Covid-19 Update

345
मामले (हिमाचल)
140
मरीज ठीक हुए
05
मौत
1,98,706
मामले (भारत)
63,06,746
मामले (दुनिया)

पैर के छाले रोक रहे कदमों को, खाने से ज्यादा इन्हें ‘चप्पल’ की है जरूरत

कोरोना संकट के बीच घर लौट रहे प्रवासियों की दास्तां आंखों को कर रही नम

पैर के छाले रोक रहे कदमों को, खाने से ज्यादा इन्हें ‘चप्पल’ की है जरूरत

- Advertisement -

पैर के छाले इतने जालिम हो चुके हैं कि वह घर की तरफ बढते कदमों को रोक रहे हैं। पैदल चल-चलकर चप्पलें घिस गई तो पैरों में छाले ही नहीं पड़े बल्कि खून भी रिसने लगा है। आज उन्हें खाने से ज्यादा चप्पल की जरूरत है। ये कहानी है उन प्रवासियों की जो इस महामारी के बीच बस घर जाने की टीस में किसी तरह घिसटते-घिसटते सैकडों किलोमीटर का पैदल सफर तय कर चुके हैं,लेकिन अब पैरों के छाले उन्हें घर से दूर किए हुए लग रहे हैं। गुजरात के सूरत (Surat in Gujarat) से चलकर उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur in Uttar Pradesh) तक का सफर तय करना है इन्हें।


यह भी पढ़ें: CBSE : 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए गुड न्यूज, शाम 5 बजे जारी होगी Date sheet

श्रमिक स्पेशल ट्रेन नहीं मिली,तो निकले पैदल

कोरोना संकट के बीच जब श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Shramik Special Train) चलने की बात सामने आई तो इन्होंने भी रिजर्वेशन कराया। कहते हैं कि एक हफ्ते तक इंतजार किया, लेकिन जब कुछ नहीं हुआ तो पैदल ही घर जाने का फैसला किया। हुआ ये कि सूरत से पैदल चलते-चलते उनकी चप्पलें घिस गईं, नतीजन पैरों में छाले पड़ गए और उनसे खून भी रिसने लगा। जिसके चलते आगे बढना अब मुश्किल लग रहा है,जब तक चप्पल नहीं मिल जाती। इस हालात में उन्हें पेट की भूख की, कतई भी परवाह नहीं है,बस उन्हें कुछ चाहिए तो वह चप्पल। इनके पैर की हालत देख आंखें नम हो रही हैं।

सूरत की कपड़ा मिल में करते थे काम

सूरत की कपड़ा मिल में काम करने वाले ये प्रवासी उत्तर प्रदेश के लखनऊ (Lucknow) तक का सफर पैदल ही तय कर चुके हैं। उत्तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने से पहले ही उनकी चप्पलों (Slippers) ने उनका साथ छोड़ दिया था। उसके बाद प्रवासियों का ये एक समूह नंगे पांव ही आगे चलता रहा। अभी इन्हें 300 किलोमीटर तक का सफर तय करना है। इनका कहना है कि लोग उन्हें रास्ते में भोजन और पानी की पेशकश कर रहे हैं लेकिन उनके लिए चप्पलें अब एक बड़ी समस्या बन गए हैं। वह कहते हैं कि हम एक या दो दिन भोजन के बिना चल सकते हैं, लेकिन इस स्थिति में बिना चप्पलों के चलना अब नामुमकिन है।

यह भी पढ़ें: Covid-19 का कहर: 10,000 से अधिक मामलों वाला देश का दूसरा राज्य बना तमिलनाडु

स्थानीय बाशिंदें लगे चप्पलें बांटने

रास्ते में उन्हें किसी ने पैसे भी देने चाहे,लेकिन प्रवासियों ने उन्हें भी लेने से मना कर दिया। कारण ये रहा कि चप्पल खरीदेंगे कहां से। कहा जा रहा है कि इनकी ये हालत देख एक स्थानीय नागरिक लखनऊ-बाराबंकी सड़क पर प्रवासियों (Migrants) को चप्पल बांट रहे हैं। उन्होंने अब थोक में चप्पलें खरीदी हैं और शुक्रवार से इन्हें बांटने का काम शुरू किया है। ताकि,किसी तरह ये प्रवासी अपने घर तक पहुंच सके।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

