Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

जब पाठ्यक्रम ही अलग तो डीएलएड में B.Ed. को कैसे किया जा सकता है शामिल

जब पाठ्यक्रम ही अलग तो डीएलएड में B.Ed. को कैसे किया जा सकता है शामिल

- Advertisement -

धर्मशाला। बीजेपी विधायक विशाल नेहरिया ने डीएलएड/ जेबीटी प्रशिक्षित बेरोजगार संघ की मांग को जायज ठहराते हुए कहा कि जब पाठ्यक्रम ही अलग तो डीएलएड/जेबीटी कमीशन में बीएड (B.Ed.) को कैसे शामिल किया जा सकता है। बता दें कि डीएलएड/ जेबीटी (JBT) प्रशिक्षित बेरोजगार संघ के सदस्य अभिषेक, करण, प्रदीप, अविनाश व अजय ने एबीवीपी (ABVP) के साथ मिलकर धर्मशाला के विधायक विशाल नेहरिया को एक ज्ञापन सौंपा। मांग की है कि बीएड को डीएलएड/ जेबीटी कमीशन में शामिल ना किया जाए। विशाल नेहरिया ने कहा कि आप लोगों की यह मांग बिल्कुल जायज है, जब बीएड और डीएलएड/ जेबीटी का पाठ्यक्रम अलग है तो कैसे बीएड को डीएलएड/ जेबीटी में शामिल किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें: जयराम ठाकुर के समक्ष Taxi Operator की समस्याएं उठाएंगे विधायक, दिया आश्वासन

दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल सहित अन्य राज्यों में भी डीएलएड/ जेबीटी को प्राथमिकता दी गई है। एनसीटीई (NCTE) की 2018 की अधिसूचना के अनुसार डीएलएड/ जेबीटी के स्थान पर लगाने की बात की गई थी, जहां डीएलएड/ जेबीटी की संख्या कम तथा प्राथमिक अध्यापकों की मांग अधिक थी, लेकिन हिमाचल में ऐसी स्थिति नहीं है। यहां लगभग 20,000 से 22,000 प्रशिक्षु प्रशिक्षित हैं। डीएलएड/ जेबीटी प्रशिक्षित बेरोजगार संघ ने प्रदेश सरकार से अनुरोध किया है कि वो डीएलएड/ जेबीटी के पक्ष में दिशा निर्देश जारी करे। इसके लिए डीएलएड/ जेबीटी प्रशिक्षित बेरोजगार संघ आपका आजीवन आभारी रहेगा।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है