Covid-19 Update

13707
मामले (हिमाचल)
9661
मरीज ठीक हुए
153
मौत
5,908,748
मामले (भारत)
32,784,889
मामले (दुनिया)

प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज इन खूबसूरत स्थलों में पर्यटन की हैं अपार संभावनाएं

प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज इन खूबसूरत स्थलों में पर्यटन की हैं अपार संभावनाएं

- Advertisement -

हिमाचल प्रदेश जिला कुल्लू पश्चमी हिमालय के सुदूर क्षेत्र बंजार की तीर्थन और सैंज घाटी में स्थित ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (Great Himalayan National Park) को वर्ष 2014 में यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर का दर्जा दिया गया। यह नेशनल पार्क (National Park) भारत के बहुत ही खूबसूरत नेशनल पार्कों में से एक है जिसका क्षेत्रफल करीब 765 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। यहां पर अद्वितीय प्राकृतिक सौन्दर्य और जैविक विविधिता का अनुपम खजाना है। इस नेशनल पार्क का महत्व यहां पाई जाने वाली दुर्लभतम जैविक विविधता से ही है। वन्य जीव हो या परिन्दा, चिता, भालू, घोरल, ककड़, जेजू राणा, मोनाल सरीखे कई परिन्दे व जीवजन्तु और वन वनस्पति औषधीय जड़ी बूटियां यहां मौजूद है। इस पार्क की विशेषता यह भी है कि यहां पर वन्य जीवों व परिन्दों की वे प्रजातियां आज भी पाई जाती है जो समूचे विश्व में दुर्लभ होने के कगार पर है। बात चाहे वन्य प्राणियों की हो चाहे परिन्दों की हो या औषधिय जड़ी बूटियों की पार्क क्षेत्र हर प्रकार के अनुसंधान कर्ता, रोमांच प्रेमियों और ट्रैकरों को लुभा रहा है।


यह भी पढ़ें: ग्रेट हिमालय नेशनल पार्क में दुर्लभ पक्षी Monal की कलगी व जिंदा कारतूस बरामद

 

पार्क प्रबन्धन से लेना होता है परमिट

पहले तो इस पार्क क्षेत्र में भेड़ बकरी पालक जिसे यहां फुआल/ चरवाहा कहते है ही जाते थे लेकिन अब देश विदेश के पर्यटक, प्राकृतिक प्रेमी और ट्रैकर यहां की ऊंचाइयां नापने और विकट भगौलिक परिस्थितियों में भी शिखर छूने को आतुर रहते है। यहां के स्थानीय लोगों ने परंपरागत तरीके से घाटी को सहेज कर रखने तथा इसका संरक्षण करने में अपनी अहम भूमिका निभाई है। इस घाटी में आकर पर्यटक कैम्पिंग, ट्रैकिंग, फिशिंग, रिवर क्रोसिंग, पर्वतारोहण जैसी साहसिक गतिविधियों का आनन्द ले सकते है। हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू उपमण्डल बंजार की तीर्थन एवं सैंज घाटी में स्थित विश्व धरोहर ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में प्राकृतिक सौन्दर्य से भरपूर कई ऐसे खुबसूरत स्थान मौजूद हैं जहां पर शायद ही अभी तक इन्सानी कदम पड़ें हो। इन खुबसूरत स्थलों पर केवल ट्रेककिंग करके ही पहुंचा जा सकता है। इन स्थानों पर जाने के लिए पार्क प्रबन्धन से परमिट लेना होता है और स्थानीय गाइड और पोर्टर लेकर जाना जरूरी है।

यह भी पढ़ें: Himachal के इस जिला में एक ऐसा मंदिर जो साल के आठ माह रहता है अदृश्य

 

 

तीन से पन्द्रह दिन तक ट्रेकिंग

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के अन्दर तीन से पन्द्रह दिन तक ट्रेकिंग और कैम्पिंग की जा सकती हैं। ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के कोर जॉन में घूमने फिरने के लिए परमिशन लेनी पड़ती है जबकि बफर जोन में विना किसी अनुमति के गाइड के साथ कहीं भी घूम सकते हैं। ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के अलावा उपमण्डल बंजार में तीर्थन घाटी, जीभी घाटी, जलोड़ी दर्रा, सरेलसर झील, रघुपुर किला, बाहु, गाड़ा गुशैनी, चेहणी फोर्ट, पलदी घाटी, बशलेओ जोत, सैंज घाटी, रैला, भलान, शांघड और शेंशर जैसे अनेकों रमणीक स्थल मौजूद हैं। जिला कुल्लु के इन पहाड़ी क्षेत्रों को इसकी प्राकृतिक सुन्दरता और शान्त वादियों के लिए जाना जाता है। यहाँ पर प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में देशी विदेशी पर्यटकों की आवाजाही होती है। आजकल हिमाचल प्रदेश में बरसात का मौसम दस्तक दे चुका है। बरसात आते ही पहाड़ों में चारों ओर हरियाली छा जाती है, मानो सारे पहाड़ हरे रंग में रंग गए हो, सफेद कोहरे की चादरों में लिपटे हुए पहाड़ और उस हरे रंग पर काले व सफेद रंग के बादल मस्ती में उमड़ते हुए, जगह जगह पर ऊंचाई से गिरते झरने, जहाँ बर्षा रानी के चलते पेडों के पतों पर टप टप कर पानी बरस रहा हो, और सूखे नालों में भी पानी बहता हुआ दिख जाए, जहां तेज जल प्रवाह से भरी हुई नदियां उफनती, मचलती और बलखाती हुई पत्थरों से टकराते हुए अथाह सागर से मिलने जा रही हो, और इन्ही नजारों के बीच चलते हुए अगर किस्मत अच्छी हो तो कभी कभार इन्द्रधनुष की सतरंगी छटा भी दिख जाती है। ये सब नज़ारे केवल बरसात के मौसम मे ही पहाड़ों में देखने को मिलते है।

