव लोगों के परिवार के सभी सदस्यों की रिपोर्ट नेगेटिव

सम्मान निधि में पांच लाख 62 हजार से ज्यादा किसानों को दो हजार प्रति माह दिया गया है। इस पर 112 करोड़ 55 लाख के करीब खर्च हो चुका है। प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत तीन माह तक महिलाओं के खाते में प्रति माह 500 रुपए डाला जा रहा है। इस पर 29.5 करोड़ खर्च होंगे। उज्जवला योजना के तहत निशुल्क गैस सिलेंडर देने का प्रावधान किया गया है।


हिमाचल प्रदेश भवन व अन्य सनिर्माण के तहत पंजीकृत मजदूरों के पीएफ खाते में दो-दो हजार रुपए डाले गए हैं। इस पर 15 करोड़ 12 लाख खर्च किया गया है। हिमाचल में टास्क फोर्स का गठन किया है। यह टास्क फोर्स इस बात को सुनिश्चित करती है किसी की किस रूप में मदद की जा सकती है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन टू 15 से शुरू हुआ है। 20 तक चेंज नहीं था। अब इसमें सीमित छूट ही दे पाएंगे। क्योंकि अभी हिमाचल के 12 जिलों में 6 जिले प्रभावित हुए हैं। 6 इससे दूर हैं। अगर कोई बड़ी छूट दी जाती है और कहीं चूक हुई तो मामले हर जगह पहुंच जाएंगे।

यह भी पढ़ें: बाहरी राज्यों से बिना अनुमति Kangra पहुंचे लोगों की क्वारंटाइन में बिगड़ी तबीयत-Tanda में भर्ती

हिमाचल में पहले दो जगह डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज, अस्पताल टांडा और आईजीएमसी में टेस्टिंग सुविधा थी। इसके बाद कसौली में शुरू की गई है। अब आईएचबीटी पालमपुर में शुरू होने जा रही है। मेडिकल कॉलेज नेरचौक के लिए भी आईसीआर से मंजूरी मांगी गई है। उन्होंने सांसद रामस्वरूप शर्मा के विषय पर कहा कि वह दिल्ली से आने के बाद घर नहीं गए हैं। पुराने घर में होम क्वारंटाइन हैं। जो उनके साथ आएं हैं वह भी अपने घर नहीं गए हैं और किसी से नहीं मिले हैं। उनकी सांसद रामस्वरूप शर्मा से व्यक्तिगत रूप से बातचीत हुई है।

यह भी पढ़ें:  इन जिलों के सरकारी कार्यालयों में कामकाज शुरू, Red Zone को करना पड़ सकता है इंतजार

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है