Covid-19 Update

3,08, 133
मामले (हिमाचल)
301, 551
मरीज ठीक हुए
4166
मौत
44,286,256
मामले (भारत)
597,184,669
मामले (दुनिया)

CWG 2022: जेरेमी ने देश को दिलाया दूसरा स्वर्ण पदक, दर्द के बावजूद नहीं मानी हार

स्नैच राउंड में उनका बेस्ट 140 किलो रहा

CWG 2022: जेरेमी ने देश को दिलाया दूसरा स्वर्ण पदक, दर्द के बावजूद नहीं मानी हार

- Advertisement -

बर्मिंघम में कॉमनवेल्थ गेम्स के 22वें एडिशन में भारत को पांचवां मेडल वेटलिफ्टिंग के मेंस 67 किग्रा वर्ग फाइनल में जेरेमी लालरिनुंगा (Jeremy Lalrinnunga) ने स्वर्ण पदक जीतकर एक नया रिकॉर्ड कायम किया है। मिजोरम के आइजोल की रहने वाले 19 वर्षीय भारोत्तोलक ने कुल 300 किग्रा (स्नैच में 140 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 160 किग्रा) का भार उठाया।

ये भी पढ़ें-कॉमनवेल्थ वेटलिफ्टिंग में इंग्लैंड से ज्यादा कामयाब भारत, इस बार 4 मेडल किए अपने नाम

बता दें कि शनिवार को मीराबाई चानू (Mirabai chanu) द्वारा शनिवार को 49 किग्रा वर्ग महिलाओं में स्वर्ण पदक जीतने के बाद चल रही प्रतियोगिता और भारोत्तोलन में भारत का दूसरा स्वर्ण पदक जीता। इसी के चलते अब मेडल टेबल पर भारत छठे नंबर पर आ गया है। समोआ के वैपावा नेवो इयोने ने 293 किग्रा (127 और 166 किग्रा) के साथ रजत पदक जीता। जबकि, नाइजीरिया के एडिडियॉन्ग जोसेफ उमोफिया ने 290 किग्रा (130 और 160 किग्रा) की कुल लिफ्ट के साथ कांस्य पदक अपने नाम किया, जिससे जेरेमी द्वारा स्नैच में बनाया गया 10 किग्रा अंतर निर्णायक साबित हुआ। राष्ट्रीय प्रदर्शनी केंद्र में जेरेमी ने प्रतियोगिता के स्नैच चरण में अपने पहले प्रयास में 136 किग्रा भार उठाकर शुरूआत की और तुरंत बढ़त बना ली। बाद में उन्होंने 140 किग्रा लिफ्ट के साथ सुधार किया और 143 किग्रा उठाने के तीसरे प्रयास में असफल होने के बावजूद जेरेमी स्नैच चरण के अंत में 10 किग्रा की बढ़त के साथ प्रतियोगिता में शीर्ष पर बने रहे।

नहीं मानी हार

क्लीन एंड जर्क राउंड में, जेरेमी ने 154 किग्रा की सफल लिफ्ट के साथ शुरुआत की, लेकिन इस प्रक्रिया में वह घायल हो गए। वह दूसरे प्रयास में सफलतापूर्वक 160 किग्रा उठाने के लिए वापस आए और अपने कुल योग भार को 300 किग्रा तक ले गए, लेकिन उन्हें लिफ्ट पूरी करने के बाद पीठ में कुछ दर्द महसूस हुआ। अपने 100 प्रतिशत सर्वश्रेष्ठ नहीं होने के बावजूद, जेरेमी ने 165 किग्रा उठाने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने में असफल रहे। इस दौरान वह घायल हो गए। सपोर्ट स्टाफ जेरेमी को जल्दी से बैकस्टेज ले गए। इयोने क्लीन एंड जर्क के अपने अंतिम प्रयास में 174 किग्रा नहीं उठा सके, जिससे जेरेमी और भारत को स्वर्ण पदक (Gold Medal) मिला।

जेरेमी ने अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में 2018 युवा ओलंपिक में 274 किग्रा (स्नैच में 124 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 150 किग्रा) की लिफ्ट के साथ लड़कों के 62 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था, जो प्रतियोगिता के इतिहास में भारत का पहला स्वर्ण पदक विजेता बन गया था। उन्होंने ताशकंत, उज्बेकिस्तान में 2021 राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप के दौरान पुरुषों के 67 किग्रा वर्ग में 305 किग्रा (स्नैच में 141 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 164 किग्रा) उठाकर स्वर्ण पदक जीता था, जिसने वो 2022 राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई कर पाए।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है