Covid-19 Update

2,00,085
मामले (हिमाचल)
1,93,830
मरीज ठीक हुए
3,418
मौत
29,823,546
मामले (भारत)
178,657,875
मामले (दुनिया)
×

सिर्फ 100 रुपए के इन्वेस्टमेंट में पाएं बड़ा फायदा, साथ में टैक्स की छूट भी

सिर्फ 100 रुपए के इन्वेस्टमेंट में पाएं बड़ा फायदा, साथ में टैक्स की छूट भी

- Advertisement -

नई दिल्ली। अगर आप अपनी महीने की कमाई में से थोड़ा हिस्सा निवेश करना चाहते हों तो इसके लिए आपको बड़ी रकम के बारे में सोचने की जरूरत नहीं है। आप महज 100 रुपए के इन्वेस्टमेंट से भी बड़ा फायदा ले सकते हैं। इसके साथ ही आपको टैक्स में भी छूट मिलेगी।

आप अपने पैसे का निवेश नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में करें। इसमें ज्यादा ब्याज के साथ-साथ टैक्स छूट भी मिलती है। 1 अक्‍टूबर से 5 साल की एनएससी पर ब्‍याज दर 8 फीसदी कर दी गई है। इतना ब्‍याज देश का कोई भी बड़ा बैंक नहीं दे रहा है।नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स के लिए आप पोस्ट ऑफिस में 100 रुपए से खाता खुलवा सकते हैं। पांच साल के लिए आप हर महीने निवेश करते रहें। एनएससी स्कीम के तहत निवेश की कुल अवधि 5 साल की है।


कोई भी व्यक्ति कर सकता है निवेश

कोई भी व्यक्ति इसमें नि‍वेश कर सकता है। आप अपने बच्‍चों के नाम पर भी इसे खरीद सकते हैं। इन सर्टिफि‍केट की मैच्‍योरि‍टी अवधि 5 साल होती है। ब्‍याज हर साल जुड़ता है और कपांउड इंटरेटस्‍ट की ताकत से ये पैसा लगातार बढ़ता जाता है। टैक्‍स पर छूट केवल 1.5 लाख तक के नि‍वेश पर ही मि‍लती है। नेशनल सेविंग सर्टि‍फि‍केट आप अपने नजदीकी डाकघर से खरीद सकते हैं।

इन दस्तावेजों की होगी जरूरत

नेशनल सेविंग सर्टि‍फि‍केट खरीदने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज अपने साथ रखने होंगे। फॉर्म के जरिए अपनी जानकारी देनी होगी, जिसमें आपको नाम और निवेश की राशि के बारे में बताना होगा। नेशनल सेविंग सर्टि‍फि‍केट खरीदने के लिए आपको सपोर्टिंग दस्तावेज की जरूरत पड़ सकती है। आप नेशनल सेविंग सर्टि‍फि‍केट चेक या फिर कैश के जरिए खरीद सकते हैं। इसमें चेक से भुगतान करने पर खाता तभी खुलेगा जब चेक का भुगतान सफल हो जाएगा।

कब निकाल सकते हैं पैसा

इसकी मेच्योरिटी 5 साल की है। अच्छी बात ये है कि अगर आप कुछ शर्तों को पूरा करते हैं तो 1 साल की मेच्योरिटी अवधि के बाद खाते की राशि को निकाल सकते हैं।नेशनल सेविंग सर्टि‍फि‍केट में ब्याज दर हर 3 महीने में बदली या निर्धारित की जाती हैं। इसलिए निवेशक को घटते-बढ़ते ब्याज दरों के साथ निवेश की राशि में भी बदलाव करना चाहिए।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है