- Advertisement -

कुल्लू पुलिस की मुहिम लाई रंग, नेपाली बच्चे को परिवार से मिलाया

कलैहली शाड़ावाई बाल गृह में 15 वर्षीय रमेश को मिला परिवार

0

- Advertisement -

कुल्लू। पुलिस की मुहिम एक बार फिर रंग लाई है। नेपाल के 15 वर्षीय बच्चे को परिवार मिल गया है। बता दें कि नेपाल से दो वर्ष पहले 15 वर्षीय रमेश बुढ़ाक्षेत्री अपने बुआ के बेटे के साथ कुल्लू मनाली आया था और उसके बाद रमेश प्रीणी के एक होटल में बाल मजदूरी का कार्य करता था। उसके बाद चाइल्ड लाइन ने रमेश को होटल से रेस्क्यू कर बाल गृह कलैहली में रखा, जहां पर रमेश ने दो साल पढ़ाई की और वो 8 वीं कक्षा में पढ़ाई करता था। इस बीच कुल्लू पुलिस ने बाल गृह कलैहली में पढ़ रहे दो बच्चों की सूची मूलप्रवाह अखिल भारत नेपाली एकता समाज नगर समिति भुंतर के द्वारा नेपाली पुलिस को पत्र लिख भेजी। जहां पर की सूची उनके जिला की थाने चौकियों को भेजी और उसके बाद रमेश बुढ़ाक्षेत्री के घर में फोटो के साथ सूचित किया गया और उसके बाद परिवार के द्वारा फोटो व नाम पहचान कर रमेश के घरवालों ने उसको पहचाना और उसके बाद उसके दादा नंद राम बुढ़ाक्षेत्री कुल्लू पहुंचा, जहां पर पुलिस ने लिखित कार्रवाई के बाद रमेश को उसके दादा के हवाले कर दिया।

पुलिस के द्वारा कुल्लू जिला में जीतने भी बाल गृह में नेपाल के बच्चे हैं, जो यहां पर होटल व घरों से चाइल्ड लाइन से रेस्क्यू कर लिया गया है, उनको उनके परिवार के साथ मिलने के लिए एक मुहिम शुरू की है। इस मुहिम में एक सफलता पुलिस को मिली है। बालगृह में अभी भी 23 बच्चे देश के विभिन्न राज्य व नेपाल के हैं, जिन्हें उनके परिवार से मिलाने के लिए पुलिस प्रशासन व स्थानीय नेपाली संस्थाएं काम कर रहे हैं, जिससे आने वाले समय में उम्मीद है कि बाकी बच्चों को भी उनके परिवार से मिलाया जाएगा।मूलप्रवाह अखिल भारत नेपाली एकता समाज नगर समिति भुंतर के कहैया लाल चौधरी ने बताया कि पिछले माह भुंतर में नेपाली एकता समाज के द्वारा एक कार्यक्रम रखा गया था, जिसमें पुलिस ने नेपाली एकता समाज को नेपाली बच्चों के बारे में बताया जो बाल गृह कलैहली में रहते थे और उसके बाद दो बच्चों की सूची तैयार की गई, जिसके बाद उस सूची को नेपाली के उन बच्चों के जिला पुलिस को भेजी और दोनों नेपाली बच्चें बाल गृह कलैहली में है। उन्होंने कहा कि उसके बाद नेपाली की पुलिस ने रमेश के घर वालों को उसकी फोटो दिखाई और रमेश को पहचान लिया।

एसपी कुल्लू शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस के द्वारा एक मुहिम चलाई जा रही है। जितने भी बच्चे जिला के विभिन्न बालगृह में हैं, उनको उनके परिवार के साथ मिलाया जाए। इस कड़ी में डीएसपी कुल्लू आशीष ने बालगृह में आए दो नेपाली बच्चों की नेपाल मूलप्रवाह एकता के साथ मिलकर कर एक सूची को नेपाल की पुलिस को भेजा। जहां पर एक बच्चे की फोटो व नाम पता के साथ पहचान हो गई और आज रमेश के दादा उनको ले जाने के लिए आए हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply