×

सिजेरियन डिलीवरी के बाद कौन सी पोजीशन में सोना है बेहतर, न्यू मॉम जरूर जान लें

सही पोजीशन में सोने से पेट की मांसपेशियों पर पड़ता है कम प्रेशर

सिजेरियन डिलीवरी के बाद कौन सी पोजीशन में सोना है बेहतर, न्यू मॉम जरूर जान लें

- Advertisement -

बच्चे को जन्म देना तो हर मां का सपना होता है लेकिन डिलीवरी के दौरान महिला के शरीर पर बहुत प्रभाव पड़ता है। डिलीवरी के बाद महिलाओं को 40 दिन तक आराम करने की सलाह दी जाती है, वहीं अगर सिजेरियन डिलीवरी (Cesarean Delivery) हुई हो तो घाव को भरने में और समय लग जाता है। ऑपरेशन के बाद स्‍वस्‍थ रहने और शिशु को संभालने के लिए एनर्जी पाने के लिए पर्याप्‍त नींद लेना जरूरी होता है। आमतौर पर आपने सुना होगा कि सी-सेक्‍शन डिलीवरी के बाद किस तरह की डाइट लेनी चाहिए, क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं खाना चाहिए लेकिन क्‍या आपने कभी सोचा है कि सिजेरियन ऑपरेशन के बाद किस पोजीशन में सोना बेहतर रहता है? शायद इसके बारे में किसी ने नहीं सोचा होगा। पहले तो आपको स्‍लीपिंग पोजीशन (Sleeping position) का महत्‍व जानना बहुत जरूरी है …


यह भी पढ़ें: छोटी उम्र में ज्यादा पैसा कमाना चाहते हैं तो इन बातों पर करें अमल

 

 

सही पोजीशन में सोने से आराम मिलता है और सर्जरी वाली जगह पर दबाव कम पड़ता है। इससे आप जल्‍दी रिकवर कर सकती हैं और असहजता में भी कमी आती है।

यह अच्‍छी नींद पाने में भी मदद करती है। ऑपरेशन के बाद सही पोजीशन में सोने से पेट की मांसपेशियों पर प्रेशर कम पड़ता है और टांकों में किसी तरह का खतरा होने का डर भी नहीं रहता है।

गर्भावस्‍था के दौरान हार्मोंस का स्‍तर बढ़ने और पेट का साइज बढ़ने और डिलीवरी के बाद श्‍वसन मार्ग के प्रभावित होने की वजह से ऑब्‍स्‍ट्रक्टिव स्‍लीप एप्निया हो सकता है।
इसमें महिलाओं को सांस लेने में दिक्‍कत हो सकती है। सिजेरियन के बाद यह परेशानी होना और भी ज्‍यादा पीड़ादायक हो सकता है।

अब जानिए किस पोजीशन में सोना है सही –

ऑपरेशन के कुछ दिनों और हफ्तों बाद पीठ के बल सोने में कछ महिलाओं को आराम मिलता है। इससे सोते समय पीठ पर कोई दबाव नहीं पड़ता है। आप अधिक आराम पाने के लिए घुटनों के नीचे तकिया भी रख सकती हैं। अगर आपका ब्‍लड प्रेशर ठीक नहीं है तो इस पोजीशन में न लेटें।

डिलीवरी के बाद यह पोजीशन ज्‍यादा आरामदायक होती है। इससे टांकों वाली जगह पर कोई प्रेशर नहीं पड़ता है और बिस्‍तर से उठते समय दर्द भी कम होता है। बाईं करवट सोने से खून का प्रवाह ठीक रहता है और पाचन में भी सुधार होता है। आप पेट और हिप्‍स को सहारा देने के लिए तकियों का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। अगर आपको ब्‍लड प्रेशर की प्रॉब्‍लम है, तो भी यह पोजीशन ठीक रहेगी।

 

 

शरीर के ऊपर हिस्‍से के नीचे कुछ तकिए लगाकर रखें। इससे सांस लेने में मदद मिलती है और नींद भी अच्‍छी आती है। अगर आपको इस पोजीशन में आराम नहीं मिल पा रहा है तो दोनों घुटनों के बीच में और कूल्‍हों के नीचे तकिया लगाकर रखें।

अगर आपको सिजेरियन डिलीवरी के बाद किसी भी पोजीशन में आराम नहीं मिल पा रहा है तो आप थोड़ी देर के लिए सोफे या कुर्सी पर तकियों के सपोर्ट से बैठकर या लेटकर भी झपकी ले सकती हैं। इस पोजीशन में शिशु को दूध पिलाने में आसानी होती है, लेकिन रात को इस तरह सोना बिल्‍कुल भी सही नहीं है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है