बड़ी खबर: लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

बीजेपी नेता अश्निनी उपाध्याय ने दायर की याचिका

बड़ी खबर: लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

- Advertisement -

नई दिल्ली। हमारे समाज में लड़के और लड़कियों की बीच बराबरी (Equality) को लेकर कई अभियान शुरू किए गए हैं। हालांकि इसमें एक ही जगह असमानता है वो है शादी की उम्र। जहां हमारे क़ानून में लड़कियों की शादी की उम्र (Age of marriage) जहां 18 साल तय की गई है वहीं लड़को की उम्र 21 साल रखी गई है। कम उम्र तय होने के कारण कई पेरेंट्स अपनी बेटियों को 18 के होते ही उनकी शादी करवा देते हैं जिससे उनके पास अपने करियर (Career) को बनाने का पर्याप्त समय नहीं रहता और वे घर गृहस्ती के कामों में उलझी रह जाती हैं। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट में इस फासले और लड़कियों के अधिकारों (Rights) की रक्षा करने के लिए एक याचिका दायर की गई है जिसमें कहा गया है कि लड़कियों की शादी की उम्र 18 नहीं बल्कि 21 होनी चाहिए।


यह भी पढ़ें- राहुल ने स्वीकारा राज्यपाल मलिक का न्योता : बोले – कोई शर्त नहीं, कब आ सकता हूं

बीजेपी नेता अश्निनी उपाध्याय (BJP leader Ashni Upadhyay) ने इस याचिका को सुप्रीम कोर्ट में दायर करते हुए कहा है कि लड़कों की तुलना में लड़कियों की कम उम्रसीमा रखना संविधान से मिले समानता, स्वतंत्रता और गरिमामयी जीवन के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है। अभी लड़कों की शादी के लिए न्यूनतम उम्र 21 साल है। जबकि लड़कियों के लिए 18 साल। आखिर इसका आधार क्या है। जो आधार है, वह पितृसत्तात्मक सोच है जो लड़कियों के आत्मनिर्भर बनने की राह में बाधक है। उपाध्याय ने याचिका में दलील दी है कि बिना किसी वैज्ञानिक अध्ययन आदि के ही लड़कियों की उम्रसीमा कम तय कर दी गई है। याचिका में उन्होंने कहा है कि भारत में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की कम उम्र में शादी उम्रसीमा ग्लोबल ट्रेंड्स के भी खिलाफ है। दुनिया के 125 से अधिक देशों में महिलाओं और पुरुषों की शादी के लिए समान उम्र है। भारत में भी इसकी मांग उठती रही है।

उन्होंने कहा कि अगर इस फैसले को लागू किया जाता है तो लड़कियों को पढ़ाई करने का समय मिलेगा। लड़कियों को सामाजिक दबाव का सामना करना नहीं पड़ेगा। नहीं तो शादी के बाद से ही महिलाओं से बच्चे की चाहत करने लग जाते हैं। कम उम्र में ही लड़कियां प्रग्नेंट होती हैं जिससे उनके करियर में भी रुकावट आती है। उपाध्याय ने याचिका में कम उम्र में शादी से महिलाओं को होने वाली शारीरिक समस्याओं का हवाला देते हुए कहा कि जो महिलाएं 20 साल की उम्र से पहले प्रग्नेंट होतीं है, उन्हें व उनके बच्चों को कम वजन सहित तमाम तरह की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

मौसम की मारः  824 सड़कें अभी भी बंद, एचआरटीसी को 452 करोड़ का घाटा

बीच मानसून सत्र कल हमीरपुर क्यों आ रहे सीएम जयराम ठाकुर- जानिए

कैबिनेट की बैठक खत्म, इन मुद्दों पर हुई चर्चा-यह लिए निर्णय

चुइंगम खाने से इंकार किया तो पत्नी को दिया तीन तलाक, मामला दर्ज

धारा 118 पर  राठौर बोले, प्रदेश को दूसरे राज्य के पूंजीपतियों के हाथों बिकने नहीं देंगे

पार्टी कार्यक्रम से नदारद रहने वाले "सुधीर" अभी धर्मशाला से कांग्रेस प्रत्याशी नहीं

हिमाचल में आई प्राकृतिक आपदाओं के लिए केंद्र ने मंजूर की अतिरिक्त सहायता राशि

मानसून सत्रः भाखड़ा बांध विस्थापितों को लेकर जयराम की बड़ी घोषणा

सदन में बोले जयरामः बरसात में हुईं 63 मौतें, 626 करोड़ का नुकसान-केंद्र से मांगेंगे मदद

सिंघा बोले- बारिश से तबाही आम आपदा नहीं, बल्कि राष्ट्रीय आपदा- केंद्र करे मदद

प्राइमरी स्कूल में 8 साल की छात्रा से जलवाहक ने की छेड़छाड़-गिरफ्तार

सीएम जयराम के PSO का FB अकाउंट हुआ हैक, डाली 'पाकिस्तान जिंदाबाद' वाली पोस्ट

हिमाचल: बाढ़ में फंसी मलयालम एक्ट्रेस, खाने के पड़ गए थे लाले-पढ़ें पूरी खबर

महेंद्र ठाकुर बोलेः विधायक होते पुलिस ने पीटा, जेल में डाला-क्या भूल गई कांग्रेस

मेजबान की मजबूरीः धर्मशाला में कांग्रेस के कार्यक्रम के बीच पढे़ं सुधीर शर्मा की पाती

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है