Covid-19 Update

2,00,832
मामले (हिमाचल)
1,95,254
मरीज ठीक हुए
3,440
मौत
30,028,709
मामले (भारत)
179,981,557
मामले (दुनिया)
×

आमलेट एक-बनाने के तरीके अनेक, जानिए अलग-अलग देशों में किस तरह होता है बेक

हर देश में अलग स्टाइल से बनती है ये पौष्टिक डिश

आमलेट एक-बनाने के तरीके अनेक, जानिए अलग-अलग देशों में किस तरह होता है बेक

- Advertisement -

आमलेट यानी ऐसी डिश जो ना सिर्फ झटपट तैयार हो जाती है बल्कि पौष्टिक भी होती है। मांसाहारी लोग तो आमलेट (Omelette) पसंद करते ही हैं लेकिन कुछ शाकाहारी लोग जो मांस नहीं खाते वो अंडा या आमलेट जरूर खा लेते हैं। आमलेट में प्रोटीन होता है और एमिनो एसिड भी होते हैं जिसकी जरूरत शरीर को होती है। आमलेट बनाने के कई तरीके हैं। हर कोई अपने-अपने अंदाज में इस मजेदार डिश (Dish) को बनाता है। कुछ बिना नमक मिर्च मसाले के बनाते हैं तो कुछ सब्जियां तक आमलेट में डाल देते हैं। आज हम इसी आमलेट के बारे में आपको जानकारी देने वाले हैं कि ये आया कहां से और आमलेट बनाने की शुरुआत आखिर हुई कब थी।

यह भी पढ़ें: रात को सोने से पहले लगती है भूख तो खाइए कुछ हेल्दी, इन फलों को करें अवॉइड


आमलेट के इतिहास की बात की जाए तो इसकी शुरुआत को यूरोप से जोड़कर देखा जाता है। आमलेट की शुरुआत से दो किवदंतियां जुड़ी हुई हैं। पहली कहानी जुड़ी है फ्रांस के शहंशाह नेपोलियन बोनापार्ट (Napoleon Bonaparte) से। ऐसा कहा जाता है कि नेपोलियन की फौज यूरोप में फ्रांस के एक शहर से निकल रही थी और नेपोलियन को रास्ते में जोरों से भूख लगी। वो एक सराय में गए और वहां कुछ खाने को मांगा। उस आदमी ने उनको आमलेट बना कर खिलाया। उसको खाकर नेपोलियन इतना खुश हुआ कि उसने पूरे शहर के अंडे जमा करवा कर दूसरे दिन अपनी फ़ौज के लिए सबसे बड़ा आमलेट बनवा कर बंटवा दिया। आज भी ईस्टर (Easter) के दिन फ्रांस में बिसे शहर में नेपोलियन की याद में बहुत बड़ा आमलेट बनाया जाता है। दूसरी कहानी रोमन साम्राज्य से जुड़ी हुई है। किताबों में इस बात का ज़िक्र है कि रोम में लोग अंडों में शहद मिलाकर खाते थे जिसे ओवमीले कहा जाता था, लेकिन आमलेट शब्द फ्रेंच है यानी बुनियादी भाषा में इसका मतलब है एक छोटा सा ब्लेड। इस हिसाब से आमलेट का मतलब हआ जो तलवार की ब्लेड जैसे दिखता हो।

यह भी पढ़ें: इम्यूनिटी बढ़ाने में खिरनी का जवाब नहीं, रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए सबसे बढ़िया फल

अब हर देश में आमलेट अलग-अलग तरह से बनाया जाता है। जापान की बात करें तो यहां आमलेट मीठा होता है और खाने के साथ खाया जाता है। इसको पकाने का तरीक़ा भी अलग है। यहां आमलेट की कई परतें बनाई जाती हैं। वहीं फ्रेंच आमलेट की बात करें तो यहां पर आमलेट में नमक के अलावा किसी भी चीज़ का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसको सादा बनाया जाता है और बनने के बाद ऊपर से इस पर नमक डाला जाता है। टर्की में टमाटर की परत पर अंडों को डाल कर आमलेट बनाया जाता है। स्पेन में आलू के साथ आमलेट को बनाया जाता है और पश्चिम अमेरिका में आमलेट के अंदर मीट डाला जाता है। भारत की बात करें तो यहां पर भी कई तरीके के आमलेट बनाया जाता है। पहाड़ों पर जाइये तो चीज़ और मैगी आमलेट मिलेगा। दक्षिण भारत में कड़ीपत्ता आमलेट मिलेगा। गरम मसाला आमलेट, मशरुम आमलेट, प्याज और टमाटर वाला आमलेट, बेक किया ऑमलेट, आमलेट को अनगिनत तरीके से बनाया जा सकता है। तो इस तरह आमलेट के अलग-अलग रूप हैं लेकिन इससे इसकी पौष्टिकता कम नहीं होती।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए Subscribe करें हिमाचल अभी अभी का Telegram Channel

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है