Covid-19 Update

40,518
मामले (हिमाचल)
31,548
मरीज ठीक हुए
636
मौत
9,457,551
मामले (भारत)
63,286,254
मामले (दुनिया)

मिर्जापुर: अब तक अड़ी हैं प्रियंका, गेस्ट हाउस में बिजली काट कर शाजिश रच रही सरकार!

मिर्जापुर: अब तक अड़ी हैं प्रियंका, गेस्ट हाउस में बिजली काट कर शाजिश रच रही सरकार!

- Advertisement -

मिर्जापुर। यूपी (पूर्व) के लिए कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) को आज नारायणपुर में पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया था। जमीन विवाद में सोनभद्र में 10 लोगों की हत्या (Sonbhadra’s firing case) के बाद प्रियंका गांधी पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए वहां जा रही थीं। हिरासत में लेने के बाद उन्हें चुनाव गेस्ट हाउस
(Chunar Guest House) ले जाया गया। जहां पर वो वहां अभी तक कार्यकर्ताओं के साथ धरने (dharna) पर अड़ी हुई हैं। सूत्रों के मुताबिक प्रियंका गांधी मिर्जापुर में ही रात में रुक सकती हैं। इस सारे मसले के बीच गेस्ट हाउस की बिजली भी गुल हो गई है। इस मसले पर स्थानीय कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि चूनार गेस्ट हाउस में प्रशासन बिजली में कटौती करना चाहता है।

यह भी पढ़ें: क्लाइमैक्स पर आकर 2 दिन के लिए ठहरा कर्नाटक का नाटक, सोमवार तक सदन स्थगित

कार्यकर्ताओं का कहना है कि प्रशासन प्रियंका गांधी को परेशान करना चाहता है, जिससे वे जगह छोड़कर चली जाएं। लेकिन हम मोमबत्ती लेकर ही विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे। वहीं प्रियंका गांधी के हिरासत में लिए जाने पर उनके भाई और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए एक वीडियो शेयर किया है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में प्रियंका गांधी को गैर-कानूनी तरीके गिरफ्तार करना विचलित करने वाला है। उन्हें मारे गए 10 आदिवासियों के परिवार जिन्होंने अपनी जमीन खाली करने से इनकार कर दिया था से मिलने से रोकना सत्ता का दुरुपयोग है। यह भाजपा सरकार की बढ़ती असुरक्षा का खुलासा करती है।

यह भी पढ़ें: बिहार में ब्लैक फ्राइडे: गड्ढे में नहाने गए 5 बच्चे डूबे, सभी की मौत

वहीं दूसरी तरफ प्रियंका के पति रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) ने अपनी पत्नी की गिरफ्तारी के खिलाफ फेसबुक पोस्ट में विरोध दर्ज कराया है। वाड्रा ने फेसबुक पोस्ट और ट्वीट कर लिखा है, ‘जिस तरह से मेरी पत्नी व कांग्रेस नेता प्रियंका जी का गिरफ्तार किया जाना जो कि बिना किसी कारण है और गिरफ्तारी के लिए ना ही कोई दस्तावेज पेश किया जाना यह कानून की धज्जियां उड़ाने जैसा है। क्या मृतकों के परिवारजनों से मिलना गैर कानूनी है? क्या सरकार उस हर आवाज को दबा देना चाहती है जो सच को उजागर करती है? यह सरासर लोकतंत्र की हत्या जैसा है, उत्तर प्रदेश सरकार को यह चाहिए कि वे तुरंत उन्हें रिहा करें और लोकतंत्र को लोकतंत्र ही रहने दें तानाशाही ना बनाएं।’

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है