Covid-19 Update

1,35,782
मामले (हिमाचल)
99,400
मरीज ठीक हुए
1925
मौत
22,992,517
मामले (भारत)
159,607,702
मामले (दुनिया)
×

मेहमाननवाजी के साथ गिरिपार में खोड़ा पर्व शुरू

मेहमाननवाजी के साथ गिरिपार में खोड़ा पर्व शुरू

- Advertisement -

लोकनृत्यों के साथ एक माह तक चलेगा दौर, जमकर मनोरंजन

नाहन। जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र की दर्जनों पंचायतों में खोड़ा पर्व शुरू हो गया है। माघ माह में मनाए जाने वाला खोड़ा क्षेत्र में एक माह तक चलेगा। गिरिपार क्षेत्र में माघ महीने की अलग ही अहमियत है। लिहाजा, इस महीने लोग जमकर मेहमाननवाजी करते हैं। नई नवेली दुल्हनें अपने पति के साथ खोड़ा पर्व पर मेहमानी के लिए अपने मायके पहुंचती हैं। 18 से लेकर 80 वर्ष तक की आयु की सभी महिलाएं 3 से 7 दिन तक मेहमानी करने के लिए अपने मायके चली जाती हैं। बच्चे, नौजवान व बूढ़े लोग भी माघ महीने में जमकर मेहमाननवाजी का लुत्फ उठाते हैं। जो महिला व्यस्तता के कारण साल भर अपने मायके नहीं जा पाती है, माघ माह में दो से तीन दिन के लिए वह भी मायके जाकर मेहमाननवाजी की रस्म पूरी करती है। गिरिपार इलाके में आज भी खेड़ा पर्व का विशेष महत्व है। आज भी लोग प्राचीन संस्कति की रस्मों को निभाते आ रहे हैं।


यह भी पढ़ें…मौसम की बेरूखी से अब Govt भी परेशान, अफसरों के साथ CM जयराम करेंगे मंथन

यह है खास विशेषता
खोड़ा पर्व की खास विशेषता यह है कि इस दिन क्षेत्र के विभिन्न गांव में लोकनृत्यों के साथ-साथ नाटियों का आयोजन किया जाता है। कई गांव में नाटियों का दौर दिन में ही शुरु हो जाता है तो कहीं देर रात तक चलता है। कई गांव में इस पर्व को मनाने के लिए लोगों खासकर मेहमानों के मनोरंजन के का खास ध्यान रखते हैं। लिहाजा स्थानीय लोक गायकों को विशेष तौर पर आमंत्रित किया जाता है। गिरिपार क्षेत्र के नौहराधार, हरिपुरधार, संगड़ाह, शिलाई इलाके के कई गांव में इस पर्व को मनाने के लिए विशेष तैयारियां की जाती हैं। क्षेत्र के लोगों में इस पर्व को लेकर काफी उत्साह होता है। इसलिए माघ महीने को मनोरंजन महीने के नाम से जाना जाना है।

लजीज व्यंजनों की धूम
मनोरंजन के साथ साथ पवित्र माह के रूप में देखे जाने वाले माघ महीने में लजीज व्यंजनों की भी खूब धूम रहती है। नानवेज शौकीनों को बकरे का मीट परोसे जाने की व्यवस्था होती है तो पारंपरिक व्यंजनों से भी मेहमानों की खातिरदारी की जाती है। क्षेत्र में सिड़कू, खुबले, खीर पटांडे, खिंडा व असकली आदि व्यंजन मेहमानों को परोसे जाते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है