×

Police के पास पहुंची शवों की राख और अस्थियां युक्त पानी पिलाए जाने की शिकायत

Police के पास पहुंची शवों की राख और अस्थियां युक्त पानी पिलाए जाने की शिकायत

- Advertisement -

ओम प्रकाश चौहान/ जोगिंद्रनगर। लडभड़ोल के कुछ गांवों में शवों की राख व अस्थियों से युक्त पानी पिलाए जाने का मामला पुलिस के पास पहुंचा है। तुलाह पंचायत के एक पूर्व प्रधान ने पुलिस में शिकायत की है। पूर्व प्रधान का आरो है कि सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग लडभड़ोल के कुछ गांवों के सैकड़ों लोगों को ऐसा पानी पिला रहा है, जोकि लोगों की सेहत से खिलवाड़ तो है ही साथ ही उनकी धार्मिक भावनाओं से भी सरासर खिलवाड़ है।


लडभड़ोल तहसील के तहत आती तुलाह पंचायत के पूर्व प्रधान गुलाणा निवासी रणजीत सिंह चौहान ने ऐसी शिकायत जोगिंद्रनगर में थाना प्रभारी को दी है तथा ऐसा दूषित पानी पिलाने व जनभावनाओं से खिलवाड़ करने के आरोप में आईपीएच के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करके कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की है। रणजीत सिंह चौहान ने आरोप लगाया है कि आईपीएच विभाग तुलाह पंचायत के तहत आते चुल्ला, कोठी, तुलाह, बसनोड़, ठारा, डली बघैर, खोहर, रक्तल, गुलाणा व सनहाली गांवों की करीब तीन हजार की आबादी को चुल्ला श्मशानघाट के पास से ही दूषित पानी उठाकर पिला रहा है।

आरोप है कि तुलाह-रक्तल उठाउ पेयजल योजना का निर्माण करीब 15 साल पहले शुरू किया गया था, जो अभी तक भी पूरा नहीं हो पाया है। गर्मियों में पानी की कमी होने पर व्यास नदी से इस उठाउ योजना का पानी मगरनाला व बैरू नाला के गोखू प्राकृतिक स्त्रोतों में डाल दिया जाता था, जिससे पानी की कमी को पूरा कर लिया जाता था। इस उठाउ योजना के फिल्टर टैंक पिछले 15 साल से बंद पड़े थे। हालांकि इस मध्य किसी से काम करवाया भी गया, मगर फिर भी वह सही नहीं हुए। लिहाजा अब फिर से जनता को बिना फिल्टर के ही व्यास नदी का दूषित जल पिलाया जा रहा है।

वर्ष 2017 की बरसात में व्यास नदी के पानी उठाने वाले स्थान पर लहासा गिर गया तथा अब महकमे ने अपनी सुविधा के लिए पानी उठाने वाला पंप पुरानी जगह से हटाकर श्मशानघाट के ऐन साथ ही जोड़ दिया है। रणजीत चौहान का आरोप है कि जिस जगह यह पंप जोड़ा गया है, वहां पर पानी खड़ा रहता है तथा चक्रवात की तरह घूमता रहता है। इसके साथ ही लगते श्मशानघाट में जब कोई शव जलाया जाता है तो उसकी राख व अस्थियां आदि उसी पानी में रहते हैं तथा उसी दूषित व सड़े हुए पानी को उठाकर बिना फिल्टर किए लोगों को पिलाया जाता है। कहा गया कि यह श्मशानघाट खद्दर, तुलाह, त्रैंबली व खड़ीहार पंचायतों का है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है