पाकिस्तान में इंसानों के साथ गधों की भी बढ़ रही आबादी, जानें गधों का चाइना कनेक्शन

‘गधा विकास कार्यक्रम’ चलाती है पाकिस्तान सरकार

पाकिस्तान में इंसानों के साथ गधों की भी बढ़ रही आबादी, जानें गधों का चाइना कनेक्शन

- Advertisement -

नई दिल्ली। पाकिस्तान में हर साल इंसानों की आबादी के साथ गधों (Donkey) की भी तादाद बढ़ती जा रही है। पाकिस्तानी सरकार (Pakistan govt) खुद उनकी आबादी बढ़ाने के लिए अरबों रुपये खर्च करती है। साल 2017-18 के आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक, पाकिस्तान में गधों की संख्या में सालाना एक लाख के हिसाब से बढ़ोतरी हो रही है। पाकिस्तान में 53 लाख गधे हैं। असल में इसका खास चाइना कनेक्शन (China connection) भी है।

यह भी पढ़ें :  बाप को रोने की आवाज से मिलता था सुकून, मां ने 4 महीने के बच्चे की तोड़ डाली 28 हड्डियां

गधों की संख्या बढ़ाने के लिए पाकिस्तान सरकार ‘गधा विकास कार्यक्रम’ भी चलाती है। साल 2017 में इस कार्यक्रम में सरकार ने अरबों रुपये का निवेश किया है। दरअसल, पाकिस्तान द्वारा ऐसा करने के पीछे सबसे बड़ा मकसद चीनी निवेशकों (Chinese investors) को खैबर-पख्तूनख्वाह की ओर आकर्षित करना है। पाकिस्तान सरकार को गधों के निर्यात से काफी अच्छी-खासी आय हो जाती है। यह आय पाकिस्तान के सकल राष्ट्रीय उत्पाद का अहम हिस्सा है। कहा जाता है कि चीन में गधों की खाल काफी उपयोगी मानी जाती है और इसका इस्तेमाल हेल्थ फूड (Health food) और पारंपरिक दवा बनाने में भी किया जाता है। इसलिए चीन बड़े पैमाने पर पाकिस्तान से गधों की खरीदारी करता है।

यह भी पढ़ें : लोग समझते थे बाप-बेटी, 20 साल की लड़की ने दिया बुजुर्ग के 2 बच्चों को जन्म

इसलिए है चीन में गधों की डिमांड

गधे की खाल से बनने बनने वाले जिलेटिन (Giletin) की चीन में काफी मांग है और हाल के वर्षों में गधों की खाल की खरीद भी काफी बढ़ी है। गधों की खाल से बनने वाले जिलेटिन को चीन में इजीयो कहते हैं। पुराने समय से इसका उपयोग ब्लड सर्कुलेशन (Blood circulation) बेहतर बनाने वाली चीनी दवाई के तौर पर किया जाता है। खाल के अलावा गधों के मांस की भी चीन में काफी डिमांड है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है