Covid-19 Update

58,508
मामले (हिमाचल)
57,286
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,063,038
मामले (भारत)
113,544,338
मामले (दुनिया)

मेहनत का फल : कालीजीरी ने मालामाल किए सिरमौर के किसान

मेहनत का फल : कालीजीरी ने मालामाल किए सिरमौर के किसान

- Advertisement -

दिल्ली-पंजाब की मंडियों में मिल रहे चौखे दाम

नाहन। सिरमौर के पहाड़ी क्षेत्रों में अबकी बार काली जीरी की बंपर पैदावार हुई है। फसल के बढ़िया होने से किसान की भी खूब चांदी है। गौर रहे कि पिछले वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष किसानों को कालीजीरी के बाजार में अच्छे भाव मिल रहे हैं। जिला के ददाहू बाजार के आढ़ती इस कालीजीरी को दिल्ली व पंजाब की नामी मंडियों तक पहुंचा रहे हैं। कालीजीरी की बंपर फसल होने का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि कई किसानों ने कालीजीरी का उत्पादन नकदी फसल के रूप में शुरू कर दिया है। पिछले कई वर्षों से अदरक व अन्य नकदी फसलों से मुंह मोड़ चुके किसानों का रुख अब कालीजीरी की खेती की तरफ बढ़ रहा है। कालीजीरी के उत्पादन में खास बात यह भी है कि इस फसल को जंगली जानवर छूते तक नहीं हैं। वहीं कम मेहनत में ही यह खेती तैयार हो जाती है। इसका स्वाद कड़वा होने के कारण बंदर भी इस फसल को नहीं खा पाते। लिहाजा, किसान बेखौफ होकर इसका उत्पादन कर अच्छी आय प्राप्त करने में जुटे हैं।

जून-जुलाई में होती है बिजाई

जिला के पच्छाद, श्रीरेणुकाजी, रोहनाट, जरवा, गत्ताधार व सैंज के अलावा सैनधार इलाके के लगभग सभी गांवों में काली जीरी की खेती की जाती है। जून-जुलाई माह में इसकी बिजाई के बाद नवंबर माह में इसकी फसल तैयार हो जाती है। वर्तमान समय में कालीजीरी के भाव 230 रुपए तक पहुंच गए हैं। जो किसानों के लिए फायदे का सौदा बन रहा है। उल्लेखनीय है कि काली जारी को औषधी के रूप में आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। जम्मू-कश्मीर के साथ-साथ पाकिस्तान में भी काली जीरी की भारी मांग रहती है। इससे जानवरों के लिए कई दवाएं भी बनती हैं। वहीं, ददाहू के व्यवसायी जयपाल गर्ग ने बताया कि इस बार काली जीरी की बंपर पैदावार हुई है। इस जीरी को पड़ोसी राज्यों की अनाज मंडियों के साथ-साथ औषधीय संस्थानों में पहुंचाया जा रहा है। बाहरी राज्यों में इसकी कीमत 230 रुपए प्रति किलो है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है