Covid-19 Update

12174
मामले (हिमाचल)
7667
मरीज ठीक हुए
121
मौत
5,487,580
मामले (भारत)
30,928,163
मामले (दुनिया)

Himachal के इस जिला में एक ऐसा मंदिर जो साल के आठ माह रहता है अदृश्य

Himachal के इस जिला में एक ऐसा मंदिर जो साल के आठ माह रहता है अदृश्य

- Advertisement -

रविन्द्र चौधरी /जवाली। हिम के आंचल में बसा हिमाचल कई रहस्यों से भरा पड़ा है। यहां प्रसिद्ध शक्तिपीठों के अलावा कई ऐसे छोटे मंदिर (Temple) है जो अपने आप में अदभुत हैं और अपने आप में कई रहस्यों को छिपाएं हुए हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं। यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा (Kangra) में स्थित है। इन मंदिरों की कहानी महाभारत से जुड़ी हुई है। इन मंदिरों की श्रृंखला का निर्माण पांडवों ने अपने अज्ञातवास के दौरान किया था। यह मंदिर साल के आठ महीने पानी में डूबे रहते हैं। ऐसा यहां स्थित पौंग बांध (Pong Dam) के कारण होता है, जिसका पानी चढ़ता-उतरता रहता है।


यह भी पढ़ें: आखिर Himachal में कब तक खुलेंगे मंदिरों के द्वार, पढ़े यहां

 

ब्यास नदी पर बने पौंग बांध की महाराणा प्रताप सागर झील में पठानकोट से 40, धर्मशाला से 70 किमी दूर मेन पौंग की दीवार से 15 किमी दूरी पर ऐतिहासिक स्थल बाथू की लड़ी में इन मंदिरों का निर्माण किया गया था। जो इस समय झील के बीचोंबीच स्थित है। प्राचीन कथाओं के अनुसार पांडवों ने इस पवित्र स्थल का निर्माण करने के उद्देश्य से अपने प्रिय सखा भगवान कृष्ण जी को स्मरण करके एक रात्रि को छह माह के बराबर बना दिया था, ताकि एक ही रात्रि में बाथू की लड़ी (bathu ki ladi) का निर्माण किया जा सके, क्योंकि दिन में अज्ञातवास होने की वजह से पांडव छिपे रहते थे।

 

मंदिर में मौजूद हैं महाभारत काल की वस्तुएं

यह मंदिर साल में करीब आठ माह पौंग झील का स्तर बढ़ने के कारण पानी में डूबा रहता है और मात्र चाह माह तक ही पानी से बाहर रहता है। महाभारत काल (Mahabharata period) में पांडवों द्वारा बनाए गए इन मंदिरो का क्षेत्र राजा गुलेर के अधीन था। उन्होंने इसके रखरखाव की जिम्मेदारी गृहस्थ जीवन से परे की जिदगी जीने वाले वैरागी साधुओं को दे दी थी जो बाद में इन्हीं की गद्दी के रूप में यह मंदिर प्रचलित रहा। इस मंदिर में आज भी पुरानी महाभारत काल की वस्तुएं मौजूद हैं। इस मंदिर के दर्शन के लिए लोग गाडी व बोट दोनों तरीकों से जाते हैं।

यह भी पढ़ें: शुभ विवाह शुभ आंगन, अब इस तरह Brand Ambassador भी बनेंगी बेटियां

 

कई फिल्मी एल्बमों की हो चुकी है शूटिंग

गर्मियों में पूर्ण रूप से पानी के बाहर रहने से इस मंदिर के पूर्णतया दर्शन करके सौभाग्यशाली बना जा सकता है। इस मंदिर के चारों ओर पौंग झील के पानी की मौजूदगी से यह स्थान अति मनमोहक लगता है। इसी के फलस्वरूप इस स्थान पर कई फिल्मी एल्बमों की शूटिंग (Shooting of albums) हो चुकी है। इस बाथू की लड़ी को जाने वाला रास्ता भी काफी दयनीय है। करीब 8 माह तक पानी में समाए रहने के कारण इस मंदिर की नक्काशी भी उखड़नी शुरू हो गई है। इसके साथ निर्मित छोटे-छोटे मंदिर गिरने शुरू हो गए हैं। बाथू की लड़ी को अगर पुरातत्व विभाग (Archeology department) ध्यान दे, तो इसको पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जा सकता है। पर अब यह धरोहर हरसाल पानी के नीचे रहने से खंडहर बनती जा रही है और धीरे धीरे अपने वजूद को खोने लगी है।

यह भी पढ़ें: पांडवों के अज्ञातवास से जुड़े मुरारी देवी मंदिर का रास्ता नहीं हो पाया पक्का

 

बोट या गाड़ी के माध्यम से जा सकते हैं मंदिर तक

इस समय भी लोग यहां गाडी या बोट के माध्यम से जाते हैं क्योंकि इन दिनों यह स्थान पूरी तरह से पानी के बाहर है इस स्थान को निहारते हैं और यहां की निर्माण कला को देख कर आश्चर्य चकित होते हैं। अब 20 अगस्त के बाद जब मानसून की बारिश शुरू होगी तो बांध में जलभराव होना शुरू होगा और फिर 20 सितंबर तक यह ऐतिहासिक मंदिर के शीर्ष से भी ऊपर 50 फीट तक पानी आ जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कुल्लू-मनाली में ब्यास के किनारे लगे नजारे, अठखेलियां करते नजर आ रहे Tourist

अब मात्र Spray से होगा मशरूम उत्पादन, ऊना के इस किसान ने तैयार किया Liquid Culture

Lok Sabha में गूंजा #Bollywood में यौन शोषण का मुद्दा, रवि किशन ने की कठोर कानून की मांग की

शादी के कार्ड पर लड़की ने मांगा Cash, गिफ्ट के आधार पर सेट किया खाने का Menu

New Pension Scheme Employees Union अब सरकार के खिलाफ करेगा आंदोलन

#Solan: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के घर दबिश, चीनी, तेल व बिस्कुट बरामद- सील

पानी के तेज बहाव में बह गई 3 परिवारों की कई बीघा भूमि व मिट्टी में मिले पेड़

पूड़े के साथ पुदीने की चटनी व खीर खानी है तो Himachalके इस शहर का करना होगा रूख

Atal Tunnel में बीएसएनएल देगा Highspeed connectivity, उद्घाटन के साथ होगी शुरू

Shimla में रिज पर बने Water Tank की मरम्मत का काम शुरू ,2 माह लगेंगे दरारें भरने में

ये हैं दुनिया के 5 सबसे जानलेवा जीव: लिस्ट में शामिल है मक्खी और मच्छर का भी नाम, जानें

#China में आया नया वायरस, तीन हजार से ज्यादा लोग निकले Positive

अटल टनल रोहतांग में 4G नेटवर्क की सुविधा का Trial सफल; जानें कितनी मिलेगी स्पीड

#Corona_Update: हिमाचल में आज 286 नए मामले, पांच लोगों ने गंवाई जान

Big Breaking: शिमला में कंडा जेल का कैदी पुलिस को चकमा देकर हुआ फरार

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला

Himachal: तकनीकी शिक्षा बोर्ड विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, इनकी होंगी परीक्षाएं

मार्च की 10वीं और 12वीं SOS की Practical परीक्षा में Absent छात्रों को विशेष अवसर

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथियां घोषित

#HPBose: बड़ा फैसला- SOS के तहत जमा दो मेडिकल व नॉन मेडिकल की हो सकेगी पढ़ाई



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है