Expand

बीजेपी की अंतर्कलह के बीच नड्डा की नजरें प्रदेश की राजनीति पर

बीजेपी की अंतर्कलह के बीच नड्डा की नजरें प्रदेश की राजनीति पर

- Advertisement -

शिमला। आईजीएमसी शिमला में स्वास्थ्य लाभ ले रहे सीएम वीरभद्र सिंह के मंत्रियों ने मोर्चा संभालते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा पर हमलावर रुख अपनाते हुए कहा है कि उनकी प्रदेश की राजनीति पर नजर है, इसलिए ही वह गुमराह करने वाली बयानबाजी कर रहे हैं। वीरभद्र के मंत्रिमंडल सहयोगी कौल सिंह ठाकुर, मुकेश अग्निहोत्री व डॉ (कर्नल) धनी राम शांडिल ने कहा है कि नड्डा प्रदेश की राजनीति में बने रहने के लिए गुमराह करने वाली बयानबाजी कर रहे हैं तथा स्वयं को प्रदेश की बेहतरी के लिए नहीं, बल्कि निजी राजनीतिक स्वार्थ के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं।

  • j-p-naddaप्रदेश की राजनीति में बने रहने के लिए गुमराह करने वाली बयानबाजी कर रहे
    प्रदेश की बेहतरी के लिए नहीं, बल्कि निजी राजनीतिक स्वार्थ निकाल रहे नड्डा

उन्होंने कहा है कि इस वक्त प्रदेश बीजेपी के भीतर प्रधानता को लेकर अंतर्कलह चल रही है और नड्डा इसी के चलते प्रदेश की राजनीति पर नज़रें गढ़ाए हुए हैं। उक्त मंत्रियों ने नड्डा द्वारा वीरभद्र सिंह से इस्तीफा देने के बयान की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह सर्वाधिक लोकप्रिय नेता हैं और प्रदेश में लोकतांत्रिक ढंग से चुनी हुई सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। उन्होंने नड्डा के बयान को तथ्यविहीन, गुमराह करने वाला तथा राजनीति से प्रेरित करार दिया है, जो स्पष्ट रूप से बीजेपी की सत्ता के लिए लालसा तथा हिमाचल प्रदेश में लोकतांत्रिक ढंग से चुनी हुई लोकप्रिय सरकार को अस्थिर करने की मंशा को प्रदर्शित करता है।

kaulठाकुर, अग्निहोत्री तथा डॉ शांडिल ने कहा कि सीएम से जुडे़ आयकर रिटर्न के एकमात्र मामले में वीरभद्र सिंह को परेशान एवं अपमानित करने के लिए बीजेपी के इशारे पर केन्द्र की तीन प्रमुख एजेंसियां जांच कर रही हैं। उन्होंने कहा कि मामला विचाराधीन है तथा विभिन्न आयकर अपीलीय प्राधिकरण एवं न्यायालयों में लंबित है। उन्होंने नड्डा द्वारा पहले ही ख्याली निष्कर्ष पर पहुंचने की आलोचना करते हुए कहा कि बीजेपी को न्यायिक प्रक्रिया तथा माननीय न्यायालयों के फैसले का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा अनुचित आरोप लगाकर उनके विरुद्ध सनसनी फैलाने की कोशिश कर रही है। साथ ही मंत्रियों ने कहा कि वीरभद्र सरकार पर दोषारोपण करने के बजाय नड्डा को प्रदेश के लिए इसका वाजिब हिस्सा दिलवाने में सहायता करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने राज्य की विभिन्न मांगों से संबंधित 12 सूत्रीय ज्ञापन केन्द्र को सौंपा है, जिसमें पारिस्थितिकी सेवाओं के लिए वार्षिक 1000 करोड़ रुपये का प्रतिपूरक अनुदान, पंजाब तथा हरियाणा से 3997 करोड़ रुपये के ऊर्जा एरियर दावे तथा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में नेट मौजूदा मूल्य की अदायगी इत्यादि शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में अनेक मील पत्थर स्थापित किए हैं तथा प्रदेश अभूतपूर्व विकास की ओर अग्रसर है। उनकी बेमिसाल लोकप्रियता एवं विश्वसनीयता का इस बात से पता चलता है कि वह लगातार 54 वर्षों से जनसेवा में हैं तथा छह बार सीएम व तीन बार केन्द्रीय मंत्री रहे हैं। उनके त्यागपत्र का प्रश्न ही उत्पन्न नहीं होता। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी प्रदेश में वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में आगामी चुनावों में भी विजय प्राप्त करेगी और पुनः सरकार बनाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है