Covid-19 Update

37,497
मामले (हिमाचल)
28,993
मरीज ठीक हुए
589
मौत
9,291,068
मामले (भारत)
61,032,383
मामले (दुनिया)

Shimla: मौसम में बहार या प्रकृति का प्रहार, बारिश और ओलावृष्टि से शहरवासी परेशान

Shimla: मौसम में बहार या प्रकृति का प्रहार, बारिश और ओलावृष्टि से शहरवासी परेशान

- Advertisement -

शिमला/मनाली। हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की राजधानी शिमला में बुधवार को प्रकृति का एक विरल रूप देखने को मिला। बुधवार सुबह शिमला (Shimal) में धूप खिली तो लोगों ने राहत की सांस ली। सोचा तापमान में थोड़ी बढ़ोतरी होगी लेकिन दोपहर तक मौसम खराब होने के बाद ओलों के साथ तेज बारिश (Rain) हुई और तापमान एक बार फिर गिर गया। अंधड़ के साथ बारिश और ओलावृष्टि (Hail Storm) से दिन के तापमान में आई गिरावट से ठंडक बढ़ गई। यहां दोपहर के समय बादलों की गड़गड़ाहट के साथ ओलावृष्टि का दौर शुरू हुआ।

यह भी पढ़ें: First Hand: कांग्रेस के इस्तीफे की मांग के बीच Jai Ram Cabinet की बैठक कल, इसलिए है महत्वपूर्ण

सड़कों पर पानी बहने से यातायात बाधित रहा

लगभग एक आधे घंटे तक राजधानी के रिज, माल रोड़, लोअर बाजार, लक्कड़ बाजार, बस स्टैंड में जमकर ओलावृष्टि हुई। वहीं उपनगर संजौली,ढली, पंथाघाटी, भट्ठाकुफर, मत्याणा, चम्याणा, कसुम्पटी, समरहिल, छोटा शिमला, बीसीएस और विकासनगर में जमकर बारिश हुई। बारिश और ओलावृष्टि इतनी भंयकर थी कि कुछ समय के लिए शहर की रफ्तार दी थम गई। कई जगहों में सड़कों पर बारिश का पानी बहने लगा। इस दौरान यातायात भी बाधित रहा। हालांकि बाद में मौसम सामान्य हो गया। शिमला में बारिश व ओलावृष्टि होने से दिसंबर की तरह ठंड महसूस की जा रही है। यहां आज अधिकतम तापमान 22.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें: TGT के 554 पदों पर बैचवाइज भर्ती प्रक्रिया शुरू; भरे जाएंगे कला, नॉन मेडिकल और मेडिकल संकाय के पद

बारिश व ओलावृष्टि का सिलसिला सात जून तक जारी रहने का अनुमान

पश्चिमी विक्षोभ के कारण राज्य के अनेक हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से जमकर बादल बरस रहे हैं। मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि बारिश व ओलावृष्टि का सिलसिला सात जून तक जारी रहने का अनुमान है। मध्यपर्वतीय क्षेत्रों में अगले 24 घंटों में भी गरज के साथ बारिश व ओलावृष्टि होगी। 5 व 6 जून को मैदानी व मध्यपर्वतीय इलाकों के 10 जिलों में ओलावृष्टि व तूफान का आरेंज अलर्ट रहेगा। इस दौरान 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफतार से तुफान आने की आशंका है। 8 जून को मौसम के साफ रहने का अनुमान है, लेकिन 9 जून को फिर मौसम अपने तेवर दिखाएगा।

यह भी पढ़ें: बड़ी चूक: Kangra में Covid-19 पॉजिटिव पाए गए शख्स की पत्नी को भेज दिया था घर, प्रधान को भी नहीं दी जानकारी

अंधड़ ने बागवानों को परेशान किया, ऊंची चोटियों पर भी हल्का हिमपात

रोहतांग दर्रे सहित लाहुल व मनाली की ऊंची चोटियों में बुधवार को भी हल्का हिमपात हुआ। बुधवार को रोहतांग दर्रे में दिनभर वाहनों की आवाजाही सुचारू रही। लेह मार्ग बहाल होने के बाद सेना की रसद मनाली होते हुए ही लेह पहुंचाई जा रही है। लेह सहित किलाड़ पांगी व लाहुल के लिए भी खाद्य सामग्री लगातार दर्रे से होकर ही भेजी जा रही है। बुधवार को मनाली की ऊंची चोटियों सहित मकरवे, शिकरवे, सेवन सिस्टर पीक, मनाली पीक, लद्दाखी पीक, हनुमान टिब्बा, देउ टिब्बा, मांगन कोट सहित लाहुल की ओर कुंजम, शिंकुला, बारालाचा, लेडी ऑफ केलंग, छोटा व बड़ा शीघ्री ग्लेशियर सहित समस्त ऊंची चोटियों में बर्फ की चादर ओढ़ ली है। आज बुधवार को रोहतांग दर्रा आम वाहनों के लिए भी खुला रहा। वहीं दूसरी ओर निचले इलाकों में आज भी अंधड़ ने बागवानों को परेशान किया। एसडीएम मनाली रमन घरसंगी ने कहा कि आज रोहतांग दर्रे में वाहनों की आवाजाही सुचारू रही।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है