Covid-19 Update

2,00,410
मामले (हिमाचल)
1,94,249
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,933,497
मामले (भारत)
179,127,503
मामले (दुनिया)
×

नूरपुरः दो पंचायतों के गांव में पीलिया का अटैक, एक युवक की मौत

नूरपुरः दो पंचायतों के गांव में पीलिया का अटैक, एक युवक की मौत

- Advertisement -

ऋषि महाजन/नूरपुर। उपमंडल की दो पंचायतों नागबाड़ी व छतरोली के कुछ गांवों में 19 पीलिया के मामले सामने आए हैं। छतरोली पंचायत के गांव ग्योरा में लगभग 19 लोग व नागाबाड़ी पंचायत के गांव नगलाहड़ में लगभग 10 लोगों को पीलिया होने की बात सामने आई है। वहीं, नंगलाहड़ गांव के ही विशाल सेन पुत्र मनमोहन सिंह (17) की मौत भी पीलिया से हुई बताई जा रही है। विशाल सेन का छोटा भाई सौरभ भी इसी बीमारी के चलते उपचार ले रहा है। हालांकि पीलिया कैसे फैला इसका सही कारण अभी तो मालूम नहीं, लेकिन बताया जा रहा है कि पेयजल पाइपें जगह-जगह से लीक हुई हैं और कुछ एक जगहों पर गंदी नालियों से गुजर रही हैं। हालांकि, आईपीएच विभाग ने इसे खारिज किया है।


नागलाहड़ गांव के रघुवीर सिंह, करनैल सिंह, स्वर्णलता, सुरजीत सेन, मनमोहन सिंह व विशाल आदि लोगों ने बताया कि उनके परिजन पीलिया की बीमारी से पीड़ित हैं। अतः प्रशासन से मांग की है कि उक्त स्थिति की जांच की जाए, नहीं तो समस्या और विकराल हो सकती है। कार्यवाहक प्रधान विजय सेन छतरोली ने कहा कि करीब 19 लोग पीलिया से पीड़ित हैं व स्वास्थ्य विभाग ने उक्त लोगों के लिए जागरूकता अभियान भी चलाया है। बीएमओ नूरपुर डॉ. नीरजा गुप्ता ने बताया कि उक्त बीमारी की जानकारी मिलने पर विभागीय टीम ने लोगों को उक्त बीमारी से बचने के लिए जागरूक अभियान चलाया जा रहा है। लोगों को पानी उबालकर पीने की हिदायत भी दी गई है।

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

 

इस संबंध में आईपीएच विभाग को भी अवगत करवा दिया गया है। एक्सईन आईपीएच विभाग केके कपूर ने बताया कि विभाग पानी की लगातार जांच करता रहता है। उन्होंने बताया कि उक्त योजना के तहत 12 से 13 गांवों को सप्लाई जाती है, ऐसी स्थिति अन्य जगह भी होनी चाहिए थी। विभाग द्वारा जब गांव के लोगों की टंकियों का निरीक्षण किया गया तो उन में सफाई व्यवस्था का अभाव पाया गया। कुछ समय पहले पीडब्ल्यूडी द्वारा चलाए गए कार्य के चलते पानी की सप्लाई को बंद किया गया था। इस दौरान लोगों ने टैंकरों के द्वारा, कुएं या घर की टंकियों का पानी इस्तेमाल किया हो सकता है, जिसके चलते भी यह नौबत आ सकती है। फिर भी विभाग सप्लाई के सैंपल टांडा मेडिकल कॉलेज जांच के लिए भी भेजे हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group … … 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है