वर्ल्ड हेरिटेज कालका-शिमला रेल में अनपढ़ इंजीनियर बाबा भलकू को किया याद

रेल में बाबा भलकू की स्मृति में साहित्यिक गोष्ठी की आयोजित

वर्ल्ड हेरिटेज कालका-शिमला रेल में अनपढ़ इंजीनियर बाबा भलकू को किया याद

- Advertisement -

शिमला/सोलन। विश्व धरोहर के रूप में विख्यात शिमला-कालका रेल (Kalka-Shimla Rail) में रविवार को अनूठी दूसरी साहित्यिक गोष्ठी अनपढ़ इंजीनियर बाबा भलकू (Baba Bhalku) की स्मृति में आयोजित की गई। अपने आप में यह अलग तरह का साहित्यिक आयोजन हिमालय साहित्य, संस्कृति एवं पर्यावरण मंच द्वारा आयोजित किया गया। इसमें हिमाचल के 30 रचनाकार व संस्कृतकर्मी भाग ले रहे हैं। इस गोष्ठी को बाबा भलकू की स्मृति और सम्मान को समर्पित किया गया है।



यह भी पढ़ें: सड़क किनारे चल रहे राहगीर को कार ने मारी टक्कर, पीजीआई ले जाते मौत

भलकू चायल के समीप झाझा गांव का एक अनपढ़ किन्तु विलक्षण प्रतिभा संपन्न ग्रामीण था, जिसकी सलाह और सहयोग से अंग्रेज इंजीनियर शिमला-कालका रेलवे लाइन (Shimla-Kalka Railway Line) के निर्माण में सफल हो पाए थे। यही रेलवे ट्रैक आज विश्व धरोहर के रूप में अपनी पहचान विश्व भर में बनाए हुए हैं। हर वर्ष लाखों सैलानी इस ट्रैक के रोमांचकारी सफर का आनंद उठाने के लिए राजधानी शिमला पहुंचते हैं। यात्रा के दौरान वरिष्ठ और युवा कलाकारों ने अपनी-अपनी रचनाओं की प्रस्तुतियां दीं। शिमला से बड़ोग तक की यात्रा में पड़ने वाले स्टेशनों में समरहिल, तारा देवी, कैथलिघाट, कंडाघाट और बड़ोग स्टेशन पर कविता, गजल, कहानी और संस्मरण के सत्र रखे गए।

हिमालय मंच के अध्यक्ष और लेखक एसआर हरनोट ने कहा कि हिंदुस्तान तिब्बत रोड के निर्माण के समय भी बाबा भलकू के मार्ग निर्देशन में न केवल सर्वे हुआ, बल्कि सतलुज नदी पर कई पुलों का निर्माण भी हुआ था। इसके लिए उन्हें ब्रिटिश सरकार के पीडब्ल्यूडी (PWD) द्वारा ओवरशीयर की उपाधि से नवाजा गया था। वर्ष 1947 में सेवानिवृत्ति के उपरांत उनकी सेवाएं उस वक्त कालका-शिमला रेलवे लाइन के सर्वेक्षण में ली गईं, जब परवाणु से शिमला के लिए चढ़ाई देखकर ब्रिटिश अभियंताओं को समझ नहीं आ रहा था कि आगे का सर्वेक्षण कैसे करें। बताया जाता है कि भलकू अपनी एक छड़ी से नपाई करता और जगह-जगह सिक्के रख देता और उसके पीछे चलते हुए अंग्रेज सर्वे का निशान लगाते चलते। इस तरह जहां ब्रिटिश प्रशासन के इंजीनियर फेल हो गए, वहां अनपढ़ ग्रामीण ने बड़ी सहजता से इस दुसाध्य कार्य को अंजाम दिया था।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बेरहम मौसमः इस जिला के शिक्षण संस्थानों में कल भी छुट्टी घोषित 

मणिमहेश यात्रा को लेकर आ गया प्रशासन का ये बड़ा फैसला, जाने से पहले देना ध्यान

बैन के बावजूद गिलानी को इंटरनेट सेवा उपलब्ध करवाने वाले दो BSNL अधिकारी सस्पेंड

खड्ड में आई बाढ़ , ताश के पत्तों की तरह ढह गया साईं कॉलेज

आज नहीं अब इस दिन होगी कैबिनेट की बैठक

सिरमौरः नाले में बही आल्टो , गिरि नदी के किनारे मकान कराए खाली

भागवत कथा सुनने जा रही थी 75 साल की कमला, बस टायर के नीचे आकर कुचली गई

मंडीः ब्यास का जलस्तर घटा, लेकिन मौसम का खतरा बरकरार

खड्ड पार करते बह गए स्टूडेंट-टीचर : टूटा पुल, हमीरपुर-शिमला मार्ग बंद

कश्मीर पर ट्वीट कर बढ़ी शहला राशिद की मुश्किलें, सुप्रीम कोर्ट में शिकायत दर्ज

उत्तरकाशी में बादल फटा : 17 की मौत, कई जगह मलबे में दबे लोग, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन, लंबे समय से थे बीमार

कड़ी सुरक्षा के बीच श्रीनगर में खुले स्कूल, सुरक्षाबल चप्पे-चप्पे पर तैनात

हमीरपुर में भारी बारिश का कहर : हिमुडा कालोनी के नाले में बाढ़, लोग फंसे

बस और ट्रक में जोरदार टक्कर, 11 की मौत, 15 घायल

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है