Covid-19 Update

36,566
मामले (हिमाचल)
28,080
मरीज ठीक हुए
575
मौत
9,257,945
मामले (भारत)
60,416,976
मामले (दुनिया)

हिमाचल में गौ सदनों के निर्माण के लिए 8.75 करोड़ रुपए जारी

हिमाचल में गौ सदनों के निर्माण के लिए 8.75 करोड़ रुपए जारी

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश में गठित गौ सेवा आयोग द्वारा गौ सदनों (Cow Shed) के निर्माण एवं रख-रखाव के लिए 8.75 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं। यह जानकारी पशुपालन एवं मत्स्य मंत्री वीरेंद्र कंवर (Virendra Kanwar) ने आज यहां आयोजित गौ सेवा आयोग की प्रथम बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त 3.93 करोड़ रुपए की राशि मंदिर ट्रस्ट निधि (Temple Trust fund) व अन्य निधि से उपायुक्तों द्वारा स्वीकृत की गई है।

यह भी पढ़ें: बिग ब्रेकिंग : एससीए चुनाव की बहाली के संकेत, जयराम ने जताई सहमति

उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस उद्देश्य पर 8.40 करोड़ रुपए की राशि व्यय की जा चुकी है। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि जिला सिरमौर (Sirmaur) के कोटला बडोग में गौ अभ्यारण के लिए 1.52 करोड़ रुपए तथा जिला ऊना के थाना कलां के गौ अभ्यारण के लिए 1.70 करोड़ रुपए की राशि जारी की गई है। उन्होंने कहा कि जिला सोलन के गौ अभ्यारण के लिए 2.97 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की गई थी, जिसमें 1.64 करोड़ रुपए की राशि एचपीएसआईडीसी बद्दी को जारी कर दी गई है।

इसी प्रकार जिला हमीरपुर के खेरी के गौ सदन के लिए 2.56 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं और जिला कांगड़ा (Kangra) के इंदौरा के गौ सदन के लिए 3.55 करोड़ रुपए और कंगैहन जयसिंहपुर के लिए 10 लाख रुपए व जिला किन्नौर के राली में गौ सदन के निर्माण के लिए 22 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं। वीरेंद्र कंवर ने कहा कि प्रदेश में जो गौ सदन सरकारी भूमि (Government Land) पर चल रहे हैं उन गौसदनों की भूमि को पशुपालन विभाग के नाम पर हस्तांतरित करके गौ सदन चलाने वाली संस्था को लीज पर उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि पंचायती राज अधिनियम के अंतर्गत ग्रामीणों द्वारा पशु छोड़ने पर उन्हें पांच हजार रुपए तक का जुर्माना लगाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: दर्दनाकः खाई में गिरा ट्राला, मां और दो माह के बेटे की मौत-तीन घायल

उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण को लेकर पंचायतों, महिला मंडलों, योग मंडलों व स्वयं सेवा संस्थानों को प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा तथा इसके रखरखाव के लिए एक व्यक्ति को तैनात किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 5 किलोवाट तक बिजली की खपत वाले गौ सदनों को घरेलू तथा अन्य गौ सदनों को व्यावसायिक मीटर व एनडीएनसी मीटर उपलब्ध करवाए गए थे, जोकि अब 20 किलोवाट खपत वाले गौशाला/गौसदनों/गौअभ्यारण्यों को घरेलू मीटर लगाने की अनुमति दे दी गई है।

उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण का दायित्व केवल सरकार तक सीमित नहीं है। उन्होंने समस्त गैर सरकारी एवं विशेष आमंत्रित सदस्यों से बेहसहारा गौवंश के संरक्षण के लिए आगे आने का आह्वान किया। इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव पशुपालन संजय गुप्ता, सचिव (भाषा, कला एवं संस्कृति) पूर्णिमा चौहान, गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा, निदेशक पशुपालन डॉ. सुदेश चौधरी, सरकारी व गैर सरकारी सदस्य भी अन्य सहित उपस्थित थे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है