Covid-19 Update

43,500
मामले (हिमाचल)
34,555
मरीज ठीक हुए
698
मौत
9,608,418
मामले (भारत)
66,230,912
मामले (दुनिया)

शिक्षा मंत्री की शिक्षकों को सलाह- Corona से बचने को अकेले में अपने घर से बना खाना हीं खाएं

शिक्षण संस्थानों में जलपान करते समय एहतियात बरतने को कहा

शिक्षा मंत्री की शिक्षकों को सलाह- Corona से बचने को अकेले में अपने घर से बना खाना हीं खाएं

- Advertisement -

कुल्लू। शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर (Education Minister Govind Thakur) ने शिक्षकों से कहा कि शिक्षण संस्थानों में जलपान करते समय एहतियात बरतें। हो सके तो अकेले में अपने घर से बना भोजन आदि का ही इस्तेमाल करें और सामाजिक दूरी का ख्याल रखें। देखा गया है कि जलपान करते समय मास्क (Mask) उतारने के बाद पुनः लगाना भूल जाते हैं और दूसरे लोगों से संवाद करने लग जाते हैं जो कहीं ना कहीं आपको संकट में डाल सकता है। गोविंद सिंह ठाकुर ने आज मनाली से निदेशक और समस्त उप निदेशक शिक्षा (उच्च) के साथ कोविड -19 (Covid-19) की चुनौतियों के बीच स्कूल और कॉलेजों में बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए राज्य में स्कूल व कॉलेजों को फिर से खोलने पर उच्च शिक्षा विभाग की तैयारियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) में सभी जिलों के शिक्षा उपनिदेशक व अन्य शिक्षक जुड़े। शिक्षा मंत्री ने सोशल मीडिया में कुछ अध्यापकों के कोरोना (Corona) पॉजिटिव होने की खबरों को अनावश्यक तूल देने पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि अध्यापक भी समाज का हिस्सा है, उनको भी कोरोना हो सकता है। उन्होंने कहा कि समाज में नकारात्मकता नहीं फैलाई जानी चाहिए। संकट की इस घड़ी में व्यक्ति को सकारात्मक वातावरण की आवश्यकता है और प्रत्येक व्यक्ति को इस बात को समझना चाहिए।

यह भी पढ़ें: #Corona का डर अभी भी कायम, ऊना में अभिभावकों ने बच्चों को दिखाया Red Signal, स्कूलों में संख्या कम

गोविंद ठाकुर ने कहा कि कोरोना की चुनौतियों के बीच शिक्षण संस्थानों में अध्ययन भी जारी रखना है और बच्चों को तथा शिक्षकों को अपने आप को कोरोना संक्रमण से भी बचाना है। उन्होंने कहा कि गत मार्च के तीसरे सप्ताह से शिक्षण संस्थान बंद थे और अब आधे से अधिक शैक्षणिक सत्र समाप्त होने को है तो ऐसे में स्कूलों (Schools) व कॉलेजों को खोलना जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि हालांकि कोरोना काल में शैक्षणिक गतिविधियां ऑनलाइन (Online) जारी रहीं, लेकिन संस्थानों में पढ़ाई को कब तक बंद रखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से उभरे #CM_Jai_Ram ने पहली मर्तबा छोड़ा शिमला, #Helicopter से उड़कर पहुंचे भोरंज

शिक्षा मंत्री ने कहा कि शिक्षण संस्थानों में एसओपी (SOP) का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए। सभी बच्चों के पास फेस कवर हों, सामाजिक दूरी का अनुपालन सुनिश्चित करवाया जाए। एक सीट छोड़कर बच्चे बैठेंगे। उन्होंने कहा कि अनेक स्थानों पर परिवहन सुविधा यदि बच्चों को आसानी से उपलब्ध नहीं है, तो ऐसे में बच्चे अपने घरों में ऑनलाइन अध्ययन जारी रख सकते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों की सुरक्षा सबकी प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उपनिदेशक समय-समय पर स्कूलों का निरीक्षण करें और सुनिश्चित बनवाएं कि एसओपी की अनुपालना हो रही है। उन्होंने कहा कि अधिकारी व शिक्षक अपने अनुभव भी सांझा करें, ताकि और शिक्षा के क्षेत्र में और बेहतर कदम उठाए जा सके।
उन्होंने कहा कि वह हर रोज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोई ना कोई कार्यक्रम कर रहे हैं, ताकि सामाजिक व आर्थिक गतिविधियां चलती रहे और आवश्यक कार्य भी अवरूद्ध ना हों। शिक्षा मंत्री ने सभी शिक्षकों (Teachers), विद्यार्थियों व अभिभावकों से अपील की है कि बच्चे स्कूलों व कॉलेजों में आएं, लेकिन पूरी एहतियात के साथ। कहीं पर भी कोताही बरतने से नुकसान हो सकता है। शैक्षणिक संस्थानों को अच्छे से सैनिटाइज करना सुनिश्चित बनाया जाए। सामाजिक दूरी की अनुपालना की जाए।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है