Covid-19 Update

39,406
मामले (हिमाचल)
30,470
मरीज ठीक हुए
632
मौत
9,393,039
मामले (भारत)
62,573,188
मामले (दुनिया)

जयराम ने हिमाचल में बौद्ध सर्किट विकसित को डीपीआर बनाने के दिए निर्देश

जयराम ने हिमाचल में बौद्ध सर्किट विकसित को डीपीआर बनाने के दिए निर्देश

- Advertisement -

शिमला। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने कहा कि राज्य सरकार अनछुए पर्यटन स्थलों में मूलभूत अधोसंरचना सुविधाएं विकसित करके प्रदेश में पर्यटन को व्यापक बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रत्येक पर्यटन परियोजना को चरणबद्ध तरीके से लागू करेगी तथा सभी आयु वर्ग के पर्यटकों को सुविधाएं उपलब्ध करवाकर इस प्रदेश को सभी का पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाया जा रहा है। उन्होंने राज्य में बौद्ध सर्किट (Buddhist circuit) विकसित करने के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (DPR) तैयार करने के भी निर्देश दिए। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) आज सीएसआरडी फाउंडेशन द्वारा राज्य में पर्यटन अधोसंरचना के विकास पर दी गई प्रस्तुति के दौरान बोल रहे थे।

यह भी पढ़ें: छात्रा को मैसेज कर करता था परेशान, परिजनों ने कॉलेज पहुंचकर की धुनाई

 

जयराम ठाकुर ने कहा कि सरकार चांशल को स्कीइंग, बीड़-बिलिंग को पैराग्लाइडिंग, पौंग बांध को जल क्रीड़ा और जंजैहली को इको-पर्यटन की दृष्टि से प्राथमिकता के आधार पर विकसित किया जा रहा है। सीएम ने जिला मंडी के रिवालसर जहां हिन्दू, बौद्ध और सिख श्रद्धालु मुख्यतः आते हैं को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने मंडी (Mandi) में पर्यटकों (Tourists) के लिए अतिरिक्त आकर्षण के रूप में शिव धाम को विकसित करने की योजना बनाई है।

उन्होंने कहा कि पर्यटकों की सुविधा के लिए पार्किंग, रेस्टोरेंट और अन्य सुविधाएं विकसित की जाएंगी। शिव धाम जिसका निर्माण मंडी नगर के समीप कंगनीधार में प्रस्तावित है, को केबल कार रज्जू मार्ग सुविधा से जोड़ा जाएगा, जिसका उपयोग स्थानीय लोग भी परिवहन के लिए कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त, ब्यास नदी के तटों को विकसित किया जाएगा तथा कृत्रिम झील विकसित करने के भी प्रयास किए जाएंगे।


सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने कंगनीधार को टारना मंदिर से जोड़ने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मंडी शहर को विकसित करने की परियोजना को एशियन विकास बैंक (एडीबी) द्वारा वित्तपोषित किया जाएगा, जबकि पहले चरण में जब तक सरकार एडीबी (ADB) द्वारा दिए जाने वाली धनराशि को प्राप्त नहीं कर लेती, तब तक परियोजना का कार्य राज्य निधि से किया जाएगा। सीएसआरडी फाउंडेशन के निदेशक हितेश त्रिवेदी, ओजस हिरानी और भरत पटेल तथा पर्यटन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है