Covid-19 Update

3744
मामले (हिमाचल)
2402
मरीज ठीक हुए
17
मौत
24,11,547
मामले (भारत)
20,850,291
मामले (दुनिया)

जयराम ठाकुर बोले- IHBT पालमपुर ने प्रदेश को बनाया देश का आरोमा राज्य

सीएम ने हिमालयन जैव-संसाधन प्रोद्यौगिकी संस्थान के 38वें स्थापना सप्ताह की अध्यक्षता की

जयराम ठाकुर बोले- IHBT पालमपुर ने प्रदेश को बनाया देश का आरोमा राज्य

- Advertisement -

शिमला। पालमपुर का हिमालयन जैव-संसाधन प्रोद्यौगिकी संस्थान (Institute of Himalayan Bioresource Technology) प्रदेश के टांडा, चंबा, हमीरपुर चिकित्सा महाविद्यालयों को कोविड-19 के परीक्षण के लिए सभी आवश्यक उपकरण और लॉजिस्टिक सहयोग प्रदान कर रहा है। इसके अलावा प्रदेश में किए जा रहे कोविड-19 के परीक्षण करवाने में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह बात सीएम जय राम ठाकुर ने शुक्रवार को यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पालमपुर के वैज्ञानिक तथा ओद्यौगिक अनुसंधान परिषद हिमायलन जैव प्रोद्यौगिकी संस्थान के 38वें स्थापना सप्ताह के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।


यह भी पढ़ें: कब होगा Rohtang Tunnel का उद्घाटन, क्या बोले सीएम जयराम ठाकुर-जानिए

 

यह भी पढ़ें: Himachal ने देनदारियां चुकाने को मांगा 540 करोड़ का Loan और 350 करोड़ का अनुदान

सीएम जयराम (CM Jai Ram) ने प्रोटीन प्रसंस्करण केंद्र का शुभारंभ तथा टिशु कल्चर इकाई और बांस की हाई-टैक नर्सरी की आधारशिला भी रखी। जयराम ठाकुर ने कहा कि संस्थान ने उपभोक्ताओं के लिए अल्कोहल रहित हैंड सैनिटाइजर और हर्बल साबुन बनाने में भी सफलता प्राप्त की है। संस्थान विभिन्न पौधों से निर्मित सुगन्धित तेलों के उत्पादन तैयार करके हिमाचल प्रदेश को देश का आरोमा राज्य बनाने में अहम भूमिका निभा रहा है।

 

हींग और केसर की खेती से किसानों की आर्थिकी सुदृढ़ होगी

जय राम ठाकुर ने कहा कि संस्थान द्वारा हींग और केसर की खेती के लिए किए गए प्रयास प्रशंसनीय हैं। प्रदेश सरकार ने हींग की खेती को बढ़ावा देने के लिए 4.50 करोड़ रुपये तथा केसर की खेती को बढ़ावा देने के लिए 5 करोड़ रुपये लागत की परियोजनाएं आरंभ की हैं। प्रदेश सरकार (State Govt) इन परियोजनाओं को सफल बनाने के लिए संस्थान को हर संभव सहायता प्रदान करेगी। जैविक खेती (Organic farming) को बढ़ावा देने के लिए बड़े स्तर पर प्रयास किए जा रहें हैं। केसर और हींग का उत्पादन प्रदेश के किसानों की आर्थिकी को सुदृढ़ बनाने में सफल प्रयास सिद्ध होगा। वहीं, औषधीय पौधों और जड़ी-बूटी का व्यावसायिक उत्पादन भी प्रदेश के किसानों की आर्थिकी को सुदृढ़ करेगा। इन उत्पादों को बाजार में बेहतर मूल्य मिलेगा और यह देश को आत्मनिर्भर बनाने में अहम भूमिका निभाएगा। जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर संस्थान की पत्रिका बैम्बू रिर्सोसिज एैट सीएसआईआर- आईएचबीटी और टी-जर्मप्लाजम एैट सीएसआईआर-आईएचबीटी का विमोचन किया।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

















सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है