Covid-19 Update

1341
मामले (हिमाचल)
970
मरीज ठीक हुए
09
मौत
9,70,596
मामले (भारत)
13,697,662
मामले (दुनिया)

प्रियजनों की जान भी ले सकते हैं इस बीमारी के मरीज, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

एक काल्पनिक दुनिया में रहता है इसका मरीज

प्रियजनों की जान भी ले सकते हैं इस बीमारी के मरीज, जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

- Advertisement -

नई दिल्ली। ऐसी बहुत सी बीमारियां होती हैं जिनके बारे में कई लोग पूरी तरह नहीं जानते। इनमें से ही एक है सीजोफ्रेनिया (Schizophrenia)। ये ब्रेन से संबंधित एकक्रॉनिक डिजीज है जिसमें व्यक्ति वास्तविक दुनिया से अलग अपनी एक काल्पनिक दुनिया में रहता है। उसे यह काल्पनिक दुनिया ही सच लगती है और वह अपने विचारों को ही हकीकत मानकर जीता है। अगर यह बीमारी गंभीर रूप धारण कर ले तो व्यक्ति अपने किसी प्रियजन का मर्डर (Murder) तक कर सकता है।


यह भी पढ़ें: BJP अनुसूचित जनजाति, अल्पसंख्यक और किसान मोर्चा के पदाधिकारियों व जिलाध्यक्षों की घोषणा

सीजोफ्रेनिया कोई रेयर डिजीज नहीं है। बल्कि सिर्फ हमारे ही देश में इस बीमारी के करीब 40 लाख पेशंट हैं। दिक्कत इस बात की है कि हमारे समाज में मानसिक बीमारियों को लेकर जागरूकता का बहुत अभाव है। हमारे देश में मानसिक बीमारियों को पागलपन से जोड़कर देखा जाता है। जबकि ऐसा नहीं होता है कि हर मानसिक बीमारी पागलपन होती है। सीजोफ्रेनिया के मरीज के व्यवहार को लोग आमतौर पर रवैये में आया बदलाव या मूड से जोड़कर देखने लगते हैं क्योंकि इस बीमारी का असर, ब्रेन पर होता है और इससे व्यक्ति का व्यवहार प्रभावित होता है।

यह भी पढ़ें: PUBG की लतः मां ने Internet Pack Recharge नहीं करवाया तो फंदे फर झूल गया किशोर

सीजोफ्रेनिया के लक्षण –

  • सीजोफ्रेनिया का मरीज घर, परिवार और दोस्तों के साथ रहते हुए भी इनसे अलग-थलग रहता है।
  • पहले की तरह खुश और मिलनसार नहीं रह जाता है। यह मरीज के व्यवहार में आनेवाला एक सबसे बड़ा परिवर्तन होता है। जिसे परिवार और दोस्त आसानी से अनुभव कर सकते हैं।
  • सीजोफ्रेनिया का मरीज अपनी व्यक्तिगत साफ-सफाई का ध्यान नहीं रख पाता है। कई बार वह नहाना और ब्रश करना तक छोड़ देता है या अक्सर भूल जाता है।
  • ये सब चलता है रोगी के दिमाग में –
  • सीजोफ्रेनिया को कई अलग-अलग कैटिगरी में बांटा जा सकता है। इसमें आमतौर पर हल्यूसनेशन डिलूजन देखने को मिलते हैं। रोगी अपने ही विचारों में खुश भी होता है लेकिन ज्यादातर समय उदास रहता है।
  • हल्यूसनेशन में पेशंट को वो सब आवाजें सुनाई देती हैं, जो वास्तव में होती ही नहीं हैं। साथ ही उसे लगता है कि हर कोई उसी के बारे में बात कर रहा है।
  • लोग उसे ही देखकर हंस रहे हैं या उसका मजाक बना रहे हैं। उसे लगता है कि सभी लोग मिले हुए हैं और उसे मारने के लिए षड़यंत्र रच रहे हैं।
  • सीजोफ्रेनिया के रोगी में कई तरह का डिलूजन देखने को मिलता है। किसी केस में मरीज को अपने परिवार पर शक होता है कि सब उसे मारना चाहते हैं, ऐसे में वह खुद अपने ही परिवार को मारने का प्रयास करने लगता है।
  • जबकि डिलूजन ऑफ इंफेडिलिटी में पेशंट को सिर्फ और सिर्फ अपने लाइफ पार्टनर पर शक रहता है। उसे लगता है कि उसका पार्टनर उसे धोखा दे रहा है और उसका किसी अन्य व्यक्ति के साथ अफेयर चल रहा है।
  • आमतौर पर डिलूजन ऑफ इंफेडिलिटी पुरुषों में पाई जानेवाला मानसिक रोग है। लेकिन महिलाएं भी इस बीमारी की गिरफ्त में आती हैं।
  • इस डिलूजन की विशेषता यह होती है कि रोगी का व्यवहार बाकी सभी लोगों के साथ सामान्य रहता है लेकिन उसे अपने पार्टनर की हर ऐक्टिविटी पर शक बना रहता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Breaking: शिक्षा बोर्ड ने टैट की आवेदन तिथि बढ़ाई, अब क्या होगी- जानिए