HPU में 274 पदों पर निकली भर्ती, यह होगी Online आवेदन की अंतिम तिथि

भाषा शिक्षा प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के लिए आवेदन की तिथि 15 जुलाई तक बढ़ी

ब्रेकिंगः हिमाचल में आज 18 मरीजों ने Corona से जीती जंग, अब तक 140 हुए ठीक

Mandi जिला में बहन की आबरू का लुटेरा बना चचेरा भाई, दोनों नाबालिग

शिमला से Karsog लौट रहे लोगों की Car खाई में गिरी, पति-पत्नी सहित तीन की मौत

हिमाचल में 6 Police अधिकारी इधर-उधर, एक को सौंपा अतिरिक्त कार्यभार

Corona Update: हिमाचल 128 पहुंचा ठीक होने वालों का आंकड़ा, आज 6 जीते जंग

मौसम: Himachal में तीन दिन भारी बारिश-अंधड़ की चेतावनी, आठ जिलों में Yellow Alert जारी

कांगड़ा में 57 वर्षीय Ex Serviceman निकला पॉजिटिव, दिल्ली से है लौटा

एलीमेंटरी या Secondary Board स्तर की कक्षाएं लगाने पर हो रहा विचार- क्या बोले शिक्षा मंत्री-जानिए

Sirmaur: जमीनी विवाद में एक की हत्या, दो घायल- 7 लोग गिरफ्तार

Kangra में दिल्ली पुलिस के कर्मचारी सहित Flight से आई युवती कोरोना पॉजिटिव

PM Modi ने आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए दिया पांच 'I' का फॉर्मूला

72 दिन बाद 200 हिमाचलियों को लेकर ऊना पहुंची Janshatabdi Express, सुबह दिल्ली रवाना

नड्डा की Home State में पार्टी गुटबाजी से लगी जलने, सीधे-सीधे नेता लगे मैदान में उतरने

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

निजी स्कूलों को राहत,पहली जून से ले सकेंगे Fees, नहीं लगेगा कोई जुर्माना

Breaking: लॉकडाउन के बीच हिमाचल के Schools में 15 जून तक छुट्टियां घोषित, ये रहा अहम कारण

ब्रेकिंगः 12वीं Geography और 10वीं वाद्य संगीत व गृह विज्ञान परीक्षा की तिथि घोषित

लाॅकडाउन के बीच Employment का मौका, Himachal में एक कंपनी भरने जा रही है 800 से ज्यादा पद

CBSE: 15,000 से अधिक सेंटरों में आयोजित होंगी 10वीं-12वीं की बची हुई परीक्षाएं, जानिए डिटेल

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं की बची हुई परीक्षाएं 1 जुलाई से 14 जुलाई तक

CBSE: अपने ही स्कूलों में बचे हुए सब्जेक्ट्स के Exam देंगे छात्र; जानें कब आएगा रिजल्ट

D.EL.ED CET- 2020 की तिथि घोषित, 21 मई से करें ऑनलाइन आवेदन

सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करें Private School वरना होगी कड़ी कार्रवाई

CBSE: 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं में स्‍टूडेंट्स को पहनना होगा Mask; जानिए नए निर्देश

CBSE ने जारी की 10वीं-12वीं की Pending Exams की डेटशीट, जाने कब शुरू होंगे पेपर

12वीं Geography, कंप्यूटर साइंस और वोकेशनल परीक्षा को लेकर Board का बड़ा फैसला-जानिए

अर्धवार्षिक व प्री बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर मिलेंगे Practical के अंक

Himachal के सरकारी स्कूलों में 31 मई तक छुट्टियां, आदेश जारी

Corona से बचावः स्कूल शिक्षा बोर्ड ने की "नमस्ते भारत" अभियान की शुरुआत


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है