Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

अंग्रेजी हुकूमत से भी पहले Himachal का ये गांव “रोजगार” के लिए था मशहूर

जब भी कोई छत बनाता था तो इस गांव का चक्कर जरूर लगाता

अंग्रेजी हुकूमत से भी पहले Himachal का ये गांव “रोजगार” के लिए था मशहूर

- Advertisement -

ये एक ऐसा गांव हैं जो अंग्रेजी हुकूमत से भी पहले रोजगार के लिए खासा मशहूर था। गांव की प्राकतिक सुंदरता तो आज भी वैसी ही है,इस गांव की एक खूबी हुआ करती थी, जिस किसी ने भी अपने लिए छत बनानी होती थी,उसे इस गांव का चक्कर जरूर लगाना पडता था। दरअसल इस गांव में स्लेट की खान हैं। इसे खनियारा (Khaniara) गांव कहते हैं,जोकि हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला (Dharamshala) से सटा हुआ है। इसी गांव में ग्रामीण खनन (Mining) करके स्लेट निकालते थे, इसे नीला सोना (Blue Gold) भी कहा जाता है। स्लेट के कारीगर, मजदूर, घोड़ा व खच्चर वालों सहित नेपाल तक के लोग यहां रोजगार के लिए आते थे। अब तो खैर यहां ये काम ना के बराबर ही रह गया है।

यह भी पढ़ें:भूत ने बनाया एक रात में ये मंदिर-सुंदरता देख कोई भी हो जाता है मोहित


खनियारा में पहले 625 हेक्टेयर पर स्लेट निकालने (Slate Extraction) का कारोबार चलता था। लेकिन अब सिर्फ 25 हेक्टेयर में ही स्लेट निकालने की अनुमति है। वैज्ञानिक तरीके से स्लेट निकालने के लिए भू-वैज्ञानिकों (Geologists) की हिदायत की पालना हो रही है। पहले के मुकाबले कम हुए कारोबार से ना केवल आसपास के लोगों का ही रोजगार छिना है, बल्कि इस गांव के जो पुराने ठेकेदार व लोग थे उन्होंने भी अपना पेशा बदल लिया है। बहुत कम लोग ही अब स्लेट का काम कर पा रहे हैं। कारीगरों की कमी व कानूनी अड़चनों के कारण लोगों ने अपना कारोबार बंद कर दिया है। पहले कुल्लू में आलू का सीजन लगाने के बाद वहां के घोड़ा व खच्चर मालिक यहां पर स्लेट ढोने का काम करते थे। लेकिन अब यहां कारोबार ना होने से वह भी नहीं आ रहे।

यह भी पढ़ें:चांद पर पेशाब करने वाला ये है दुनिया का पहला इंसान- कैसे हुआ था ये सब

नेपाल (Nepal) के लोग इस जगह को काला पहाड़ के नाम से जानते हैं। जब भी कोई बेरोजगार वहां पर यहां आने की बात करते थे तो उसके साथी उसे काला पहाड़ आकर पैसा कमाने की सलाह देते थे। लेकिन अब यह काला पहाड़ बेरोजगारों को रोजगार (Employment) नहीं दे पा रहा। खदानों से स्लेट जब गोदाम के लिए जाते हैं तो उसके खच्चर की ढुलाई में कामगारों की मेहनत सभी खर्चे जोड़ने के बाद स्लेट बेचे जाते हैं। स्लेट प्रति सैकड़ा बेचे जाते हैं। 6.12 साइज के स्लेट 700 रुपए प्रति सैकड़ा मिलता है। इसके अलावा 7.14 साइज का स्लेट 1400 रूपए प्रति सैकड़ा, 8.16 साइज का स्लेट 1700 से 1800 रुपए प्रति सैकड़ा, 9.18 साइज 2000 से 2200 और 10.10 साइज का स्लेट 22 से 24 रुपए प्रति सैकड़ा दिया जाता है। इसी तरह बड़े साइज के स्लेट भी होते हैं।  हालांकि,अब लोग घर की छत के बजाए इस स्लेट को आंगन में डालने लगे हैं। बहुत ही आकर्षक दिखता है ये स्लेट। लेकिन इस धंधे की मंदी ने यहां के लोगों की आर्थिक तौर पर कमर जरूर तोड़ डाली है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है