विमेंस डे 2019: जानें क्या हैं घर से लेकर दफ्तर में आपके 10 ख़ास अधिकार

यह अधिकार हैं हर महिला के लिए जरूरी

विमेंस डे 2019: जानें क्या हैं घर से लेकर दफ्तर में आपके 10 ख़ास अधिकार

- Advertisement -

नई दिल्ली। आज महिलाएं (women) समाज का ऐसा अंग बन चुकी हैं जो हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं। लेकिन महिलाओं को समाज में नाम कमाने और अपना हक़ पाने के लिए अपने अधिकारों (Rights) के बारे में भी जानकारी होना जरूरी है। इसलिए विमेंस डे 2019 के अवसर पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि घर से लेकर ऑफिस तक क्या हैं आपके 10 खास अधिकार…


गोपनीयता का अधिकार- आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत बलात्कार (Rape) की शिकार महिला जिला मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करवा सकती है और जब मामले की सुनवाई चल रही हो तो वहां किसी और व्यक्ति को उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है। यह भी जरूरी है कि बलात्कार पीड़िता का नाम और पहचान सार्वजनिक ना होने पाए।

नि:शुल्क कानूनी सहायता का अधिकार- एक महिला होने के नाते आपको यह पता होना चाहिए कि आपको भी कानूनी मदद लेने का अधिकार है और आप इसकी मांग कर सकती हैं। यह राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि वह आपको मुफ्त में कानूनी सहायता मुहैया करवाए।

यह भी पढ़ें- हर गर्लफ्रेंड अपने बॉयफ्रेंड से चाहती है यह चीजें, आजमाकर देखें बन जाएंगे उनके हीरो

देर से भी शिकायत दर्ज करने का अधिकार- बलात्कार किसी भी महिला के लिए एक भयावह घटना है, इसलिए उसका सदमे में जाना और तुरंत इसकी रिपोर्ट ना लिखवाना एक स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला दिया है कि बलात्कार या छेड़छाड़ की घटना होने और शिकायत दर्ज करने के बीच काफी वक्त बीत जाने के बाद भी एक महिला अपने खिलाफ यौन अपराध का मामला दर्ज करा सकती है।

सुरक्षित कार्यस्थल का अधिकार- प्रत्येक ऑफिस में एक यौन उत्पीड़न शिकायत समिति बनाना नियोक्ता का कर्तव्य है। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी एक दिशा-निर्देश के अनुसार यह भी जरूरी है कि समिति का नेतृत्व एक महिला करे और सदस्यों के तौर पर उसमें पचास फीसदी महिलाएं ही शामिल हों। साथ ही, समिति के सदस्यों में से एक महिला कल्याण समूह से भी हो। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप एक स्थायी कर्मचारी हैं या नहीं।

यह भी पढ़ें- पति की इन आदतों से छुटकारा पाने के लिए करें यह उपाय, रिश्ता होगा मजबूत

जीरो एफआईआर का अधिकार- एक महिला को ईमेल या पंजीकृत डाक के माध्यम से शिकायत दर्ज करने का विशेष अधिकार है। यदि किसी कारणवश वह पुलिस स्टेशन नहीं जा सकती है, तो वह एक पंजीकृत डाक के माध्यम से लिखित शिकायत भेज सकती है।

घरेलू हिंसा से सुरक्षा का अधिकार- आईपीसी की धारा 498-ए दहेज संबंधित हत्या की निंदा करती है। इसके अलावा दहेज अधिनियम 1961 की धारा 3 और 4 में न केवल दहेज देने या लेने, बल्कि दहेज मांगने के लिए भी दंड का प्रावधान है। इस धारा के तहत एक बार इस पर दर्ज की गई एफआईआर इसे गैर-जमानती अपराध बना देती है। शारीरिक, मौखिक, आर्थिक, यौन संबंधी या अन्य किसी प्रकार का दुर्व्यवहार धारा 498-एक के तहत आता है।

इंटरनेट पर सुरक्षा का अधिकार- आपकी सहमति के बिना आपकी तस्वीर या वीडियो, इंटरनेट पर अपलोड करना अपराध है। ये वेबसाइट कानून के अधीन हैं और इनका अनुपालन करने के लिए बाध्य भी। आप न्यायालय से एक इंजेक्शन आदेश प्राप्त करने का विकल्प भी चुन सकती हैं, ताकि आगे आपकी तस्वीरों और वीडियो को प्रकाशित न किया जाए।

समान वेतन का अधिकार- समान पारिश्रमिक अधिनियम, 1976 समान कार्य के लिए पुरुष और महिला को समान भुगतान का प्रावधान करता है। यह भर्ती वसेवा शर्तों में महिलाओं के खिलाफ लिंग के आधार पर भेदभाव को रोकता है।

कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ अधिकार- मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट, 1971 मानवीयता और चिकित्सा के आधार पर पंजीकृत चिकित्सकों को गर्भपात का अधिकार प्रदान करता है। लिंग चयन प्रतिबंध अधिनियम,1994 गर्भधारण से पहले या उसके बाद लिंग चयन पर प्रतिबंध लगाता है।

प्रॉपर्टी में महिलाओं का अधिकार- हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 2005 के मुताबिक लड़की चाहे कुंवारी हो या शादीशुदा, वह पिता की संपत्ति में हिस्सेदार मानी जाएगी।

 

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बीजेपी पहली बार 300 पार, कांग्रेस के 50 सीटों पर सिमटने के आसार!

हिमाचल में कांग्रेस क्लीन बोल्ड, चारों सीटों पर बीजेपी की बंपर जीत के साथ कब्जा बरकरार

जयराम ने सभी सांसद शिमला बुलाए, होगी अहम बैठक

सोलनः चलती कार में लगी आग, समय रहते गाड़ी से निकला चालक

दादा ने बनाया था जीत का रिकार्ड, पोते ने बना डाला हार का रिकार्ड

बीजेपी की जीत पर भी शांता चिंतित, उन्हें कहां लगा लोकतंत्र हार गया-जाने

उम्मीद से ज्यादा लीड मिलने के बाद बोले अनुराग-अन्याय करने वाले कैसे न्याय करेंगे

हरोली में मुकेश नहीं दिखा पाए जलवा, बूथ वाइज देखें रिजल्ट

धर्मशाला-पच्छाद में होंगे विस उप चुनाव, किसे मिल सकती है बीजेपी की टिकट, जानें

अब तक किस विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी को कितनी लीड, जानिए

जयराम मतगणना के रूझानों से गदगद,बोले- इतिहास बनने वाली है ये जीत

कांग्रेस हिमाचल में चारों खाने चित्त, सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों में पिटने चली

कांगड़ा में कोई ओबीसी कार्ड नहीं, कपूर प्रदेश भर में सर्वाधिक मतों से आगे

भद्रवानी में सिलेंडर फटने से पिता व दिव्यांग बेटी की मौत

Himachal Result Live : हिमाचल की चारों सीटें बीजेपी को, कांगड़ा से किशन कपूर को 4,66,395 की लीड

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है