×

Kiratpur-Manali Fourlane : जिया में बस्ती उजड़ने से डरे प्रभावितों ने Gadkari को भेजी पाती

Kiratpur-Manali Fourlane : जिया में बस्ती उजड़ने से डरे प्रभावितों ने Gadkari को भेजी पाती

- Advertisement -

कुल्लू । भुंतर स्थित जिया फेटावन निवासी फोरलेन की जद में आने से खौफ में हैं। ग्रामीणों का कहना है कि बस्ती को जाने वाला एकमात्र रोड फोरलेन की भेंट चढ़ने जा रहा है। स्लाइडिंग एरिया की इस पहाड़ी से छेड़छाड़ करने का मतलब फेटावन बस्ती का अस्तित्व खतरे में डालना है। स्लाइडिंग एरिया से होने वाली छेड़छाड़ से घबराए जिया निवासियों ने फेटावन बस्ती को बचाने के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग केंद्रीय मंत्री गडकरी से पत्र भेजकर इस समस्या का हल निकलने की फरियाद लगाई है। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ने जिया के फेटावन की पहाड़ी की तरफ फोरलेन मार्ग को घुमा दिया है। पहाड़ी से छेड़छाड़ के कारण फेटावन बस्ती के घरों को स्लाइडिंग का खतरा बना जाएगा। फेटावन वासियों के उस समय होश उड़ गए जब फोरलेन मार्ग की बुर्जियां फेटावन बस्ती को जानेवाले रोड़ पर लगाई गईं। नेशनल हाइवे अथॉरिटी ने इस की जानकारी फेटावन बस्ती के लोगों को पहले कभी नहीं दी। रोड को बनाने के लिए निचली तरफ  को काफी जगह है, लेकिन रोड को फेटावन की तरफ घुमाना लोगों को यह बात हजम नहीं हो रही है। आशंका जाहिर की जा रही है कि आथारिटी ने बड़ी हस्ती के संस्थान व प्रापर्टी को बचाने के लिए जिया के फेटावन की बस्ती को खतरे में धकेल दिया।


  • स्लाइडिंग एरिया से छेड़छाड़ से घबराए ग्रामीण, घरों को होगा खतरा 
  • संघर्ष समिति ने भी उठाई आवाज

जिया की कृष्णा देवी, केवल राम, गुड्डी देवी, राम लाल, राजेश कुमार, सुमी देवी, दीपू, राज कुमार, कमली देवी, रूप नाथ, देवी सिंह, विनोद, मनीराम, वेली, धनीराम, भोला राम, केशव राम, मोती राम, रूपेश कुमार, पदमा देवी व मनीराम आदि के साथ ग्राम पंचायत जिया की प्रधान पदमा देवी ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से  बस्ती को बचाने की गुहार  और दोबारा सर्वे की मांग  उठाई है। फोरलेन संघर्ष समिति अध्यक्ष ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर का कहना है कि संघर्ष समिति काफी समय से सरकार व नेशनल हाई-वे अथॉरिटी से फोरलेन प्रभावितों के हितों की मांग कर रही है। हम अथॉरिटी से रोड की ड्राइंग मांग रहे हैं, जिससे हमें गांव व बस्तियों के लिए रोड़ और रास्तों का क्या प्रावधान है, लेकिन हमें आजतक फोरलेन मार्ग की ड्राइंग नहीं दी गई। वहीं,  पंडोह के भू-अर्जन अधिकारी दर्शन कालिया का कहना है कि ऐसा काम नहीं किया जाएगा, जिससे लोगों को नुकसान हो, जिया के फेटावन का मौका कर स्थिति का जायजा लिया जाएगा।   

दोबारा सर्वे करने की मांग

ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर का कहना है कि संघर्ष समिति सरकार व नेशनल हाई-वे अथॉरिटी से फोरलेन प्रभावितों के हकों की मांग कर रही है, जिस फोरलेन से कमजोर वर्ग की बस्ती को खतरा उत्पन्न हो रहा है, उस निर्माण कार्य का संघर्ष समिति पूरजोर विरोध करती है और दोबारा सर्वे की मांग करती है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है