Covid-19 Update

35,729
मामले (हिमाचल)
27,981
मरीज ठीक हुए
562
मौत
9,193,982
मामले (भारत)
59,814,192
मामले (दुनिया)

Rohtak #PGIMS पहुंची #Covaxine, किडनी-हार्ट रोगियों पर किया जाएगा तीसरे चरण का ट्रायल

200 हेल्दी वॉलंटियर्स पर तेजी से किया जाएगा ट्रायल, दी जाएगी छह एमजी की डोज

Rohtak #PGIMS पहुंची #Covaxine, किडनी-हार्ट रोगियों पर किया जाएगा तीसरे चरण का ट्रायल

- Advertisement -

रोहतक। को-वैक्सीन (Covaxine) की डोज हरियाणा के पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विश्वविद्यालय के पीजीआइएमएस में पहुंच गई हैं। भारत बायोटेक व इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) के संयुक्त तत्वावधान में तैयार की जा रही को-वैक्सीन का के तीसरे चरण के ट्रायल (Third phase trial) किडनी, लीवर व हार्ट के रोगों से ग्रस्त लोगों पर भी किया जाएगा। कुल एक हजार वॉलंटियर्स पर पीजीआइएमएस में ट्रायल होगा। इसमें से 200 हेल्दी वॉलंटियर्स पर तेजी से ट्रायल किया जाएगा। इनको 28 दिन बाद दूसरी डोज दी जाएगी। 18 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले वॉलंटियर्स को कंधे के जरिए को-वैक्सीन की छह एमजी की डोज दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: #SalmanKhan के ड्राइवर सहित दो स्टाफ मेंबर #CoronaPositive, सेल्फ आइसोलेट हुए एक्टर

कुलपति डा. ओपी कालरा ने कहा कि पीजीआइएमएस (PGIMS) उन तीन सेंटर में शामिल है जिसमें 200-200 वॉलंटियर्स पर फास्ट ट्रायल होना है। कुल 21 सेंटर पर 25800 वॉलंटियर्स पर ट्रायल होगा। इसके 42 दिन बाद शरीर में एंटीबॉडी की स्थिति मापी जाएगी। इस समयसीमा के बाद भी एंटीबॉडी बनती हैं तो ट्रायल को सफल माना जाएगा। यदि ट्रायल सफल रहता है तो अप्रैल-मई तक वैक्सीन तैयार हो सकती है। ट्रायल के लिए अगले एक सप्ताह में 200 वॉलंटियर्स को शामिल करने की बात कही।

 

पहले और दूसरे फेज का ट्रायल रहा सफल

कुलपति डा. कालरा ने बताया कि पीजीआइ में फेज एक और दो के ट्रायल सफल रहे। दूसरे ट्रायल में कुछ वॉलंटियर्स (Volunteers) को हल्की-फुल्की एलर्जिक शिकायत आई। जोकि, आम वैक्सीन से भी हो जाती हैं। पहले फेज में 375 और दूसरे फेज में 350 वॉलंटियर्स पर वैक्सीन का ट्रायल हुआ। तीसरे फेज के ट्रायल सफल होने पर 90 फीसद तक वैक्सीन का परिणाम आने की उम्मीद पीजीआइ के चिकित्सकों ने जताई है। पीजीआइ में को-वैक्सीन की प्रिंसिपल इन्वेस्टीगेटर डा. सविता वर्मा ने बताया कि बेशक वयस्क और बुजुर्ग पर वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है, लेकिन यह बच्चों व किशोरों पर भी प्रभावी रहेगी। पहले और दूसरे फेज के ट्रायल में छह और नौ एमजी की डोज दी गई थी। ट्रायल में पता चला कि दोनों ही डोज एक जैसा काम करती हैं, इसलिए तीसरे ट्रायल में छह एमजी की ही डोज दी जाएगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है