Covid-19 Update

2,16,906
मामले (हिमाचल)
2,11,694
मरीज ठीक हुए
3,634
मौत
33,477,459
मामले (भारत)
229,144,868
मामले (दुनिया)

जानिए आखिर कौन हैं ब्रू शरणार्थी, जिन्हें बसाने के लिए भारत सरकार खर्च करेगी 600 करोड़

जानिए आखिर कौन हैं ब्रू शरणार्थी, जिन्हें बसाने के लिए भारत सरकार खर्च करेगी 600 करोड़

- Advertisement -

नई दिल्ली। इन दिनों देश में ब्रू शरणार्थियों (Bru Refugee) को बसाने की बात चल रही है। दरअसल सरकार ने ब्रू जनजातीय को बसाने के फैसला पर हस्ताक्षर कर के हरी झंडी दिखा दी है। यह जनजाति ज़्यादातर त्रिपुरा राज्य में रहते हैं। ये अपनी जिंदगी शहरो से दूर जंगलों में व्यतीत करते हैं। राज्य और केंद्र सरकार के बात से अब लगता है कि ब्रू-रियांग शरणार्थी के अच्छे दिन आने वाले हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) और ब्रू शरणार्थी के प्रतिनिधियों से बातचीत के बाद सरकार इनके समस्याओं को दूर करने के लिए उनके ऊपर 600 करोड़ रुपए का बजट तैयार किया है। दिल्ली में हुई बैठक में अमित शाह ने बताया की लगभग 30,000 ब्रू शरणार्थी त्रिपुरा के अलग-अलग जगहों पर रहते हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ‘ब्रू-रियांग शरणार्थी त्रिपुरा (Tripura) में बसे हैं। मोदी सरकार उनके सम्पूर्ण विकास के लिए 600 करोड़ रुपए का पैकेज देगी। उन्हें त्रिपुरा के सामान्य निवासियों के बराबर अधिकार मिलेगा और विभिन्न सामाजिक कल्याण योजनाओं का लाभ भी मिलेगा।’

आपको बता दें कि ब्रू शरणार्थी किसी बाहरी देश से नहीं आए हैं, ये लोग भारतीय जनजाति हैं। जो कि भारत के उत्तर-पूर्वी त्रिपुरा राज्य में रहते हैं। सन 1995 में यंग मिजो एसोसिएशन (Young Mizo Association) ने ब्रू जनजाति को आपने क्षेत्र से खदेड़ कर उन्हें बाहरी घोषित किया था। ब्रू लोग तब से जान बचाने के लिए जंगल में कही दूर कैंप में रहते हैं ।1997 में ब्रू समाज पर बहुत ही हिंसाजनक हादसे भी हुए हैं। मोदी सरकार ने इन्हे 5000 रुपए मासिक देने की बात की है, इन्हें दो साल तक राशन मुफ्त मिलेगा। सरकार ने ब्रू शरणार्थियों को चार लाख तक की फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) के साथ साथ 30 -40 फुट का जमीन देने की बात भी की है। सरकार इन्हें जल्द वोटर लिस्ट में भी जोड़ेगी।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है