Covid-19 Update

3371
मामले (हिमाचल)
2185
मरीज ठीक हुए
13
मौत
2,212,429
मामले (भारत)
19,919,752
मामले (दुनिया)

Didi के पास नहीं है Architect की डिग्री, फिर भी कई विश्वविद्यालयों के छात्र उनसे सीखते हैं काम 

हिमाचल प्रदेश के सिद्धबाड़ी नाम के गांव में एक मिट्टी के छोटे से मकान में रहती हैं

Didi के पास नहीं है Architect की डिग्री, फिर भी कई विश्वविद्यालयों के छात्र उनसे सीखते हैं काम 

- Advertisement -

वास्तुकला के व्यवसाय को आवश्यक रूप से किसी भी औपचारिक शिक्षा या डिग्री की आवश्यकता नहीं है। यह कई वर्तमान आर्किटेक्ट के लिए अजीब लग सकता है, लेकिन यह एक वास्तविकता है। दुनिया में कई आर्किटेक्ट हैं जो खुद तैयार हुए (Self-Taught Architect) और इस बात को साबित किया कि वास्तुकला में कोई औपचारिक शिक्षा की जरूरत नहीं भी हो सकती है। इनमें से प्रमुख हैं फ्रैंक लॉयड राइट, लुइस सुलिवन, ले कोर्बुसियर, मीस वान डेर रोहे, बुचिमिनिस्टर फुलर, लुइस बैरागन और टाडा एंडो।


 

ये कुछ ही के नाम हैं, जो वास्तुकला के पेशे पर हावी थे, लेकिन कई और भी हैं जो तुलनात्मक रूप से कम जानकार हैं या  नहीं भी हैं। इन्हीं में से ऐसा ही एक नाम है दीदी कांट्रेक्टर (Didi Contractor) का जो भारत के हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला (Dharamsala in Himachal Pradesh, India) स्थित सेल्फ-सिखाया आर्किटेक्ट हैं। औपचारिक रूप से प्रशिक्षित आर्किटेक्टों के विपरीत, दीदी  ने मिट्टी, बांस और पत्थर की वास्तुकला (Specialized in mud, bamboo and stone architecture) में विशेषज्ञता हासिल की है। वह पिछले लगभग तीन दशकों से वास्तविक अर्थों में  स्थायी वास्तुकला में सक्रिय रूप से शामिल रही हैं।

 

 

पिता जर्मन और मां अमेरिकन थीं

दीदी के पास खुद वास्तुकला की डिग्री नहीं है, लेकिन अनेकों विश्वविद्यालय अपने छात्रों को काम सीखने के लिए उनके पास भेजते हैं। वह हिमाचल प्रदेश के सिद्धबाड़ी (Sidhbari) नाम के गांव में एक मिट्टी के छोटे से मकान में रहती हैं। डेलिया नारायण दीदी एक जर्मन-अमेरिकी वास्तुकार (German-American Architect) है जो भारत में टिकाऊ निर्माण पर अपने काम के लिए जानी जाती हैं।

 

महिलाओं की उपलब्धियों और योगदान को पहचानने के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार नारी शक्ति पुरस्कार की विजेता दीदी 91 वर्ष की उम्र में भी बराबर काम करती हैं। दीदी के पिता जर्मन और मां अमेरिकन थीं, इसलिए उन्हें जर्मन-अमेरिकी वास्तुकार कहकर भी पुकारा जाता है।

 

मिट्टी-बांस-पत्थर से बनाती हैं घर

दीदी की शादी गुजराती कांट्रेक्टर (Gujarati Contractor) से हुई, दीदी ने हिमाचल में आकर अपने मिट्टी के मकान का नक्शा खुद ही बनाया उसके बाद अनेकों लोगों ने अपने घर का नक्शा दीदी से बनवाया। उसके बाद दीदी के मकान प्रसिद्ध होने लगे, धीरे-धीरे अनेकों विश्वविद्यालय (University) अपने छात्रों को काम सीखने के लिए उनके पास भेजने लगे। दीदी अपने मकान में सिर्फ स्थानीय सामान इस्तेमाल करती हैं उनके बनाए मकानों में मिट्टी-बांस-पत्थर स्थानीय मिलने वाली लकड़ी का ही इस्तेमाल होता है।

 

 

अगर उनके पास कोई बड़ा मकान बनवाने के लिए नक्शा बनाने के लिए कहे तो वह परिवार के सदस्यों के बारे में पूछेंगी और फिर जरूरतों के हिसाब से नक्शा बना कर देंगी। दीदी गांधीवादी हैं सरल एवं सहज हैं, उनके घर में सारे कपड़े खादी के हैं उनका रहन-सहन बिल्कुल सादा है। दीदी का जन्म वर्ष 1929 में यूनाइटेड स्टेट्‍स में हुआ,वह वर्तमान में हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला से सटे छोटे से गांव सिद्धबाड़ी में रहती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Bali बोले, सीएम Kangra में बैंड बाजा बजवाकर उड़ा गए Social Distancing की धज्जियां

अंडमान को Submarine OFC की सौगात, PM Modi बोले - इंटरनेट स्पीड के साथ बढ़ेगी कनेक्टविटी

कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास

Private Hospital में प्रसव के बाद महिला की मौत, गुस्साए परिजनों ने किया हंगामा, लापरवाही का आरोप

सोलन: BBN के प्रदूषण को कंट्रोल करेंगे छोटे वन, कसंबोवाल से शुरू हुई लघु वन योजना

Kangra: जंगल में मिला हैंड ग्रेनेड, इलाका सील- बम निरोधक दस्ता बुलाया

 इस देश में पिछले 100 दिनों से Community Transmission नहीं आया कोई  भी Case

Corona Update: एक स्वास्थ्य और तीन पुलिस कर्मियों सहित आज 107 पॉजिटिव, दो आर्मी जवान भी संक्रमित

करुणामूलक आधार पर नौकरी में हटे आय का दायरा, Jai Ram से मिला प्रतिनिधिमंडल

बारिश ने रोका Jai Ram का उड़नखटोला, Una दौरा स्थगित; उद्घाटन व शिलान्यास लटके

ECG टेक्नीशियन मशीन खराब होने का बहाना बनाकर Duty से गायब, रात भर भटकते रहे लोग

पोस्टर फाड़ने का मामलाः BJP युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं के खिलाफ शिकायत, जांच में जुटी Police

Corona का कहरः 16 दिन की छुट्टियों पर China से आया था परिवार, 6 महीने बाद लौटा वापस

सीएम के जयसिंहपुर प्रवास के दौरान Yuva Morcha कार्यकर्ताओं की हरकत पर Rathore उबले

रामपुर में ITBP के Jawan ने खुद को मारी गोली, शिमला किया रेफर

loading...
कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास
कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास
कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास
कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास
कांग्रेस महासचिव Priyanka आज आ सकती हैं Shimla, जिला प्रशासन ने ओके किया ई-पास
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है