Covid-19 Update

2,16,639
मामले (हिमाचल)
2,11,412
मरीज ठीक हुए
3,631
मौत
33,417,390
मामले (भारत)
228,533,587
मामले (दुनिया)

ढेर सारे नोट छापकर RBI कम कर सकता है गरीबी ? यहां है इस सवाल का जवाब

ढेर सारे नोट छापकर RBI कम कर सकता है गरीबी ? यहां है इस सवाल का जवाब

- Advertisement -

नई दिल्ली। कभी-कभी आपके मन में भी ये ख्याल आता होगा कि RBI बहुत से नोट छापकर देश से गरीबी क्यों कम नहीं कर देती ? अगर आप भी ऐसा ही सोचते हैं तो आप अकेले ही नहीं हैं जिनके मन में ऐसा ख्याल आता है। बहुत से लोग इस बात को लेकर दुविधा में हैं।  इसलिए हम आपको बताने जा रहे हैं कि RBI ऐसा कर सकती है या नहीं ?

 यह भी पढ़ें: PM Modi बोले – दबावों के बाद भी नागरिकता संशोधन कानून पर रहेंगे कायम

अर्थशास्त्रियों (Economists) का मानना है कि कोई भी देश अपनी मर्जी से नोट नहीं छाप सकता है। नोट छापने के लिए नियम कायदे बने हैं। अगर देश में ढेर सारे नोट छपने लगें तो अचानक सभी लोगों के पास काफी ज्यादा पैसा आ जाएगा और उनकी आवश्यकताएं भी बढ़ जाएंगी इससे महंगाई सातवें आसमान पर पहुंच जाएगी। किसी भी देश में कितने नोट छापने हैं यह उस देश की सरकार, सेंट्रल बैंक, GDP, राजकोषीय घाटा और विकास दर के हिसाब से तय किया जाता है। हमारे देश में रिजर्व बैंक (reserve Bank) तय करती है कि कब और कितने नोट छापने हैं।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है