Covid-19 Update

41,860
मामले (हिमाचल)
33,336
मरीज ठीक हुए
667
मौत
9,525,668
मामले (भारत)
64,510,773
मामले (दुनिया)

Kullu: देवसंसद में अठारह करडू ने दिए आदेश -ढालपुर मैदान में करवाओ काहिका उत्सव

दशहरा उत्सव में नाराज देवताओं ने दिए थे जगती करवाने के आदेश

Kullu: देवसंसद में अठारह करडू ने दिए आदेश -ढालपुर मैदान में करवाओ काहिका उत्सव

- Advertisement -

कुल्लू। दशहरा उत्सव में ना बुलाने को लेकर नाराज हुए देवी-देवताओं के आह्वान पर आज भगवान रघुनाथ के दरबार में देव संसद (छोटी जगती) हुई। इस देव संसद में अठारह करडू (athaarah karadu) ने आदेश दिए कि ढालपुर मैदान में काहिका उत्सव (Kahika festival) का आयोजन किया जाए और उसके बाद यज्ञ हो। सभी देवी देवताओं के निशान के साथ धार्मिक उत्सव मनाया जाएगा। आज देव संसद (Deva sansad) में डेढ सौ से अधिक देवी-देवताओं ने शिरकत की। साथ ही देवताओं ने यह आदेश किया कि देवनीति में राजनीति ना करें। आज देव संसद का आयोजन देवता धूमल नाग हलाण, देवता हरिनारायण, देवता मेहा नारायण, देवता वीरनाथ, देवता फलाणी नारायण और देवी कोटली के आदेश पर किया गया।

यह भी पढ़ें: #Kullu_Dussehra: देवभूमि में अनर्थ को रोकने के लिए 3 देवी-देवताओं ने किया छिद्रा

 

दशहरा उत्सव (Dussehra festival) के दौरान नाराज देवता देवता धूमल नाग, देवता वीरनाथ और देवता मेहा नारायण ने एक नवंबर को रघुनाथ के अस्थायी शिविर ढालपुर में छिद्रा की थी। इस दौरान देवताओं ने कहा कि 15 दिन के भीतर देव संसद करवानी होगी। ऐसे में भगवान रघुनाथ (Lord Raghunath) की ओर जिला के देवी देवताओं के कारदारों को भेजे गए निमंत्रण में देवी देवताओं के जगती में घंटी, धड़छ या निशान के साथ शामिल होने का निमंत्रण दिया था। भगवान रघुनाथ के मुख्य छड़ीबरदार महेश्वर सिंह (Maheshwar Singh) ने कहा कि देवताओं ने आदेश दिए है कि ढालपुर मैदान में काहिका उत्सव का आयोजन किया जाए। साथ ही देवनीति में भी राजनीति ना करने के देवताओं ने आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: #Kullu_Dussehra: उत्सव में वाद्य यंत्रों की देव धुनों पर देवी-देवताओं का हुआ भव्य मिलन

 

उन्होंने कहा कि देवता इस बात से नाराज है कि उनको दशहरा उत्सव में आने नहीं दिया गया। देव आदेश के बाद अब यह तय किया जाएगा कि काहिका का आयोजन कब करवाना है संभवतयः यह आयोजन दशहरा से पहले होगा। बिगड़े मौसम के बीच आज देव संसद हुई है। इस में भगवान कि कृपा रही। किसी को भी यहां आने में कष्ट नहीं हुआ। देवताओं को राजनीति से दूर रखा जाए तो यह बेहतर होगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है