Covid-19 Update

1,64,355
मामले (हिमाचल)
1,28,982
मरीज ठीक हुए
2432
मौत
25,227,970
मामले (भारत)
164,275,753
मामले (दुनिया)
×

इस कुंड में नहाने से भरती है सूनी गोद, राधा के कंगन से हुआ है निर्माण

इस कुंड में मन की सारी मुरादें भी होती हैं पूरी

इस कुंड में नहाने से भरती है सूनी गोद, राधा के कंगन से हुआ है निर्माण

- Advertisement -

श्री कृष्ण की जन्म भूमि मथुरा में ऐसा कुंड है जहां डुबकी लगाने से संतान का वरदान मिलता है। यह कुंड राधा कुंड के नाम से प्रसिद्ध है। माना जाता है कि इस कुंड का निर्माण अहोई अष्टमी पर राधा ने अपने कंगन से किया था। राधा के कंगन से बने इस कुंड को भगवान श्री का वरदान है। इस कुंड में सिर्फ संतान का ही सुख नहीं मिलता बल्कि मन की सारी मुरादें पूरी होती हैं।


यह भी पढ़ें :- एक महान ‘कर्मयोगी’ और ‘दार्शनिक’


दरअसल, श्रीकृष्ण ने पहले अपनी बांसुरी से एक कुंड का निर्माण किया था। अरिष्टासुर नामक राक्षक ने गाय का रूप धारण कर बाकी गायों का वध किया था। यह देख कर श्रीकृष्ण ने गए के रूप में छिपे राक्षस का वध किया था। इसलिए राक्षस के गाय के रूप में होने से खुद को पाप का भोगी मानते हुए उन्होंने गौ हत्या से मुक्ति पाने के लिए कुंड का निर्माण करके सभी तीर्थ स्थलों का पानी इसमें भरा था। इसमें डुवकी लगाकर उनकर पाप धुल गए थे। यह देख कर राधा ने भी अपने कंगन से इस कुंड के बगल में एक और कुंड का बनाया जो राधा कुंड से विख्यात है।

जब भगवान ने उस कुंड को देखा तो कृष्ण कुंड से भी ज्यादा प्रसिद्ध होने का वरदान दिया। इन दोनों कुंडों का निर्माण अहोई अष्टमी के दिन हुआ था इसलिए इसी दिन यहां स्नान करना शुभ माना जाता है। इन कुंडों की विशेष बात यह है कि पर कृष्ण कुंड का पानी दूर से काला और राधा कुंड का पानी दूर से सफ़ेद दिखता है जो उनके रंगों को दर्शाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है