Covid-19 Update

36,566
मामले (हिमाचल)
28,080
मरीज ठीक हुए
575
मौत
9,266,697
मामले (भारत)
60,719,949
मामले (दुनिया)

Suicide forest नाम से मशहूर है ये जंगल, यहां जाने के बाद कोई जिंदा नहीं लौटता

Suicide forest नाम से मशहूर है ये जंगल, यहां जाने के बाद कोई जिंदा नहीं लौटता

- Advertisement -

नई दिल्ली। हमने अपनी जिंदगी में इस तरह के किस्से कहानियां जरूर सुने होते हैं जिसमें किसी डरावने जंगल का जिक्र किया होता है। लेकिन, उस समय हम ये सोच कर मन बहला लेते हैं कि ऐसी चीजें सिर्फ हमारी कल्पना में ही होती हैं। लेकिन आज जिस मामले के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं वह भी ऐसी ही रहस्मयीय घटना को बताता है। हम बात कर रहे हैं एक ऐसे जंगल की जो सुसाइड फॉरेस्ट (Suicide Forest) नाम से मशहूर है इस जंगल के बारे में ऐसी धारणा है कि जो भी यहां एक बार आ जाए वो ज़िंदा वापिस नहीं लौटता। तो चलिए, जानते हैं ये जंगल के बारे में, क्या है ऐसा रहस्य जिसके कारण यहां जाने वाला कोई भी इंसान जिंदा नहीं बचता।

जापान दुनिया के बेहद मशहूर टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स में से एक हैं। लेकिन इस देश का एक जंगल ऐसा भी है जहां हर कदम पर मौत दस्तक देती है। सुसाइड फॉरेस्ट माउंट फूजी के नॉर्थवेस्ट (Forest Mount Fuji’s Northwest) में स्थित है। यह 35 स्क्वेयर किमी के बड़े एरिया में फैला हुआ है। यह जंगल इतना घना है कि इसे पेड़ों का सागर भी कहते हैं। इस जंगल में खो जाना आम बात है, यह जंगल इतना घना है कि यहां से निकलकर आना बेहद मुश्किल है। दुनिया भर के खतरनाक जगहों की बात करें तो जापान के इस फॉरेस्ट को सुसाइड प्वाइंट में दूसरा नंबर मिला है। बता दें कि यहां पहला गोल्डेन गेट है। इस जंगल की दूरी जापान की राजधानी टोक्यो से महज 2 घंटे से भी कम है।

सूरज की रोशनी तक नहीं पहुंचती धरती पर

बता दें, यह जंगल फूजी पर्वत की तराई में स्थित है। जंगल काफी घना है और पथरीली जमीन है। मिट्टी इतनी घनी और टाइट है कि उसमें खुदाई भी नहीं हो सकती। पेड़ इतने घने हैं कि वहां सूरज की रोशनी तक नहीं पहुंचती। मिट्टी में लोहा के अवसाद जमा होने की वजह से जीपीएस और सेल फोन भी काम नहीं करते। ऐसे में वहां जाकर खो जाना आम बात है। इस जंगल में एंट्री करते ही आपको एक मैसेज देखने को मिलेगा जिसमें लिखा है- “ध्यान से अपने बच्चों, परिवार और अपने जीवन के बारे में सोचें जो कि आपके माता-पिता का दिया अनमोल तोहफा है।’ इस जंगल को पूरी दुनिया में सुसाइड फॉरेस्ट के नाम से भी जाना जाता है।

ऐसा भी माना जाता है कि इस जंगल में उन लोगों की आत्माओं का भी बास है जो जंगल में फंस कर मर गए थे। यहां 2003 से करीब 105 डेडबॉडीज खोजी जा चुकी हैं इनमें से ज्यादतर बुरी-तरह सड़ चुकी थीं, कुछ को जानवरों ने खा डाला था। इस जंगल में हुई मौतों के कारण यहां पैरानॉर्मल एक्टिविटीज भी देखने को मिलती हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है