 

बरसात के मौसम मे आता है निखार

पहाड़ों के परिपेक्ष्य में एक बात यह है कि पहाड़ बरसात में खतरनाक हो जाते है लेकिन पहाड़ों की असली खूबसूरती तो बरसात के मौसम मे ही निखर कर बाहर आती है। यहां के पहाड़ी क्षेत्रों में बरसात का मौसम आते ही यहां पर लोकल फलों और सब्जियों का मौसम भी शुरू हो जाता है । बरसात का मौसम पहाड़ी कृषि के लिए बरदान साबित होता है। यहां के लोग अपने घरों के आस पास वाले खेतों में फल सब्जी और अनाज की पैदावार करते हैं। इस मौसम में आडू, खुरमानी, नाख, नाशपती, पलम और सेब जैसी कई किस्म के ताजा फल और सब्जियां यहां पर उपलब्ध होते है। बरसात के मौसम में पहाड़ों में घूमने फिरने का एक अनूठा ही अनुभव होता है। जब लोग इंटरनेट पर पहाड़ो की बेहद हरियाली युक्त तस्वीरों को देखते है, तो देखते ही सीधी आह निकलती है कि वाह क्या नजारा है। ये अधिकतर तस्वीरें बरसात के मौसम में ही ली गई होती है वरना गर्मियों में कहां पहाड़ों पर ये सब नजारा देखने को मिलता है। जो लोग इस मौसम के दौरान पहाड़ो में घूमते हैं वही इस नजारे की तस्वीरें अपने कैमरों में कैद करके ले जाते है।

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार जिला कुल्लू से परस राम भारती का आलेख।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Scholarship Scam: केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के वाइस चेयरमैन सहित दो को सशर्त जमानत

बड़ी खबर: BJP चीफ बनने के 8 महीने बाद नड्डा ने बनाई अपनी टीम; एक भी हिमाचली नेता शामिल नहीं

PM Narendra Modi के प्रस्थान तक कुल्लू जिला के अधिकारियों-कर्मियों के पैरों में बेड़ियां

#Cabinet_Breaking: एक विभाग का बदला नाम, भरे जाएंगे ये पद-खुलेंगी ITI

लव जेहाद ,धर्मांतरण और गौ हत्या पर विहिप ने Jairam Govt को घेरा

पहले बाहर से मंगवाते थे किसान अनाज, अब पांच गुणा बढ़ गई अन्न की पैदावार

PM मोदी के हिमाचल दौरे की बड़ी अपडेट: रात को लाहुल-स्पीति में नहीं ठहरेंगे; उसी दिन होगी वापसी

सुकेत व्यापार मंडल के प्रदर्शन से पहले PWD ने उड़ती धूल पर किया पानी का छिड़काव

भरमौर में Accident: नाले में गिरी Pickup, युवक की मौके पर गई जान

मधुबनी के तालाब से मछलियों की जगह निकल रही है शराब की बोरियां

गंगा में मिली South America में पाई जाने वाली मछली, वैज्ञानिकों ने जाहिर की ये चिंता

साड़ी के साथ स्पोर्ट्स शूज पहनकर इस लड़की ने किया कमाल का डांस, देखिए Viral Video

पाक PM इमरान खान ने UN में उगला जहर: भारत को धमकाते हुए कहा- RSS को रोको वरना....

Himachal में अब पहली से आठवीं कक्षाओं की भी होंगी Online परीक्षाएं

#Mandi: बल्ह में पति ने शराब के नशे में पत्नी की डंडे से पीट-पीट कर दी हत्या

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

पहली से आठवीं कक्षाओं के छात्रों की ऑनलाइन परीक्षाओं की Datesheet जारी

#HPBose: डीईएलईडी पार्ट वन और टू का रिजल्ट आउट, कितने सफल, कितने असफल- जानिए

छात्र Online देख सकते हैं SOS की प्रेक्टिकल परीक्षा के अंक , feeding का भी विकल्प

D.El.Ed CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग में आधे अभ्यर्थी ही पात्र

#HPBose: SOS मैट्रिक व जमा दो कक्षाओं की प्रैक्टिकल परीक्षा की डेटशीट जारी

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है