Covid-19 Update

3744
मामले (हिमाचल)
2402
मरीज ठीक हुए
17
मौत
24,11,547
मामले (भारत)
20,850,291
मामले (दुनिया)

एक ही IMEI नंबर पर चल रहे थे 13,000 से ज्यादा फोन; China की कंपनी पर दर्ज हुआ मुकदमा

आंतरिक सुरक्षा के लिहाज से कंपनी की यह भारी चूक मानी जा रही है

एक ही IMEI नंबर पर चल रहे थे 13,000 से ज्यादा फोन; China की कंपनी पर दर्ज हुआ मुकदमा

- Advertisement -

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ (Merrut) से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां मशहूर मोबाइल मेकर कंपनी पर एक ही IMEI नंबर से कई मोबाइल चलाने के आरोप लगे हैं। मेरठ जोन पुलिस की साइबर क्राइम सेल की जांच में यह खुलासा हुआ है। इस मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी गई है। नियमों के मुताबिक, एक आईएमईआई नंबर सिर्फ एक ही फोन के लिए जारी किया जा सकता है।


देश के अलग-अलग राज्यों के 13557 मोबाइलों में यही IMEI रन कर रहा

पुलिस द्वारा मामले के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि उन्हें ज़ोन कार्यालय में तैनात विभाग के अधिकारी से ही ये सूचना मिली। बताया गया कि विभाग के अधिकारी ने अपना फोन रिपेयर कराया था। रिपेयर के बाद उनके फोन का IMEI नंबर बदल गया था। पहले तो ज़ोन कार्यालय में ही साइबर सेल में इस IMEI नंबर को चेक किया गया। इस जांच में सामने आया कि एक IMEI नंबर पर हज़ारों फोन एक्टिव हैं। बाद में जब इसी IMEI नंबर की जांच जनपद के साइबर सेल में की गई तब यह भी यही खुलासा हुआ कि 24 सितंबर 2019 को सुबह 11 से 11।30 बजे तक देश के अलग-अलग राज्यों के 13557 मोबाइलों में यही IMEI रन कर रहा है।

यह भी पढ़ें: Tit-tok स्टार BJP नेत्री सोनाली फोगाट ने अधिकारी को चप्‍पल और थप्‍पड़ से पीटा, Video वायरल

वीवो कंपनी व उसके सर्विस सेंटर के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज

एडीजी ने बताया कि चीन की वीवो (ViVo) कंपनी व उसके सर्विस सेंटर के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कर मेरठ की मेडिकल थाना पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। साइबर एक्सपर्ट जांच में लगे हैं। मोबाइल कंपनी से भी जवाब मांगा है। सभी बिंदु पर जांच करने के बाद ही पुलिस अगली कार्रवाई करेगी। आंतरिक सुरक्षा के लिहाज से कंपनी की यह भारी चूक मानी जा रही है। बता दें कि IMEI 15 डिजिट का एक खास नंबर होता है, जो हर मोबाइल फोन के लिए अलग-अलग होता है। IMEI नंबर के जरिए फोन के मॉडल और मैन्युफैक्चरर के बारे में पता चलता है। इस नंबर के जरिए ही साइबर सेल जरूरत पड़ने पर फोन और कॉल्स को ट्रैक कर पाती हैं।

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

















सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है