Covid-19 Update

13996
मामले (हिमाचल)
9714
मरीज ठीक हुए
159
मौत
5,954,932
मामले (भारत)
32,888,078
मामले (दुनिया)

Polythene का विकल्प बन कर उभरा बांस, किसानों को मिल रहा रोजगार

ज़िला के चार विकास खण्डों के किसानों को वितरित किए जा रहे15 हज़ार पौधे

Polythene का विकल्प बन कर उभरा बांस, किसानों को मिल रहा रोजगार

- Advertisement -

कांगड़ा। प्रदेश सरकार ने क़रीब दो दशक पूर्व राज्य में पॉलिथीन लिफाफों के बेतहाशा प्रयोग को देखते हुए इनके इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था। सर्वविदित है कि प्लास्टिक का उपयोग हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक है। इसे देखते हुए देश की तमाम सरकारों के अलावा ग़ैर-सरकारी संगठन पॉलिथीन (Polythene) के स्थान पर अन्य पदार्थों से बने लिफाफों, थैलों और पैकिंग मेटीरियल के विकास को प्राथमिकता दे रहे हैं। परिणामस्वरूप उपभोक्ताओं के समक्ष कई विकल्प उभर कर सामने आ रहे हैं। केन्द्र सरकार ने पॉलिथीन के विकल्प उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से राष्ट्रीय बांस योजना बनाई है। बांस (Bamboo), पॉलिथीन के उपयोग को कम करने या पूरी तरह ख़त्म करने का एक अहम ज़रिया हो सकता है। बांस से कई तरह का उपयोगी सामान बनाया जा सकता है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य पॉलिथीन के उपयोग को कम करना या एकल-उपयोग वाले पॉलिथीन को पूरी तरह बंद करना है।


यह भी पढ़ें:  Himachal: कुश्ती में नेशनल खेल चुका खिलाड़ी निचोड़ रहा गन्ने का रस, एक बेरोजगार

 

बांस से निर्मित होने वाला सामान हमारे दैनिक जीवन में उपयोग होने वाली कई वस्तुओं का स्थान ले सकता है। वर्तमान में बांस से पानी की बोतलों और बेहद उम्दा फर्नीचर बनाया जा रहा है। इसके अलावा बांस से निर्मित हस्तकला उत्पादों को लोग काफ़ी पहले से पसन्द करते आ रहे हैं। दो दशकों से बांस से बने विभिन्न उत्पादों के निर्माण और व्यवसाय में संलग्न शाहपुर निवासी ब्रह्मु बताते हैं कि वह जानवरों से छोटे पौधों की सुरक्षा के लिए ट्री गार्ड से लेकर घर की रसोई में प्रयोग होने वाले तमाम तरह के बर्तन और सामान, सजावटी वस्तुएं, टोकरियां आदि बनाते हैं। हाथ से बनने वाले बांस के तमाम उत्पादों में समय भी लगता है और मेहनत भी।

पालमपुर स्थित कृषि उप निदेशक पीसी सैणी कहते हैं कि बरसात का मौसम बांस की रोपाई के अनुकूल होता है। कांगड़ा ज़िला (Kangra District) के चार विकास खंड़ों के किसानों को बांस के 15 हज़ार पौधे वितरित किए जा रहे हैं। एक कनाल भूमि पर बांस के चालीस पौधे लगाए जा सकते हैं। हिमाचल प्रदेश में बांस की मांग साल भर बनी रहती है। इसके मद्देनजर विभाग ने वर्ष 2020-21 के लिए एक कार्ययोजना बनाई है, जिसके अंतर्गत प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस मिशन योजना के तहत इस वर्ष में 90 हेक्टेयर क्षेत्र में 90 हज़ार पौधे लगाने का प्रावधान है। व्यक्तिगत भूमि पर 25 कनाल में एक हजार पौधे लगाने के लिए 50 प्रतिशत या अधिकतम 25 हज़ार रुपए की राशि का प्रावधान है। पीसी सैणी बताते हैं कि योजना के तहत बांस से संबंधित उद्योग लगाने के लिए बेरोज़गार युवाओं को प्रशिक्षण और आर्थिक सहायता देने का प्रावधान किया गया है। इस वित्त वर्ष के अंतर्गत ज़िला कांगड़ा से 1‐12 करोड़ रुपये की कार्ययोजना केंद्र सरकार को भेजी गई है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में कमज़ोर वर्ग के लोगों को आजीविका मुहैया करवाने में मदद मिलेगी।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Himachal में ठंड का आगाज, मनाली और भरमौर की ऊंची चोटियों पर हल्का हिमपात

#Corona को मात देकर लौटे मंत्रियों का अनुभव आएगा काम, सरकार करेगी कुछ ऐसा

Scholarship Scam: केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के वाइस चेयरमैन सहित दो को सशर्त जमानत

बड़ी खबर: BJP चीफ बनने के 8 महीने बाद नड्डा ने बनाई अपनी टीम; एक भी हिमाचली नेता शामिल नहीं

PM Narendra Modi के प्रस्थान तक कुल्लू जिला के अधिकारियों-कर्मियों के पैरों में बेड़ियां

#Cabinet_Breaking: एक विभाग का बदला नाम, भरे जाएंगे ये पद-खुलेंगी ITI

लव जेहाद ,धर्मांतरण और गौ हत्या पर विहिप ने Jairam Govt को घेरा

पहले बाहर से मंगवाते थे किसान अनाज, अब पांच गुणा बढ़ गई अन्न की पैदावार

PM मोदी के हिमाचल दौरे की बड़ी अपडेट: रात को लाहुल-स्पीति में नहीं ठहरेंगे; उसी दिन होगी वापसी

सुकेत व्यापार मंडल के प्रदर्शन से पहले PWD ने उड़ती धूल पर किया पानी का छिड़काव

भरमौर में Accident: नाले में गिरी Pickup, युवक की मौके पर गई जान

मधुबनी के तालाब से मछलियों की जगह निकल रही है शराब की बोरियां

गंगा में मिली South America में पाई जाने वाली मछली, वैज्ञानिकों ने जाहिर की ये चिंता

साड़ी के साथ स्पोर्ट्स शूज पहनकर इस लड़की ने किया कमाल का डांस, देखिए Viral Video

पाक PM इमरान खान ने UN में उगला जहर: भारत को धमकाते हुए कहा- RSS को रोको वरना....

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

पहली से आठवीं कक्षाओं के छात्रों की ऑनलाइन परीक्षाओं की Datesheet जारी

#HPBose: डीईएलईडी पार्ट वन और टू का रिजल्ट आउट, कितने सफल, कितने असफल- जानिए

छात्र Online देख सकते हैं SOS की प्रेक्टिकल परीक्षा के अंक , feeding का भी विकल्प

D.El.Ed CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग में आधे अभ्यर्थी ही पात्र

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है