Covid-19 Update

57,298
मामले (हिमाचल)
56,039
मरीज ठीक हुए
962
मौत
10,702,031
मामले (भारत)
101,441,177
मामले (दुनिया)

पति: नवरात्रि का व्रत है?

पति: नवरात्रि का व्रत है?

- Advertisement -

पति अपनी पत्नी को अंग्रेजी सिखा रहा था…

दोपहर में पत्नी बोली –

डिनर लो जी…

पति (गुस्से में) – बेवकूफ औरत, ये डिनर नहीं लंच है…

पत्नी भी गुस्से में बोली – तम बेवकूफ,

ये रात का बचा हुआ खाना है…!!!

 

 

 

 

 

 

 

 

पत्नी – आप जो मुझे नाम लेकर बुलाते हैं…

 

इस कारण बच्चे भी अब मुझे नाम लेकर बुलाने लगे हैं…!

पति – अच्छा… तो कल से मैं तुम्हें

मम्मी कहकर बुलाऊंगा…!!!

 

 

 

 

 

 

 

 

 

पति: नवरात्रि का व्रत है?

पत्नी : हां जी

पति: कुछ खाया?

पत्नी :जी कुछ खास नहीं

पति: फिर भी क्या खाया?

पत्नी : केला, सेव, अनार, मूंगफली, फ्रूट क्रीम, आलू की टिक्की,

साबूदाने की खीर, साबूदाने के पापड़, कुट्टू की पूरी, सावंख के चावल, सिंघाड़े के

आटे का हलवा, खीरा, सुबह-सुबह चाय और अब जूस पी रही हूं।

पति : बहुत सख्त व्रत रख रही हो, यह हर किसी के बस का कहां है…

और कुछ खाने की इच्छा है? देखलो कहीं कमज़ोरी न आ जाए।

 

 

 

 

 

 

 

 

एक आदमी ने दूसरे से पूछा – भाई ये खुशियां क्या होती हैं…?

दूसरा – पता नहीं भाई…!
.
.
मेरी तो कम उम्र में ही शादी हो गई थी…!!!

 

 

 

 

 

 

 

सास बहू से – जब मैं प्रेग्नेंट थी…

तब मैंने जो कुछ भी खाया,

आज बेटे को हर वो चीज़ बेहद पसन्द है।

बहू- मांजी, जो भी हो,

लेकिन आपको सिगरेट और दारू से बचना चाहिए था।

 

 

 

 

 

 

 

जब दुकानदार ने ग्राहक से पूछा गहने न खरीदने का कारण…

दुकानदार – बहन जी आप हमेशा दुकान पर आती हैं,

सारे गहने देखती हैं, मगर ले नहीं जातीं, क्यों…?

पिंकी – ले जाती हूं भाई साहब, आप ही ध्यान नहीं देते…!!!

दुकानदार बेहोश…

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

पुत्र (पिता से)- ‘डैडी रावण कौन था?’

पिता (बच्चे को डांटते हुए)- ‘अरे इतना भी नहीं मालूम!
.
तू स्कूल में क्या पढ़ता है?
जा टेबल पर से ‘महाभारत’ उठा ला, मैं बताए देता हूं।’

 

 

 

 

 

 

रमन (अपने दोस्त से)- कभी किसी ने ये सोचा…

कि दवाई के पैकेट में 10 टेबलेट ही क्यों होती है?
दोस्त- नहीं?
रमन- तुम्हारी जानकारी के लिए बता दूं
कि 10 टेबलेट की यह प्रथा तब चालू करवाई गई थी,
जब लंकाधिपति रावण को सिरदर्द हुआ था।

 

 

 

 

 

 

एक फ्लैट में घंटी बजती है और घर में अकेली महिला दरवाज़ा खोलती है …

भिक्षुक:“माई, भिक्षा दे।”
महिला: “ले लो, महाराज ..”
भिक्षुक:“माई … ज़रा यह द्वार पार करके बाहर तो आना।”
वह द्वार पार करके बाहर आती है।
भिक्षुक (उसे पकड़ते हुए ): “हा .. हा … हा … मैं भिक्षुक नहीं, रावण हूं !”
महिला: “हा .. हा .. हा … मैं भी सीता नहीं, कामवाली बाई हूं।”
रावण : “हा..हा..हा.. सीता का अपहरण करके आज तक पछता रहा हूं,
तुम्हें ले जाऊंगा तो मंदोदरी खुश हो जायेगी। मुझे भी कामवाली बाई की ही ज़रूरत है …”
महिला :“हा, हा, हा … सीता को ढूंढने सिर्फ राम आए थे …
मुझे ले जाओगे तो सारी बिल्डिंग ढूंढते पहुंच जाएगी।”

 

 

 

 

 

 

एक दिन रावण डिस्को गया।

और वहां जाकर वह बेहोश हो गया।
क्यों? …………
क्योंकि ….
वहां गेट पर लिखा था – “एंट्री फीस रू 1500/- पर हेड

 

 

 

 

 

Tipu – अगर शून्य की खोज आर्यभट्ट ने की थी…

और आर्यभट्ट का जन्म कलयुग में हुआ
तो उससे पहले 100 कौरव और रावण के 10 सिर की गिनती किसने की थी?
Teacher अवकाश लेकर उत्तर की खोज में भटक रहे हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


Delhi

INDIA: CASES

ACTIVE: 3,96,854

DEATH: 14,592

Himachal

INDIA: CASES

ACTIVE: 3,96,854

DEATH: 14,592

सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है