Expand

बासित बोले, कश्मीरी अगर भारत के साथ खुश, तो वहीं रहें

बासित बोले, कश्मीरी अगर भारत के साथ खुश, तो वहीं रहें

- Advertisement -

नई दिल्ली। पाकिस्तान के खिलाफ भारत का कूटनीतिक दबाव आखिर रंग ला रहा है। उरी हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय मंचों पर औंधे मुंह गिरने के बाद भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित के सुर भी बदले हुए हैं। एक साक्षात्कार के दौरान उनका कहना है कि जंग किसी भी समस्या का हल नहीं है। जम्मू-कश्मीर के लोगों को अपना भविष्य तय करने के लिए एक मौका मिलना चाहिए। अगर उन लोगों को विश्वास है कि वे भारत के साथ खुश हैं और उससे जुड़ा महसूस करते हैं तो वैसे ही रहें। uri-attack1पाकिस्तान को इससे कोई समस्या नहीं है, लेकिन कश्मीर को अपना भविष्य तय करने का अधिकार है। कश्मीर महज एक क्षेत्र भर नहीं है, किसी क्षेत्र को लेकर विवाद भी नहीं है। यह 1 करोड़ 20 लाख लोगों की जिंदगी का सवाल है। बासित ने कहा कि जहां तक दो देशों के रिश्तों की बात है तो वे  जुमलेबाजी से नहीं चलते। किसी भी देश को चेतावनी देना सही नहीं है। पाकिस्तान को आतंकी मुल्क कहना सिर्फ जुमलेबाजी है। हम भी ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन उससे कोई मकसद हल नहीं होता। बासित ने कहा कि हम कठिन हालात में खड़े हैं, लेकिन हम जंग के बारे में नहीं सोच रहे हैं। जंग हल नहीं है, इससे और बहुत सारी समस्याएं पैदा होती हैं। हमें अपनी बातचीत पर जंगोन्माद को हावी नहीं होने देना चाहिए। हमें और ज्यादा परिपक्व होना होगा। हम कुछ समय तक शायद बातचीत न करें, लेकिन हमारी कई समस्याओं का हल बातचीत और शांतिपूर्ण तरीकों से ही निकलना है उन्होंने कहा कि जहां तक उरी में हुए आतंकी हमले की बात है तो पाकिस्तान का इस हमले से कोई लेना-देना नहीं है।

पाक विदेश मंत्रालय के बदले सुर

 पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय का कुछ और ही कहना है। मंत्रालय का कहना है कि  भारत कश्मीर के निहत्थे लोगों पर जुल्म कर रहा है। महिलाओं और बच्चों को भी बख्शा नहीं जा रहा है। पाकिस्तान का कहना है कि इतने जुल्मों के बाद भी भारतीय नेता पाकिस्तान को बदनाम करने की और कश्मीर से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहे हैं। हमें अफसोस है कि ये सब टॉप लेवल से किया जा रहा है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है