Covid-19 Update

2926
मामले (हिमाचल)
1762
मरीज ठीक हुए
12
मौत
1,959,822
मामले (भारत)
18,833,253
मामले (दुनिया)

Pathania के नाम पर अब Kangra को साधने की तैयारी, जुझारूपन के चलते पाया मुकाम

निर्दलीय के तौर पर भी पारी खेलकर स्वयं को कर चुके हैं साबित

Pathania के नाम पर अब Kangra को साधने की तैयारी, जुझारूपन के चलते पाया मुकाम

- Advertisement -

नूरपुर। राकेश पठानिया (Rakesh Pathania) नाम आते ही जुझारू शब्द मुंह पर आने लगता है। आएगा भी क्यों नहीं, संघर्ष की बात करें तो पठानिया ने राजनीतिक तौर पर कड़ा संघर्ष करते हुए ही आज कैबिनेट (Cabinet) में ये मुकाम पाया है। पठानिया कैबिनेट में जगह पाने के लिए बीते अढाई वर्षों से संघर्ष कर रहे थे तो सरकार के लिए ढाल बनकर भी काम कर रहे थे। वक्त आया और पठानिया कैबिनेट में पहुंचने में सफल रहे। बीजेपी (BJP)को भी इस वक्त राजनीतिक रूप से सबसे बड़े जिला कांगड़ा (Distt Kangra) को साधने के लिए किसी जुझारू की जरूरत महसूस हो रही थी। पठानिया नाम से बेहतरीन विकल्प शायद पार्टी को भी नहीं दिख रहा था,तीसरी मर्तबा नूरपुर (Nurpur) का किला फतेह कर पठानिया विधानसभा की दहलीज पार करने शिमला पहुंचे थे।


ये भी पढ़ेः जयराम कैबिनेट का विस्तार, सुखराम चौधरी-राकेश पठानिया व राजेंद्र गर्ग को मिली झंडी

बड़बोलेपन के लिए मशहूर हैं पठानिया

बड़बोलेपन के लिए मशहूर पठानिया दोस्तों के भी दोस्त कहलाए जाते हैं तो जरूरतमंद के लिए कभी पीछे नहीं हटते। पठानिया जिस वक्त पहली मर्तबा वर्ष 1998 में नूरपुर से जीत दर्ज कर शिमला पहुंचे थे, तो उस वक्त भी सरकार गठन में उनकी भूमिका सराहनीय रही थी। उसी के चलते उन्हें वर्ष 1998 से 2003 तक पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई। वह पांच साल तक चर्चा का केंद्र रहे। उसके बाद वह पुनः 2007 में विधानसभा (Vidhansabha) के लिए चुने गए, पर पार्टी ने इस मर्तबा उन्हें ना जाने क्यों अपने से अलग कर लिया, लेकिन पठानिया ने संघर्ष करते हुए अपने दम पर निर्दलीय ही चुनाव जीत लिया। हालांकि,वह बीजेपी के ही सहयोगी विधायक के तौर पर पांच साल तक काम करते रहे। इसके बाद वर्ष 2017 में तेरहवीं विधानसभा के लिए पठानिया तीसरी बार फिर से विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए।

ये भी पढ़ेः नए मंत्रियों और उनके स्टाफ को मिले कमरे, Room Number E-321 पर फिर कांगड़ा का कब्जा

राजपूत नेता की तलाश हुई पूरी

कर्नल काहन सिंह के घर 15 नवम्बर, 1964 को गांव लदोड़ी जिला कांगड़ा में जन्में पठानिया इस दौरान लोक प्रशासन समिति के अध्यक्ष और लोक लेखा और नियम, पुस्तकालय तथा सुविधा समितियोंके सदस्य भी रहे। तैराकी और ऐथलेटिक्स में विशेष रूची रखने वाले पठानिया इस वक्त नूरपुर में एक नर्सिंग कॉलेज का भी संचालन करते हैं। उन्होंने अपनी मेहनत के दम पर ही अपने व्यवसाय को भी खूब बढ़ाने का काम बराबर किया है। आज जब बीजेपी की प्रदेश सरकार अढाई साल का कार्यकाल पूरा कर,अगले चुनाव यानी 2022 की तरफ देखने लगी है,तो यही पठानिया कांगड़ा में पतवार लेकर सबसे आगे चलते नजर आएंगे,ऐसा पार्टी भी मानकर चल रही है। कांगड़ा की राजनीति लंबे समय से एक राजपूत नेता (Rajput leader) की भी तलाश कर रही थी,शायद पठानिया के जयराम कैबिनेट (Jai Ram Cabinet) में शामिल होने के बाद वह कमी भी पूरी हो गई है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