कोरोना अपडेटः तीन Paramilitary और एक आर्मी जवान सहित हिमाचल में 8 पॉजिटिव

Solan: छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई को बनाए ग्रुप में चल पड़ी अश्लील वीडियो

Himachal में बड़ा हादसा: पांच की गई जान, तीन घायल- पढ़ें पूरी खबर

कोरोना ब्रेकिंगः Delhi से Shimla पहुंचा टैक्सी चालक निकला पॉजिटिव

बड़ी खबरः Shimla में धंसा रेन शेल्टर, एक की गई जान- एक घायल, एक समय रहते भागा

Corona को भगाने के लिए शिमला में 55 लाख गायत्री मंत्र का जाप, CM Jai Ram भी पहुंचे

HPBOSE ने जारी की D.El.Ed. Part-I and Part-II की अनुपूरक परीक्षा की डेटशीट, यहां देखें

तीन माह बाद दिल्ली से उड़ान भरकर पहुंचे Kullu, आते ही हो गए Institutional Quarantine

हिमाचल को Kiratpur-Ner Chowk Four Lane निर्माण तत्काल प्रभाव से बंद करने के आदेश

Corona की दर्दनाक तस्वीर, चौखट पर मर गया दवा लेने आया Positive युवक !

MP किसान दंपति मारपीट मामला : गुना के Collector और SP हटाए, कमलनाथ ने सरकार को घेरा

देश के तीन राज्यों में हिली धरती : Himachal-Gujarat और Assam में भूकंप के झटके

Twitter पर Hacking Attack : हाइप्रोफाइल लोगों के Account Hack, हिमाचल ने जारी की एडवाइजरी

IIT Delhi ने बनाई कोरोना टेस्टिंग किट, सिर्फ तीन घंटे में निकालेगी Result

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

HPBOSE ने जारी की D.El.Ed. Part-I and Part-II की अनुपूरक परीक्षा की डेटशीट, यहां देखें

SOS की मिडल, मैट्रिक तथा जमा दो की परीक्षाओं के लिए करें Online पंजीकऱण

CBSE : दसवीं कक्षा का Result घोषित, 91.46 फीसदी रहा Result

D.El.Ed CET प्रवेश परीक्षा के लिए इस तरह प्राप्त करें अपना Admit Card

CBSE : सस्पेंस खत्म कुछ देर बाद जारी होगा दसवीं का Result से, ऐसे करें चैक

CBSE : 12वीं का परीक्षा परिणाम घोषित, 88.7 फीसदी रहा Result

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट हुआ आउट: यहां चेक करें

कल दोपहर 3 बजे घोषित होगा ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट

बड़ी खबरः अब 12 को नहीं होगी D.El.Ed CET प्रवेश परीक्षा, कब होगी-जानिए

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने TET के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई, कल तक कर सकते हैं आवेदन

CBSE ने सिलेबस से हटाए राष्ट्रवाद, Secularism जैसे Chapters,और भी बहुत कुछ

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है