अयोध्या केस: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा क्या राम के वंश का कोई आज दुनिया में मौजूद है?

पांचों दिन होगी सुनवाई, मुस्लिम पक्ष की दलील खारिज

अयोध्या केस: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा क्या राम के वंश का कोई आज दुनिया में मौजूद है?

- Advertisement -

नई दिल्ली। अयोध्या ज़मीन विवाद मामले (Ayodhya case) में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में जस्टिस बोबड़े ने पूछा कि क्या इस वक्त दुनिया में रघुवंश (Ram’s dynasty) का कोई वंशज मौजूद हैं? जिसपर रामलला के वकील के परासरण ने कहा कि मुझे नहीं पता। परासरण ने अदालत को बताया कि रामायण में उल्लेख है कि सभी देवता भगवान विष्णु के पास गए और रावण के अंत करने की बात कही। तब विष्णु ने कहा कि इसके लिए उन्हें अवतार लेना होगा इस बारे में जन्मभूमि का वर्णन किया गया है और इसका महत्व है।


यह भी पढ़ें :-किन्नौर: 28 वर्षीय शख्स ने किया 2 साल की बच्ची का रेप, नालागढ़ से हुआ अरेस्ट

उन्होंने आगे कहा कि ये मामला दशकों से लटका हुआ है, इसलिए इसका समाधान होना चाहिए। पुरातत्व विभाग के सबूत दिखाते हैं कि मस्जिद से पहले भी उस स्थान पर कुछ निर्माण था। जिस पर कोर्ट ने जवाब देते हुए कहा कि वह इस मामले की रोजाना सुनवाई जारी रखेगा। जब राजीव धवन की बारी आएगी और उन्हें छुट्टी की जरूरत होगी तो उन्हें ब्रेक दिया जाएगा। अगले हफ्ते से सुनवाई फिर शुरू होगी। वहीं इससे पहले मुस्लिम पक्ष (Muslim side) के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में मामले की सप्ताह में 5 दिन सुनवाई (Hearing) पर अपना विरोध दर्ज कराते हुए कहा, ‘यह अमानवीय है, सुनवाई में जल्दबाज़ी नहीं की जा सकती।’ उन्होंने कहा, ‘अगर ऐसे चलता रहा, मुझे मजबूरन केस छोड़ना पड़ेगा।’ तैयारी करने के लिए समय न मिल पाने की मुस्लिम पक्ष की दलील को बाद में सुप्रीम कोर्ट ने नकार दिया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सीएम कमलनाथ का भांजा रतुल पुरी 354 करोड़ के बैंक घोटाले के आरोप में गिरफ्तार

मणिमहेश को आज से शुरू होगी हेली टैक्सी, इतना लगेगा किराया

चक्की खड्ड के पास के गांवों में खतरे की घंटी, खाली करने की सलाह

ननखड़ी में बोलेरो खाई में गिरी, एक महिला की मौत-पांच घायल

मानसून सत्रः हिमाचल में बनेगी जल परिवहन नीति, खरीदे जाएंगे स्टीमर

बारिश के जख्मों पर मरहम-पीडब्ल्यूडी, आईपीएच और बिजली बोर्ड को 15 करोड़ जारी

चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे 43 घंटों के बाद बहाल, दौड़ी गाड़ियां

सरकार ने किया साफः नहीं भरे जाएंगे फीमेल हेल्थ वर्कर्ज के बेचवाइज पद

चंद्रताल में फंसे 127 पर्यटक रेस्क्यू, काजा मार्ग पर 300 की अभी भी अटकी हैं सांसे

मानसून सत्रः सदन में गूंजा विधायक रायजादा मामला, विपक्ष का हंगामा-नारेबाजी की

हिमाचल विधानसभा का मानसून सत्र शुरू, 31 तक चलेगा

मानसून सत्रः जलरक्षकों को लेकर सरकार ने कही यह बड़ी बात-जानिए

बेरहम मौसमः इस जिला के शिक्षण संस्थानों में कल भी छुट्टी घोषित 

मणिमहेश यात्रा को लेकर आ गया प्रशासन का ये बड़ा फैसला, जाने से पहले देना ध्यान

बैन के बावजूद गिलानी को इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाने वाले दो BSNL अधिकारी सस्पेंड

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है