Covid-19 Update

2,06,369
मामले (हिमाचल)
2,01,520
मरीज ठीक हुए
3,506
मौत
31,726,507
मामले (भारत)
199,611,794
मामले (दुनिया)
×

आक्रोशः किसान सभा ने घेरा Secretariat, जमकर लगाए नारे

आक्रोशः किसान सभा ने घेरा Secretariat, जमकर लगाए नारे

- Advertisement -

किसानों-बागवानों की मांगों को लेकर बोला हमला

Kisan Sabha Protest: शिमला। प्रदेश के किसानों और बागवानों की समस्याओं को लेकर हिमाचल किसान सभा ने बुधवार को राज्य सचिवालय का घेराव किया। किसानों और बागवानों की मांगों को लेकर प्रदेश से सैकड़ों की संख्या में आए किसानों-बागवानों ने सचिवालय के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। किसान नेताओं ने सरकार से मांग की है कि उनकी समस्याओं पर सरकार ध्यान दें अन्यथा चुनावी वर्ष में सरकार इसका खामियाजा भुगतने के लिए तैयार रहे।

किसान सभा के राज्य अध्यक्ष डॉ कुलदीप सिंह तनवर और राज्य सचिव व पूर्व विधायक राकेश सिंघा के नेतृत्व में किसानों और बागवानों ने यहां पहुंचकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और सरकार से उनकी मांगों को मानने की बात कही। किसान सभा की मांग है कि सरकारी भूमि पर किए गए अवैध कब्जों से किसानों की बैग खाली न की जाए। उन्होंने कहा कि सरकार छोटे किसानों के बागीचों पर ही कार्रवाई कर रही है।


Kisan Sabha Protest: छोटे किसानों पर हो रही कार्रवाई

किसान सभा के राज्य अध्यक्ष डॉ कुलदीप तनवर ने कहा कि सरकार छोटे किसानों को ही बागीचों से हटा रही है और उनके पेड़ काट रही है। उन्होंने कहा कि की मांग है कि किसानों को जंगली जानवरों की समस्या से भारी परेशानी हो रही है और इस कारण उन्हें खेती छोड़ने को मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने इसका स्थायी समाधान निकालने की मांग की। उन्होंने कहा कि जंगली जानवरों की समस्या के कारण किसान खेती और बागवानी को छो़ड़ने को मजबूर हैं और इसका असर उनकी आर्थिकी पर पड़ रहा है। उन्होंने मांग की कि मनरेगा के तहत न्यूनतम दिहाड़ी 300 रुपए की जाए और एक वर्ष में 200 दिन का रोजगार मिले। उन्होंने किसानों से खरीदे जा रहे दूध का न्यूनतम मूल्य 30 रुपए तय करने की मांग की। तनवर ने कहा कि सरकार उनकी मांगों को लेकर कोई कदम नहीं उठा रही और किसानें के हितों से खिलवाड़ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रिटेंशन पॉलिसी के तहत नक्शों के आधार नहीं बने और अवैध भवनों को नियमित करने के लिए रखी गई रखी फीस को कम करने की मांग की।

यह भी पढ़े- 20 May तक मांगें न मानीं तो करेंगे धरना-प्रदर्शन

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है