×

मिशन से पहले इसरो के वैज्ञानिक करते हैं पूजा, रूसी करते हैं ये काम

मिशन से पहले इसरो के वैज्ञानिक करते हैं पूजा, रूसी करते हैं ये काम

- Advertisement -

हम में से बहुत से लोग कुछ चीजों को लकी मानते हैं और कोई भी शुभ काम से पहले कई तरह के टोटके (Trick) अपनाते हैं। मैदान में कई खिलाड़ी भी खेलने से पहले ऐसा करते हैं। सबके अपने-अपने टोटके होते है जिन्हें अपनाने से उन्हे लगता है कि काम में सफलता जरूर मिलेगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग करने जा रहा है। इससे पहले इसरो के चेयरमैन के. सिवन ने तिरुमाला में भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा की। इसरो (ISRO) में किसी भी मिशन के लॉन्च से पहले पूजा करने की परंपरा रही है।


भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के वैज्ञानिक हर बार किसी अंतरिक्ष मिशन से पहले भगवान बालाजी के मंदिर जाकर पूजा करते हैं और यहां पर रॉकेट का एक छोटा मॉडल भी चढ़ाते हैं। इसरो की मशीनों पर मिशन के दौरान कुमकुम लगाया जाता है। कई वैज्ञानिक (Scientist) लॉचिंग के दिन नई शर्ट पहनकर भी आते हैं। कुछ लोग इसी भले ही अंधविश्वास मानते हैं लेकिन कुछ के लिए ये पॉजिटिव एनर्जी का स्त्रोत होता है। दुनिया की तमाम नामी अंतरिक्ष एजेंसियों इस तरह के टोटके अपनाए जाते हैं यहां तक कि अमेरिका का नासा व रूस का कॉस्मोनॉट्स भी इससे अछूते नहीं हैं। हम आपको इन्ही टोटकों के बारे में बता रहे हैं जिनके बारे में सुनकर आपको हैरानी जरूर होगी …

 

दुनिया में सबसे मशहूर अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के वैज्ञानिक किसी भी मिशन को अंजाम देने से पहले मूंगफली खाते हैं। इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी जुड़ी हुई है। साल 1960 में रेंजर नाम का नासा का मिशन 6 बार असफल हुआ था। सातवें प्रयास में जब मिशन सफल हुआ तो एक वैज्ञानिक लैबोरेट्री में मूंगफली खा रहा था। बस यहीं से प्रथा चल पड़ी। यह परंपरा नासा में अब भी चलती आ रही है। जब इसरो ने अपना मंगलयान मिशन लॉन्च किया था तो शुभकामनाएं देते हुए नासा ने ‘लकी पीनट्स लिखा था’।

टोटके और अंधविश्वास के मामले में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी अव्वल है। रूसी अंतरिक्ष यात्री (Russian astronaut) यान में सवार होने से पहले लॉन्च पैड तक ले जाने वाली बस के दाएं पहिए पर पेशाब करते हैं। इसके पीछे भी कहानी है- अप्रैल साल 1961 में सोवियत रूस के कॉस्मोनॉट्स एजेंसी के यूरी गागरिन दुनिया के पहले अंतरिक्ष यात्रा बने थे। मिशन शुरू होने के दौरान उन्हें पेशाब लगा और उन्होंने बस के पीछे जाकर दाहिने पहिए पर पेशाब किया। यूरी का मिशन सफल रहा और इसी के बाद से कॉस्मोनॉट्स के अन्य अंतरिक्ष  यात्रियों ने भी इस टोटके को फॉलो करना शुरू कर दिया।

 

यूरी गागरिन ने अंतरिक्ष में जाने से पहले गाना सुनने की इच्छा जताई थी और उनके लिए रोमांटिक गाना बजाया गया था तब से कॉस्मोनॉट्स में सभी अंतरिक्ष यात्री मिशन से पहले वही गाना सुनते हैं जो यूरी ने सुना था।

24 अक्टूबर 1960 और 24 अक्टूबर 1963 को लॉन्च से पहले हादसों में कई लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। रूस इस तारीख को किसी भी अंतरिक्ष मिशन को अंजाम नहीं देता है।

मिशन से पहले यूरी गागलिन ने जिस गेस्ट बुक में साइन किए थे आज के अंतरिक्ष यात्री भी उसी बुक में सिग्नेचर करते हैं। रूस की अंतरिक्ष एजेंसी में हर सफल लॉन्च से पहले पौधे लगाने परंपरा भी है।

लॉन्च के दिन से पहले रूस के अंतरिक्ष यात्री उस रॉकेट को नहीं देखते जिस पर सवार होकर उन्हें अंतरिक्ष में जाना होता है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है