Covid-19 Update

34,781
मामले (हिमाचल)
27,518
मरीज ठीक हुए
550
मौत
9,177,840
मामले (भारत)
59,514,808
मामले (दुनिया)

कारोबारी बोले- पर्यटन गतिविधियां बंद, नहीं बिक रही शराब- कम हो कोटा

कारोबारी बोले- पर्यटन गतिविधियां बंद, नहीं बिक रही शराब- कम हो कोटा

- Advertisement -

कुल्लू। मनाली और मणिकर्ण के शराब कारोबारियों (Liquor Traders) ने कोटे को 70 प्रतिशत घटाने की मांग की है। इसके लिए शराब कारोबारियों की ईटीओ (ETO) के माध्यम से प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजकर मांगों पूरी करने का आग्रह किया है। शराब कारोबारी बलदेव राणा ने बताया कि कोविड-19 महामारी के लॉकडाउन (Lockdown) के चलते कुल्लू-मनाली (Manali) में पर्यटन कारोबार तबाह हुआ है। उन्होंने कहा कि इससे शराब की खप्त कम हुई है। पर्यटन गतिविधियां बंद होने से शराब की ब्रिकी नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि एक तरफ सरकार की एक्साइज पॉलिसी (Excise Policy) के मुताबिक कोटा निर्धारित किया है, दूसरी तरफ प्रति शराब की बोतल भी टैक्स (Tax) दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: हिमाचलवासियों को उमस भरी गर्मी से मिलने वाली है राहत, जानिए क्या कहता है मौसम विभाग

उन्होंने कहा कि कोटा ना उठाने पर फीस देनी पड़ती है, जिससे शराब कारोबारियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि हमारे पास 75 प्रतिशत शराब के ठेके का कारोबार है। मांग है कि कोटे को घटनाकर 30 प्रतिशत किया जाए या जितना माल हम उठाएं, उसकी फीस ही ली जाए। उन्होंने कहा कि सेल 20 से 25 प्रतिशत रह गई है, ऐसे में प्रदेश सरकार को इसके लिए ज्ञापन भेजकर 70 प्रतिशत कोटा घटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि सरकार को पूरे कोटे के पैसे देने में असमर्थ हैं, ऐसे में कारोबार छोड़ने के लिए भी तैयार हैं। ज्ञापन में 2020-21 के एडवांस को वापस करने के लिए भी मांग की है। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष कुल्लू- मनाली में करीब 35 लाख पर्यटक आए थे, जिसमें 65-70 प्रतिशत कोटा के तहत कारोबार हुआ था, लेकिन इस वर्ष पर्यटकों के ना आने से शराब कारोबारियों को नुकसान होगा।

यह भी पढ़ें: बिलासपुर में सामने आए दो मामलों के साथ Himachal में कोरोना 250 पार

ईटीओ कुल्लू हरीश छाटे ने बताया कि मनाली और मणिकर्ण के शराब कारोबारियों ने कोटा घटाने को लेकर ज्ञापन दिया है, जिसे उच्च अधिकारियों को भेज दिया है। उन्होंने कहा कि शराब कारोबारियों की मांग है कि कोविड-19 (Covid-19) के कारण पर्यटन गतिविधियां बंद हैं, ऐसे में पर्यटन व्यवसाय से जड़े बाहरी राज्यों के प्रवासी मजदूर भी पलायन कर चुके हैं और शराब की खप्त कम हो गई है, जिससे शराब कारोबारियों ने कोटा कम करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि इससे सरकार के राजस्व को भी नुकसान हुआ है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है