इस बार बाबा भलकू की स्मृति में होगा अनूठी साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन

11 अगस्त को शिमला-कालका रेल में होगी गोष्ठी

इस बार बाबा भलकू की स्मृति में होगा अनूठी साहित्यिक गोष्ठी का आयोजन

- Advertisement -

दयाराम कश्यप, सोलन। विश्व धरोहर के रूप में विख्यात शिमला-कालका रेल ( Shimla-Kalka Rail ) में 11 अगस्त को गत वर्ष की तरह अनूठी साहित्यिक गोष्ठी (literary seminar) बाबा भलकू की स्मृति में आयोजित की जाएगी। अपने आप में यह अलग तरह का साहित्यिक आयोजन हिमालय साहित्य, संस्कृति एवं पर्यावरण मंच द्वारा आयोजित किया जा रहा है। इसमें हिमाचल के 33 रचनाकार व संस्कृतकर्मी भाग ले रहे हैं।


यह भी पढ़ें:आम जनता को सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटने से मिलेगी निजात

इस गोष्ठी को बाबा भलकू की स्मृति और सम्मान में समर्पित किया गया है। भलकू चायल के समीप झाझा गांव का एक अनपढ़ किन्तु विलक्षण प्रतिभा संपन्न ग्रामीण था, जिसकी सलाह और सहयोग से अंग्रेज इंजीनियर (English engineer) शिमला-कालका रेलवे लाइन के निर्माण में सफल हो पाए थे। हरनोट के अनुसार यह यात्रा सुबह 10-40 बजे शिमला से शुरू होगी और बड़ोग तक चलेगी। वहां दोपहर के भोजन और ठहराव के बाद तीन बजे पुन: शिमला की और रवाना होगी। यह जानकारी हिमालय मंच के अध्यक्ष और लेखक एसआर हरनोट ने दी।

 

यह भी पढ़ें:बंपर नौकरी: चंबा जिला में लगेगा रोजगार मेला, 300 को मिलेगी जॉब

हरनोट ने बताया कि हिंदुस्तान तिब्बत रोड के निर्माण के वक्त भी बाबा भलकू के मार्ग निर्देशन में न केवल सर्वे हुआ, बल्कि सतलुज नदी पर कई पुलों का निर्माण भी हुआ था, जिसके लिए उन्हें ब्रिटिश सरकार के लोक निर्माण विभाग द्वारा ओवरशीयर की उपाधि से नवाजा गया था। वर्ष 1947 में सेवानिवृत्ति के उपरांत उनकी सेवाएं उस वक्त कालका-शिमला रेलवे लाइन के सर्वेक्षण में ली गई, जब परवाणु से शिमला के लिए चढ़ाई देखकर ब्रिटिश अभियंताओं को समझ नहीं आ रहा था कि आगे का सर्वेक्षण कैसे करें। बताया जाता है कि भलकू अपनी एक छड़ी से नपाई करता और जगह-जगह सिक्के रख देता और उसके पीछे चलते हुए अंग्रेज सर्वे का निशान लगाते चलते। इस तरह जहां ब्रिटिश प्रशासन के धुरंधर इंजीनियर फेल हो गए, वहां शिमला से 73 किलोमीटर दूर झाझा गांव, जो विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थल चायल से 8 किलीमीटर दूर है, के निवासी इस अनपढ़ ग्रामीण ने बड़ी सहजता से इस कार्य को अंजाम दिया था।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सीएम को बुद्धिज्म कल्चरल स्टडी विवि का शिलान्यास करने के लिए किया आमंत्रित

हिमाचल उपचुनावः धर्मशाला व पच्छाद सीटों पर इस दिन डाले जाएंगे वोट

विधानसभा चुनाव : महाराष्ट्र-हरियाणा में 21 को वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे

सत्ती बोले, पौंग बांध विस्थापितों के पुनर्वास को अधिकारियों की समन्वय समिति गठित हो

ऊना पुलिस ने आधी रात को दी ढाबों व अहातों में दबिश

सुप्रिया श्रीनेत को कांग्रेस ने नियुक्त किया राष्ट्रीय प्रवक्ता

दिल्ली किसान घाट पर प्रदर्शन करने पहुंचें उत्तर प्रदेश के किसान, ये हैं मांगे

सऊदी अरब में हमले के बाद अमेरिका ने लगाया ईरान पर बैन, सेना तैनात

दर्दनाक हादसाः लुढ़कते ही लगी गाड़ी में आग, घायल चालक ने कूदकर बचाई जान

महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव तारीखों का आज हो सकता है ऐलान

हिमाचल पर्यटन नीति-2019 अधिसूचित, वेब पोर्टल पर लें जानकारी

एनसीसी समूह की साइकिल रैली रवाना, राज्यपाल ने हरी झंडी दिखाई

होटलों की जीएसटी दरों के युक्तिकरण का हिमाचल को होगा फायदा

गोवा में हुई जीएसटी परिषद की बैठक में बिक्रम ठाकुर ने रखी यह बात

गुरकीरत सिंह बोले-वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ बयानबाजी अनुशासनहीनता

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है