Covid-19 Update

39,406
मामले (हिमाचल)
30,470
मरीज ठीक हुए
632
मौत
9,393,039
मामले (भारत)
62,573,188
मामले (दुनिया)

कांग्रेस महासचिव महेश्वर बोले, कोरोना काल में बेरोजगार के लिए कोई Special Action Plan बने

कांग्रेस महासचिव महेश्वर बोले, कोरोना काल में बेरोजगार के लिए कोई Special Action Plan बने

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश कांग्रेस महासचिव महेश्वर चौहान (Congress General Secretary Maheshwar Chauhan) ने कहा कि हिमाचल के लोगों पर आर्थिकी के दृष्टिकोण से लॉकडाउन काफी भारी पड़ा है। लॉकडाउन के दौरान प्रदेश में अप्रैल और मई महीने में लगभग 125 लोगों द्वारा आत्महत्याएं की गई हैं जिनमें मुख्यत: व्यापारी और बेरोजगार युवा थे। निश्चित तौर पर हिमाचल प्रदेश जैसे छोटे राज्य में दो महीनों के भीतर 125 लोगों द्वारा आत्महत्या (Suicide) करना एक बहुत बड़ा आंकड़ा है और यह एक गंभीर चिंता का विषय है। सरकार को इस पर तुरंत संज्ञान लेते हुए मालूम करना चाहिए था कि किन कारणों से ये आत्महत्याएं हो रही हैं, क्या वे लोगे अपने भविष्य को लेकर चिंतित थे, क्या इस लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान उन्हें सैलरी इत्यादि मिल रही थी या ऐसी क्या वजह थी कि इतने छोटे से अंतराल में इतनी ज्यादा आत्महत्याएं हो गईघ् सरकार को इस बात पर गौर करना चाहिए था, परंतु सरकार द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: Important: पंचायतों में Audit करवाने पर लगी रोक, कारण जानने के लिए करें क्लिक

 

Unemployed

 

कोरोना की वजह से नौजवानों को अपने रोजगार से हाथ धोना पड़ा है और आज वे अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं । कोरोना काल में बेरोजगारों (Unemployed) के लिए कोई विशेष एक्शन प्लान और ठोस नीति का निर्धारण किया जाना चाहिए ताकि प्रदेश में इन आत्महत्याओं के बढ़ते आंकड़े पर लगाम लगाई जा सके। बेरोजगार युवाओं के भविष्य को किस तरह सुरक्षित किया जा सकता है, उनके लिए क्या-क्या योजनाएं बनाई जा सकती हैं, इस दिशा में तुरंत प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है। महेश्वर चौहान ने कहा कि हिमाचल प्रदेश पर्यटन राज्य के रूप में पूरे विश्व में जाना जाता है परंतु इस कोरोना काल में सबसे ज्यादा नुकसान भी इसी पर्यटन के क्षेत्र को हुआ है। हिमाचल प्रदेश के लगभग 6 लाख परिवारों की आजीविका सीधे तौर पर पर्यटन से जुड़ी हुई है परंतु सरकार पर्यटन को पुनर्जीवित करने के लिए कोई भी योजना अभी तक धरातल पर नहीं उतार पाई है और पर्यटन क्षेत्र पूरी तरह तहस-नहस हो गया है। सरकार द्वारा पर्यटन (Tourism) के क्षेत्र में कोई आर्थिक सहायता नहीं दी गई है और पर्यटन को पुर्नस्थापित करने के लिए मात्र कोरी घोषणाएं की जा रही हैं जोकि पर्यटन उद्योग के साथ एक खिलवाड़ है। सरकार द्वारा होटल्स के 6 महीने के बिजली, पानी के बिल माफ करने और सस्ती दरों पर होटलियर्ज के लिए लोन की व्यवस्था करने की बात भी मात्र घोषणा बन कर रह गई है।

 

हिमाचल प्रदेश के पर्यटन को सुदृढ़ करने की दिशा में सरकार पर्यटन से जुड़े लोगों को अभी तक किसी भी तरह की राहत देने में विफल रही है। जब तक हिमाचल का पर्यटन उद्योग सुदृढ़ नहीं होगा प्रदेश की आर्थिकी पटरी पर नहीं आ सकती। उन्होंने चिंता प्रकट करते हुए कहा कि पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतें भी मंहगाई का एक मुख्य कारण है। आज हिन्दुस्तान पूरे विश्व के अंदर पेट्रोल-डीजल पर सबसे ज्यादा टैक्स लेने वाला देश बन गया है। जब भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में थी तो पेट्रोल-डीजल (Petrol-diesel) की कीमतों पर हर रोज प्रदर्शन किया करती थी परंतु जब आज पेट्रोल-डीजल की कीमतें चरम पर हैं तो आज सरकार खामोश क्यों बैठी हुई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है