Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

कजूंस सेठ के घर में कोई मेहमान आया!!

कजूंस सेठ के घर में कोई मेहमान आया!!

- Advertisement -

एक बुजुर्ग महिला के सौ साल पूरे होने पर चैनल ने इंटरव्यू किया…

रिपोर्टर-आपकी लंबी उम्र का रहस्य क्या है?

महिला-मैं खाने पीने का बहुत ध्यान रखती हूं।
गर्मी में बीयर, भूख कम लगे तो वाइट वाइन, खाने के बाद रेड वाइन,
ब्लड प्रेशर गड़बड़ लगे तो स्कॉच, ठंड ज्यादा हो तो ब्रांडी और रम में से कुछ…

रिपोर्टर- और पानी?

महिला- बेटा मैं इतनी बीमार ही नहीं पड़ी कभी कि पानी पीना पड़े…

 

 

 

 

 

 

पति – आज तो गर्मी सी लग रही है…

पत्नी – हां गर्मी होने लगी है…
.
पति – चलो छत पर ठंडी हवा खा के आते हैं…
.
पत्नी – आप जाओ, मैं प्लेट और चम्मच
लेकर आती हूं..!!!

 

 

 

बीवी की तबियत कुछ खराब रहती थी तो उसने पेंटर से अपनी एक तस्वीर बनवाई,

फिर कुछ सोच कर पेंटर को कहा कि गले में नौलखा हार भी बना दो।
पेंटिंग बनने के बाद पेंटर ने पूछा- आपने ऐसा क्यों किया?
बीवी बोली – कभी मैं मर गई तो मेरे पति दूसरी शादी कर लेंगे,
नई वालीआएगी तो वो हार ढूंढेगी और मिलेगा नहीं तो झगड़ा होगा…
तब मेरी आत्मा को सच्चा सुकून मिलेगा…
इसे कहते हैं, wife जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी…!!

 

 

 

 

 

 

एक दिन एक बहुत बड़े कजूंस सेठ के घर में कोई मेहमान आया!!

कजूंस ने अपने बेटे से कहा,
आधा किलो बेहतरीन मिठाई ले आओ। बेटा बाहर गया और कई घंटों बाद वापस आया।
कंजूस ने पूछा मिठाई कहाँ है।
बेटे ने कहना शुरू किया-” अरे पिताजी, मैं मिठाई की दुकान पर गया और हलवाई से बोला कि सबसे अच्छी मिठाई दे दो। हलवाई ने कहा कि ऐसी मिठाई दूंगा बिल्कुल मक्खन जैसी।
फिर मैंने सोचा कि क्यों न मक्खन ही ले लूं। मैं मक्खन लेने दुकान गया और बोला कि सबसे बढ़िया मक्खन दो। दुकान वाला बोला कि ऐसा मक्खन दूंगा बिल्कुल शहद जैसा।
मैने सोचा क्यों न शहद ही ले लूं। मै फिर गया शहद वाले के पास और उससे कहा कि सबसे मस्त वाला शहद चाहिए। वो बोला ऐसा शहद दूंगा बिल्कुल पानी जैसा साफ।
तो पिताजी फिर मैंने सोचा कि पानी तो अपने घर पर ही है और मैं चला आया खाली हाथ।
कंजूस बहुत खुश हुआ और अपने बेटे को शाबासी दी। लेकिन तभी उसके मन में कुछ शंका उत्पन्न हुई।
“लेकिन बेटे तू इतनी देर घूम कर आया। चप्पल तो घिस गई होंगी।”
“पिताजी ये तो उस मेहमान की चप्पल हैं जो घर पर आया है।”
बाप की आंखों में खुशी के आंसू आ गए ।

 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है