Covid-19 Update

2926
मामले (हिमाचल)
1762
मरीज ठीक हुए
12
मौत
1,959,822
मामले (भारत)
18,833,253
मामले (दुनिया)

कारगिल विजय दिवस : कैप्टन विक्रम बत्रा से खौफ खाते थे पाकिस्तानी, नाम रखा था ‘शेरशाह’

साथी को बचाते हुए छाती में लगी थी गोली

कारगिल विजय दिवस : कैप्टन विक्रम बत्रा से खौफ खाते थे पाकिस्तानी, नाम रखा था ‘शेरशाह’

- Advertisement -

जरा याद उन्हें भी कर लो, जो लौट के घर न आए …. देशभक्ति गीत की ये पंक्तियां जब भी कानों में पड़ती हैं तो आंखों के सामने उन शहीदों की तस्वीरें उभर आती हैं जो देश के लिए शहीद हो गए। अपने प्राण न्योछार करने वाले शहीदों का कर्ज तो हम कभी चुका नहीं सकते, लेकिन उनकी शहादत को हमेशा याद रखकर उन्हें श्रद्धांजलि (Tribute) जरूर दी सकती है। कारगिल युद्ध के 20 साल पूरे हो गए हैं और इस युद्ध में जहां भारतीय जवानों ने पाकिस्तानियों के छक्के छुड़ा दिए थे वहीं हमने कई वीर जवान भी खो दिए थे उनमें से एक थे कैप्टन विक्रम बत्रा।


यह भी पढ़ें :-करगिल दिवस विशेष: जन्मदिन पर आने का किया था वादा, टुकड़ों में पहुंचा था ‘कालिया’ का शव

07 जुलाई, 1999 को भारत मां का ये सपूत देश पर न्योछावर हुआ था। मरणोपरांत उन्हें भारत के सर्वोच्च और सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया। कैप्टन विक्रम बत्रा (Captain Vikram Batra) से पाकिस्तानी भी खौफ खाते थे। कारगिल (Kargil) के दौरान कैप्टन विक्रम बत्रा को पाकिस्तान सेना के इंटरसेप्टेड संदेशों में ‘शेरशाह’ कहा जाता था। विक्रम बत्रा का जन्म हिमाचल प्रदेश के पालमपुर के घुग्गर गांव में 9 सितंबर, 1974 को हुआ था। विक्रम नेताजी सुभाष चंद्र बोस और चंद्रशेखर आजाद से प्रभावित थे।

विक्रम डीएवी कॉलेज में चार साल पढ़े, उसके बाद पंजाब यूनिवर्सिटी (Punjab university) में पढ़ाई की। सीडीएस की तैयारी भी यहीं की और एमए अंग्रेजी में दाखिला लिया। विक्रम ने स्नातक के बाद सेना में जाने का पूरा मन बना लिया था और सीडीएस (सम्मिलित रक्षा सेवा) की भी तैयारी शुरू की। विक्रम को ग्रेजुएशन के बाद हांगकांग में भारी वेतन में मर्चेन्ट नेवी में भी नौकरी मिल रही थी लेकिन सेना में जाने के जज्बे वाले विक्रम ने इस नौकरी को ठुकरा दिया। विक्रम को 1997 को जम्मू के सोपोर में सेना की 13 जम्मू-कश्मीर राइफल्स में लेफ्टिनेंट के पद पर नियुक्ति मिली। 1999 में कारगिल की जंग में विक्रम को भी बुलाया गया। इस दौरान विक्रम के अदम्य साहस के कारण उन्हे प्रमोशन भी मिला और वे कैप्टन बना दिए गए।श्रीनगर-लेह मार्ग के ठीक ऊपर सबसे महत्त्वपूर्ण 5140 चोटी को पाक सेना से मुक्त करवाने का जिम्मा भी कैप्टन विक्रम बत्रा को दिया गया था। बेहद दुर्गम क्षेत्र होने के बावजूद विक्रम बत्रा ने अपने साथियों के साथ 20 जून, 1999 को इस पोस्ट पर विजय हासिल की। इसके बाद सेना ने प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने की कवायद शुरू की थी। इसका भी जिम्मा कैप्टन विक्रम बत्रा को ही दिया गया था। इस ऑपरेशन में लेफ्टिनेंट अनुज नैय्यर ने विक्रम बत्रा के साथ कई पाकिस्तानी सैनिकों (Pakistani soldiers) को ढेर किया था। मिशन लगभग पूरा हो चुका था जब कैप्टन अपने कनिष्ठ अधिकारी लेफ्टीनेंट नवीन को बचाने के लिए लपके। लड़ाई के दौरान एक विस्फोट में लेफ्टीनेंट नवीन के दोनों पैर बुरी तरह जख्मी हो गये थे। कैप्टन बत्रा ने बोला- ‘तुम हट जाओ, तुम्हारे बीवी-बच्चे हैं’ और वे उन्हें पीछे घसीटने लगे। इस दौरान कैप्टन की छाती में गोली लगी और वे “जय माता दी” कहते हुए वीरगति को प्राप्त हो गए। देश के लिए प्राण न्योछावर करने वाले इस वीर जवान को हमारा नमन।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

घटिया वेंटिलेटर खरीद मामले में बड़ी सफलता: गुमनाम पत्र जारी करने वाले को CID ने किया अरेस्ट

Himachal में खुलने लगे जिम और योग सेंटर, तीन जिलों ने जारी की अधिसूचना

Covid-19 Update: हिमाचल में मरीजों का आंकड़ा 2900 के पार; आज ठीक हुए 52 लोग

Solan के ओच्छघाट की रजनी ने स्वरोजगार से बनाई पहचान, लोगों को भी दिया रोजगार

Chamba में हादसा: आसमानी बिजली गिरने से पिता-पुत्र समेत तीन लोगों की मौत; 2 लापता

हिमाचल जॉब: HFRI में निकली 17 जेपीएफ, प्रोजेक्ट असिस्टेंट और अन्य पदों पर भर्ती; देखें

सीएम जयराम ठाकुर का Kangra प्रवास कुछ घंटों बाद, कुछ ऐसा रहेगा नौ अगस्त तक का कार्यक्रम

Covid-19 का खतरा कम होने के बाद तलाशें Online प्रशिक्षण संचालन की संभावनाएं

हिमाचल में नूरपुर बनेगा Police District, मामला फाइनल स्टेज पर

Corona Update: चंबा में एक साथ सामने आएं 17 Case, कांगड़ा और चंबा से 4-4

फील्ड के आदी  हैं CM Jai Ram ,लेकिन मौका हाथ नहीं लग पा रहा ,रोचक है मामला

Himachal से सटी सीमा पर चीनी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें, खुफिया तंत्र को मजबूत करें

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यूजिंग पायथन के Training Program के पहले बैच में ये हुए पास

Apple Season के दौरान  बागवानों को एक क्लिक पर उपलब्ध होंगे मजदूर , जानें कैसे

इन 4 जिला के युवकों के लिए निकली सेना में भर्ती , जल्द करेंआवेदन

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड

टैट के 52,859 आवेदनों में 4,146 बिना फीस के आए, Board ने जारी की लिस्ट


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है