Story in Audio

Story in Audio

हैरत ! जनमंच में समस्या उठाने के बाद भी कीचड़ वाला गंदा पानी पी रहे “कुफरधार” के ग्रामीण

विभाग बोला, कुफरधार में नहीं कोई स्थायी रिहायश, सिर्फ अस्थाई तौर पर रहते हैं कुछ लोग

हैरत ! जनमंच में समस्या उठाने के बाद भी कीचड़ वाला गंदा पानी पी रहे “कुफरधार” के ग्रामीण

- Advertisement -

वी कुमार/मंडी। ग्रामीणों द्वारा कीचड़ युक्त गंदा पानी पीने का एक वीडियो (Video) सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। जब वायरल हो रहे इस वीडियो की जांच पड़ताल की गई तो पता चला कि यह वीडियो मंडी जिला के द्रंग विधानसभा क्षेत्र की लटराण पंचायत (Laturan Panchayat of Durang assembly constituency of Mandi district) के कुफरधार (Kufradhar) गांव का है। इस वीडियो को हाल ही में एक व्यक्ति ने गांव में जाकर बनाया है। वीडियो में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि गांव की कुछ महिलाएं और बच्चे बरसात के कारण ठहरे पानी को बर्तनों में भर रहे हैं और बच्चे इस पानी को पी रहे हैं। वीडियो बनाने वाला व्यक्ति इन महिलाओं से बात करता है और महिलाएं अपने गांव में चल रही पेयजल किल्लत के बारे में बताती हैं। महिलाएं बताती हैं कि उन्हें हर वर्ष ऐसे ही गंदे पानी से अपना गुजारा करना पड़ता है और विभाग व सरकार इनकी इस समस्या की तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। एक वर्ष पहले इलाके के थल्टूखोड़ गांव में जब जनमंच हुआ था तो उस वक्त भी ग्रामीणों ने यहां पर पेयजल किल्लत का मामला उठाया था।


यह भी पढ़ें : “देवव्रत” 22 को संभालेंगे गुजरात के राज्यपाल का कार्यभार

स्थायी कोई रिहायश नहीं, अस्थाई शैड में रहते हैं लोग

जब इस पूरे वीडियो की जांच पड़ताल की गई तो यह बात भी सामने आई कि कुफरधार में कोई स्थायी रिहायश नहीं है। यहां ग्रामीण फसलों की बिजाई के दौरान आते हैं क्योंकि बहुत से लोगों की यहां पर जमीनें हैं। ग्रामीणों में अमर सिंह, भाग सिंह, साजी देवी, सुनीता देवी, राम सिंह, टेक चंद, हिमी देवी, बरती देवी, सौणी देवी, कली देवी आदि का कहना है कि मधराण गांव के ग्रामीण बरसात में 6 महीनों के लिए कुफरधार में खेतीबाड़ी और मटर की पैदावार के लिए रिहायश करते हैं। जिन्हें कई सालों से पेयजल किल्लत का सामना करना पड़ रहा है।

जनमंच में उठा था मुद्दा

यह भी मालूम हुआ कि एक वर्ष पहले इलाके के थल्टूखोड़ गांव में जब जनमंच (Jan Manch) हुआ था तो उस वक्त भी ग्रामीणों ने यहां पर पेयजल किल्लत का मामला उठाया था। जनमंच में आए उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर ने उस दौरान आईपीएच विभाग को शीघ्र ही प्रारूप तैयार कर कुफरधार के ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मुहैया करवाने का आदेश दिया था। लेकिन जनमंच कार्यक्रम बीत जाने के बाद आईपीएच विभाग फिर से बेखबर हो गया। यहां गांव के लिए कोई भी योजना आज तक नहीं बन पाई है।

1996 में बिछाई थी लाईन

ग्रामीणों के अनुसार वर्ष 1996 में कुफरधार के लिए विभाग द्वारा पेयजल लाइन बिछाई गई थी। इस दौरान लगभग दो साल तक नियमित रूप से पानी की आपूर्ति भी होती रही। लेकिन उसके बाद इस लाइन की देखरेख और रखरखाव को लेकर विभाग ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। जिस कारण यहां बिछाई गई पाइप लाइनें भी जंग से खत्म हो चुकी हैं। ग्रामीणों ने आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर से विभाग के इस लापरवाह रवैये पर कड़ा संज्ञान लेने की मांग उठाई है। साथ ही चेतावनी भी दी है कि आईपीएच विभाग अब भी संजीदा होते हुए शुद्ध पेयजल उपलब्ध नही करवाता है तो मजबूरन उन्हें संघर्ष की राह तैयार करनी पड़ेगी।


धनराशि
मिलते ही शुरू होगा काम- आईपीएच विभाग (IPH Deptt) के एसडीओ धर्म सिंह रावत का कहना है कि कुफरधार में स्थाई तौर पर किसी ग्रामीण की रिहाइश नहीं है। ग्रामीण यहां बरसात में अस्थाई शैड बनाकर खेतीबाड़ी करते हैं। विभाग की यहां कोई पेयजल योजना भी नहीं है। जनमंच में ग्रामीणों ने पेयजल मुहैया करवाने की मांग उठाई थी। जिसके लिए एस्टीमेट बनाकर भेजा गया है। धनराशि की स्वीकृति मिलती है तो कार्य शुरू किया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बड़ी खबरः जिस उद्योग की खांसी-जुखाम की दवा से बच्चों की किडनी हुई खराब, वहां की छापामारी

12वीं के Chemistry Practical के दौरान लैब में विस्फोट, चार छात्र घायल

कैबिनेटः छात्र हित में लिया यह बड़ा फैसला, मारंडा में PHC को हरी झंडी

कैबिनेट ब्रेकिंगः Excise Policy  को मिली मंजूरी, भरे जाएंगे यह पद

Rathore का वार: दिल्ली में केंद्र तो Himachal में जयराम सरकार छात्रों पर बरसा रही लाठियां

सरकारी स्कूल में Practical लेने पहुंचा युवक निकला Fraud, मौके से फरार

BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार हिमाचल आ रहे नड्डा, Solan में गरजेंगे

39 तिब्बती Corona Virus से संक्रमित, Dalai Lama ने बेहतर भविष्य का दिलाया भरोसा

सरकाघाट के पौंटा में Truck ने रौंदा बिजली बोर्ड का रिटायर्ड एक्सईएन

कुल्लूः ITMS इंस्टोल, ऑटोमेटिक होगा चालान- Mobile में आएगा मैसेज

Mukesh का तंज- जयराम जी एक्सीडेंटल मिली है सत्ता - इसे संभाल कर रखें

जयराम सरकार की Cabinet  बैठक शुरू, सभी मंत्री मौजूद

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति  विभाग की लापरवाही से सरकारी खजाने को लगी करोड़ों की चपत

फौजी की फूंक डाली Bike, पुलिस-इंश्योरेंस ऑफिस के चक्कर में फंसा मामला, देखें Video

ब्रेकिंग: Mandi Police की कस्टडी से भागे नेपाली को जगतसुख में दबोचा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु

10वीं, जमा दो की परीक्षाओं को लेकर क्या बोले बोर्ड अध्यक्ष Suresh Kumar Soni, पढ़ें पूरी खबर


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है