Covid-19 Update

13110
मामले (हिमाचल)
9173
मरीज ठीक हुए
141
मौत
5,700,508
मामले (भारत)
31,935,983
मामले (दुनिया)

‘ये गांव है वीर जवानों का’: Asia के सबसे बड़े गांव ने देश को दिए हैं 27,000 से अधिक फौजी; जानें

‘ये गांव है वीर जवानों का’: Asia के सबसे बड़े गांव ने देश को दिए हैं 27,000 से अधिक फौजी; जानें

- Advertisement -

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के गाजीपुर (Ghazipur) के गहमर गांव (Gahmar Village) को फौजियों का गांव कहते हैं। इस गांव में कई पीढ़ियों से देश सेवा के लिए फौजी बनना एक परम्परा बन चुकी है। गहमर का हर युवा आज भी फौजियों के गांव की इस परम्परा की विरासत को पूरे जिम्मेदारी से संभाले हुए हैं। गाजीपुर में फौजियों का ये गांव जहां एशिया में सबसे बड़ा गांव है। वहीं, औसतन हर घर में एक सैनिक इस गांव की शान बढ़ा रहा है। वर्तमान में गहमर के 12 हजार से अधिक लोग भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में सैनिक से लेकर कर्नल तक के पदों पर कार्यरत हैं। जबकि 15 हजार से ज्यादा भूतपूर्व सैनिक गांव में रहते हैं। बताया जाता है कि सैन्य सेवा को लेकर गहमर की ये परम्परा प्रथम विश्व युद्ध से शुरु हुई। द्वितीय विश्व युद्ध में गहमर के 226 सैनिक अंग्रेजी सेना में शामिल रहे, जिसमें से 21 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुये थे।


 

एक लाख 20 हजार है गांव की आबादी

गाजीपुर जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर गंगा किनारे बसा गहमर एशिया का सबसे बड़ा गांव माना जाता है, जिसकी कुल आबादी एक लाख बीस हजार है। तकरीबन 25 हजार मतदाताओं वाला गहमर 8 वर्ग मील में फैला हुआ है। गहमर 22 पट्टियों या टोले में बंटा है। ऐतिहासिक दस्तावेज बताते हैं कि सन 1530 में कुसुम देव राव ने सकरा डीह नामक स्थान पर गहमर गांव बसाया था। गहमर में ही प्रसिद्ध कामख्या देवी मंदिर भी है, जो पूर्वी उत्तर प्रदेश समेत बिहार के लोगों के लिए आस्था का बड़ा केन्द्र है। लेकिन गहमर की सबसे बड़ी पहचान है यहां के हर घर में एक फौजी से। गांव वाले मां कामाख्या को अपनी कुल देवी मानते हैं और देश सेवा को अपना सबसे बड़ा फर्ज। गहमर गांव के औसतन हर घर से एक पुरुष सेना में कार्यरत है। गांव के हर घर में फौजियों की तस्वीरें, वर्दियां और सेना के मेडल फौजियों के इस गांव की कहानी खुद ही बयान कर देती हैं।

यह भी पढ़ें: ये कैसी आजादी: ना बना रास्ता, ना पुल- बरसात में शेष दुनिया से कट जाता है गांव

 

मां कामख्या स्वयं करती हैं अपने बेटों की रक्षा

गहमर के सैनिकों ने सन 1962,1965 और 1971 के युद्धों में भी भारतीय सेना के लिए अपने हौंसले और जज्बे के दम पर मोर्चा संभाला था। देश सेवा इस गांव के हर बांशिदे के लिए सबसे बड़ी गर्व की बात है। फौजियों के इस गांव की एक सच्चाई ये भी है कि आजादी के बाद से आज तक गहमर के सैनिक विभिन्न युद्धो में अपनी वीरता और शौर्यता का परचम तो फहराते रहे, लेकिन आज तक कोई भी शत्रु सेना उनका बाल भी बांका नही कर पायी। गहमर के लोगों की मान्यता है कि उनकी कुल देवी मां कामख्या हर मोर्चे पर गहमर के अपने बेटों की रक्षा स्वयं करती हैं। यूपी के गाजीपुर जिले के गहमर गांव को पूरे देश में फौजियों के गांव के रुप में पहचाना जाता है। गहमर का हर युवा होश संभालते ही देश सेवा के लिए सेना में भर्त्ती होने के लिए अभ्यास शुरु कर देता है। फौजियों के इस गांव में युवाओं का मकसद सैनिक बनकर देश सेवा ही होता है। पूरा गांव अपने इस जज्बे पर गर्व भी महसूस करता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

पंजाब के खरड़ में प्रदर्शन के चलते Una से जनशताब्दी ट्रेन रद्द

#Himachal के पहले दौरे पर ही कुलदीप राठौर की पीठ थपथपा गए राजीव शुक्ला

सुरेश कश्यप बोले- राजीव शुक्ला Congress की चिंता करें, दोबारा सत्ता में आएगी BJP

शिमला के नाम बड़ी उपलब्धि: खुला शौच मुक्त में डबल प्लस घोषित होने वाला HP का पहला शहर बना

#High Court: खांसी और जुकाम दवा सैंपल फेल मामले की याचिकाएं खारिज

कांगड़ा में बड़ा हादसा: #Chamba से आ रही कार नाले में गिरी; 3 लोगों ने मौके पर ही तोड़ा दम

#Corona पॉजिटिव अभ्यर्थी भी दे सकेंगे कार्यकारी अधिकारी और सचिव की परीक्षा

डीडीयू अस्पताल महिला सुसाइड मामला, #Congress का हल्ला बोल- दिखी गुटबाजी

Agricultural Bill-निजीकरण के खिलाफ भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी ने खोला मोर्चा

जवाहर का कौल पर तंज : अनपढ़ व्यक्ति से हारकर #PM और CM के खिलाफ कर रहे टिप्पणियां

300 में से मात्र 100 को ही मिल पाए Driving Test Tokens,सोशल डिस्टेंसिंग की भी उड़ी धज्जियां

#HRTC_Bus की चपेट में आया वन विभाग का अधिकारी, IGMC में गई जान

IIT Mandi के पूर्व निदेशक को दी गई उपाधि पर उठे सवाल, पढ़ें क्या है सारा माजरा

बीच बाजार खड़ी कार के टायर में लिपटा अजगर, #Video में देखिए कैसे निकाला बाहर

#Corona_Update: कई दिनों बाद 300 से कम केस आए, आज 5 की मौत; कुल मामले 13 हजार पार

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला

Himachal: तकनीकी शिक्षा बोर्ड विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, इनकी होंगी परीक्षाएं

मार्च की 10वीं और 12वीं SOS की Practical परीक्षा में Absent छात्रों को विशेष अवसर

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथियां घोषित

#HPBose: बड़ा फैसला- SOS के तहत जमा दो मेडिकल व नॉन मेडिकल की हो सकेगी पढ़ाई



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है