घटिया वेंटिलेटर खरीद मामले में बड़ी सफलता: गुमनाम पत्र जारी करने वाले को CID ने किया अरेस्ट

Himachal में खुलने लगे जिम और योग सेंटर, तीन जिलों ने जारी की अधिसूचना

Covid-19 Update: हिमाचल में मरीजों का आंकड़ा 2900 के पार; आज ठीक हुए 52 लोग

Solan के ओच्छघाट की रजनी ने स्वरोजगार से बनाई पहचान, लोगों को भी दिया रोजगार

Chamba में हादसा: आसमानी बिजली गिरने से पिता-पुत्र समेत तीन लोगों की मौत; 2 लापता

हिमाचल जॉब: HFRI में निकली 17 जेपीएफ, प्रोजेक्ट असिस्टेंट और अन्य पदों पर भर्ती; देखें

सीएम जयराम ठाकुर का Kangra प्रवास कुछ घंटों बाद, कुछ ऐसा रहेगा नौ अगस्त तक का कार्यक्रम

Covid-19 का खतरा कम होने के बाद तलाशें Online प्रशिक्षण संचालन की संभावनाएं

हिमाचल में नूरपुर बनेगा Police District, मामला फाइनल स्टेज पर

Corona Update: चंबा में एक साथ सामने आएं 17 Case, कांगड़ा और चंबा से 4-4

फील्ड के आदी  हैं CM Jai Ram ,लेकिन मौका हाथ नहीं लग पा रहा ,रोचक है मामला

Himachal से सटी सीमा पर चीनी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें, खुफिया तंत्र को मजबूत करें

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यूजिंग पायथन के Training Program के पहले बैच में ये हुए पास

Apple Season के दौरान  बागवानों को एक क्लिक पर उपलब्ध होंगे मजदूर , जानें कैसे

इन 4 जिला के युवकों के लिए निकली सेना में भर्ती , जल्द करेंआवेदन

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

शिक्षा बोर्ड ने SOS परीक्षाओं के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई- जाने नई डेट

कोरोना संकट चलता रहा तो Students को घर पर ही मिल जाएगी वर्दी-बैग

Himachal में यहां मेधावी बेटियों को प्रतियोगी परीक्षाओं की मिलेगी निशुल्क Coaching

Breaking : हिमाचल में अब ई-पीटीएम, अभिभावक रख सकेंगे अपनी बात खुलकर

Covid-19 के चलते HPBOSE ने स्थगित की TET की परीक्षाएं, 2 अगस्त से होनी थी शुरू

9वीं से 12वीं के पाठ्यक्रम में कटौती को कवायद तेज, सरकार को भेजा जाएगा Proposal

Himachal में संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए चिन्हित की जा रही जमीन

HPU ने यूजी के छात्रों को दी राहत, घर के नजदीक कॉलेजों में दे सकेंगे परीक्षा

TGT के इन 89 पदों पर होगी बैचवाइज भर्ती, दुर्गम और दूरदराज क्षेत्रों में मिलेगी तैनाती

इस दिन से शुरू होंगी यूजी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं, HPU ने जारी की डेटशीट

HPBOSE ने D.El.Ed CET परीक्षा की Answer Key दोबारा की अपलोड

बड़ी खबरः JBT और शास्त्री टैट की परीक्षा को लेकर बोर्ड का बड़ा फैसला

SOS जमा दो का रिजल्ट आउट, 10वीं और 12वीं के नियमित छात्रों को भी राहत

HPBOSE: टैट की परीक्षा के लिए Admit Card जारी, ऐसे करें डाउनलोड

टैट के 52,859 आवेदनों में 4,146 बिना फीस के आए, Board ने जारी की लिस्ट


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है